Posts

रूसी वैक्सीन भी 95% असरदार; रूस के लोगों के लिए फ्री, बाकि देशों को 700 रुपये से कम में मिलेगी

Image
रूस में बनी वैक्सीन स्पुतनिक वी ट्रायल के दौरान कोरोना से लड़ने में 95% असरदार साबित हुई है। क्लिनिकल ट्रायल के दूसरे अंतरिम एनालिसिस के डेटा में यह बात सामने आई है। पहला डोज देने के 28 दिन बाद इस वैक्सीन ने 91.4% इफेक्टिवनेस दिखाई थी। पहले डोज के 42 दिन बाद यह बढ़कर 95% हो गई। वैक्सीन को बनाने वाले गैमेलिया नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबॉयोलॉजी ने यह दावा किया है। वैक्सीन के दो डोज 39 संक्रमितों के अलावा 18,794 दूसरे मरीजों को दिए गए थे। भारत में इस वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल डॉ. रेड्डी लैबोरेट्रीज कर रही है। मंगलवार को इस वैक्सीन की कीमत भी सामने आ गई है। रूस के लोगों को यह फ्री में मिलेगी। दुनिया के दूसरे देशों के लिए इसकी कीमत 700 रुपये से कम होगी। विदेश में वैक्सीन के प्रोडक्शन और प्रमोशन का काम देख रहे रशियन डायरेक्टर इन्वेस्टमेंट फंड (RDIF) के हेड किरिल दिमित्रिएव ने बताया कि स्पुतनिक वी की संभावित कीमत दूसरी वैक्सीन के मुकाबले काफी कम है। दूसरी वैक्सीन के मुकाबले काफी सस्ती RDIF की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, इंटरनेशनल मार्केट के लिए स्पुतनिक वी वैक्सीन

भारतीय विदेश सचिव हर्षवर्धन 26 नवंबर को नेपाल जाएंगे, दो दिन के दौरे में पीएम ओली से भी मुलाकात होगी

Image
रॉ और आर्मी चीफ के बाद अब विदेश सचिव भी नेपाल जाएंगे। नेपाल की तरफ से इस विजिट की पुष्टि कर दी गई है। भारतीय विदेश सचिव हर्ष वर्धन श्रंगला 26 और 27 नवंबर को नेपाल की राजधानी काठमांडू में रहेंगे। इस दौरान वे नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली से भी मुलाकात कर सकते हैं। इसके अलावा श्रंगला नेपाल के विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री से भी मिलेंगे। दोनों देशों के बीच डेलिगेशन लेवल बातचीत होने की भी संभावना है। कुछ दिन पहले भारतीय खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग यानी रॉ के चीफ सामंत कुमार गोयल ने नेपाल की यात्रा की थी। इसके बाद आर्मी चीफ जनरल नरवणे नेपाल गए थे। गोयल की गुप्त काठमांडू यात्रा पर नेपाल के कुछ नेताओं ने सवाल उठाए थे। नेपाल ने दिया न्योता नेपाल के की तरफ से जारी बयान में कहा गया- हमारे विदेश सचिव भरत राज पौडेल ने भारतीय विदेश सचिव हर्ष वर्धन श्रंगला को देश आने का न्योता दिया है। वे दो दिन की यात्रा पर यहां आ रहे हैं। यह दोनों देशों के बीच हाई-लेवल बातचीत की कड़ी में अगला कदम है। इससे दोनों देशों के रिश्ते मजबूत करने में मदद मिलेगी। श्रंगला विदेश सचिव बनने के बाद पहली बार न

अमेरिकी राष्ट्रपति ने सत्ता हस्तांतरण को हरी झंडी दी, बाइडेन को अब खुफिया जानकारी भी मिल सकेगी

Image
चुनाव नतीजे साफ होने के करीब 20 दिन बार अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प सत्ता हस्तांतरण यानी पावर ट्रांजिशन के लिए तैयार हो गए हैं। हालांकि, उन्होंने अब तक न तो औपचारिक तौर पर हार स्वीकार की है और न ही प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन को जीत की बधाई दी है। बहरहाल, सत्ता हस्तांतरण के लिए तैयार होने का मतलब ही यही है कि ट्रम्प को अब व्हाइट हाउस छोड़ना होगा। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे 3 नवंबर को आए थे। इसके बाद कानूनी पैतरों के जरिए ट्रम्प व्हाइट हाउस में बने रहने की कोशिश कर रहे हैं। जनरल एडमिनिस्ट्रेशन एक्टिव हुआ अमेरिका में सत्ता हस्तांतरण की जिम्मेदारी फेडरल एजेंसी जनरल सर्विएस एडमिनिस्ट्रेशन यानी GSA की होती है। CNN की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सोमवार रात ट्रम्प ने जीएसए की हेड ऑफ द डिपार्टमेंट एमिली मर्फी को यह आदेश दिए कि वे ट्रांजिशन की शुरुआत करें। हालांकि, ट्रम्प ने ये भी साफ कर दिया कि वे चुनाव और मतगणना में हुई धांधली के खिलाफ अपनी जंग जारी रखेंगे। मर्फी की सराहना ट्रम्प ने कहा- मैं एमिली मर्फी और उनकी टीम को देश के लिए की गई उनकी कामयाब कोशिशों और लगन के लिए बधाई देत

WHO की जांच टीम जल्द चीन जाएगी, अमेरिका में एक हफ्ते में मरने वालों का आंकड़ा 10 हजार से ज्यादा हुआ

Image
दुनियाभर में अब तक 5.94 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 4.11 करोड़ लोग ठीक हो चुके हैं, जबकि 14.01 लाख लोगों की जान जा चुकी है। अब 1.69 करोड़ मरीज ऐसे हैं जिनका इलाज चल रहा है, यानी एक्टिव केस। ये आंकड़े https://ift.tt/2VnYLis के मुताबिक हैं। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन यानी WHO ने कई महीनों तक टालने के बाद आखिरकार विदेशी एक्सपर्ट्स की एक टीम चीन भेजने का फैसला किया। यह टीम वहां कोरोनावायरस के फैलने की जांच करेगी। अमेरिका में एक हफ्ते में मरने वालों की संख्या 10 हजार से ज्यादा हो गई है। WHO का फैसला WHO ने सोमवार रात कहा कि उसने दुनिया के हेल्थ एक्सपर्ट्स और संक्रामक बीमारियों की विशेषज्ञों की एक टीम चीन भेजने का फैसला किया है। न्यूज एजेंसी एएफपी के मुताबिक, यह टीम इस बात का पता लगाएगी कि चीन में वायरस कैसे फैला और इसका मुख्य सोर्स क्या था। इस सवाल का जवाब भी खोजा जाएगा कि यह बीमारी किसी जानवर से इंसानों तक पहुंचीं या इसकी कोई और वजह है। संगठन के इमरजेंसी डायरेक्टर माइकल रायन ने कहा- हमें पूरी उम्मीद है कि चीन सरकार इस टीम को तमाम सुविधाएं मुहैया कराएगी। इस टीम मे

‘वर्ड ऑफ द ईयर’ नहीं चुन पाई ऑक्सफाेर्ड डिक्शनरी, प्रकाशक ने कहा: काेराेना काल में शब्द भी खौफ में रहे

Image
काेराेना महामारी ने ऑक्सफाेर्ड डिक्शनरी काे भी गफलत में डाल दिया है। डिक्शनरी अस्थिरता भरे काेराेना साल का ‘वर्ड ऑफ द ईयर’ नहीं चुन पाई है। उसने बेमिसाल 12 महीने बताते हुए वर्ड ऑफ द ईयर के बजाय इस साल शब्दों की सूची जारी की है। ऑक्सफाेर्ड डिक्शनरी प्रकाशित करने वाली कंपनी ऑक्सफाेर्ड लैंग्वेजेस ने माना है कि महामारी ने अंग्रेजी भाषा पर बहुत ताबड़ताेड़ और व्यापक प्रभाव डाला है। प्रेसिडेंट कास्पर ग्रैथव्हाेल कहते हैं, ‘हमने भाषा की दृष्टि से ऐसा साल कभी नहीं देखा। हर साल हमारी टीम सैकड़ाें नए शब्दों और उनके प्रयाेगाें की पहचान करती है, लेकिन 2020 ने हमें नि:शब्द कर दिया है। इसमें इतने शब्द आ गए हैं कि चुनना मुश्किल हो रहा है। दरअसल, ऑक्सफाेर्ड लैंग्वेजेस हर साल अंग्रेजी भाषा का शब्द चुनती आई है, जिसका दुनियाभर में व्यापक उपयाेग बढ़ा हाे। यह ऑक्सफाेर्ड के 1100 करोड़ शब्द संग्रह में से चुना जाता है। अब तक सेल्फी, वैप, अनफ्रेंड और टाॅक्सिक शब्द चुने गए। पिछले साल यह क्लाइमेट इमरजेंसी था, लेकिन 2020 आया और कंपनी ने एक शब्द चुनने से परहेज किया। कंपनी की हेड ऑफ प्राेडक्ट कैथरीन काॅन्नाॅर मार

खत्म होगी पति-पत्नी के एक ही सरनेम की बाध्यता, यूएन भी इस कानून के विरोध में था

Image
जापान में मौजूदा कानून के तहत पति और पत्नी का एक ही सरनेम होना जरूरी है। अगर शादी से पहले दोनों के अलग-अलग सरनेम हैं तो शादी बाद एक ही सरनेम चुनना होता है। लेकिन, अब स्थिति बदलने वाली है। जापान के प्रधानमंत्री योशिंदे सुगा ने देश को आश्वासन दिया है कि वे इस नियम में बदलाव के प्रति समर्पित हैं। पति और पत्नी द्वारा एक ही सरनेम रखने की बाध्यता के कारण अक्सर महिलाओं को बदलाव के बाध्य होना पड़ता है। लिहाजा, इस कानून को महिला विरोधी भी कहा जा रहा है। महिलाओं के खिलाफ हिंसा के खात्मे के लिए बनी संयुक्त राष्ट्र की समिति ने बी जापान ने इस कानून में बदलाव की सिफारिश की थी। इसके अलावा जापान का समान भी अब नियमों में बदलाव के पक्ष में है। हाल, ही में जापान में हुए एक सर्वे में यह बात सामने आई कि ज्यादातर लोग शादी के बाद भी सरनेम बरकरार रखने के पक्षधर हैं। इस सर्वे में 60 साल की उम्र से कम के जापानियों से सरनेम के बारे में पूछा गया था। 70.6 फीसदी लोगों ने कहा कि उन्हें इस बात से कोई दिक्कत नहीं होगी कि उसके पार्टनर का सरनेम अलग है। वहीं, 14.4 फीसदी लोग अब भी यह मानते हैं कि पति और पत्नी का सरनेम

इंटेलिजेंस चीफ के साथ 5 घंटे की गुप्त यात्रा पर सऊदी अरब पहुंचे नेतन्याहू, प्रिंस सलमान से मुलाकात

Image
मिडल ईस्ट में अमन बहाली की अमेरिकी कोशिशें रंग लाती दिख रही हैं। इजराइल से मिल रही मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने रविवार को सऊदी अरब का गुप्त दौरा किया। उनके साथ खुफिया एजेंसी मोसाद के चीफ योसी कोहेन भी मौजूद थे। नेतन्याहू और कोहेने सऊदी शहर नियोम पहुंचे। वहां अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पहले से मौजूद थे। इन सभी के बीच गोपनीय बातचीत हुई। दो महीने पहले इजराइल ने यूएई और बहरीन से कूटनीतिक संबंध बहाल किए थे। इसके बाद से माना जा रहा था देर-सबेर इजराइल और सऊदी अरब के बीच भी कूटनीतिक संबंध बनेंगे। बहरहाल, अब तक इजराइल या सऊदी अरब ने नेतन्याहू की यात्रा पर आधिकारिक तौर पर कोई बयान नहीं दिया है। एयर ट्रैवल रिकॉर्ड से पुष्टि इजराइली मीडिया ने उस ट्रैवल रिकॉर्ड को भी शेयर किया है, जो रविवार को तेल अवीव और नियोम वाया रियाद हुआ। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने सोमवार सुबह कहा- मेरी क्राउन प्रिंस सलमान से रविवार की मुलाकात काफी अच्छी रही। इसके पहले पोम्पियो इजराइल गए थे और फिर सऊदी अरब पहुंचे। हालांकि, पोम्पियो