इटली में दो वर्ल्ड वार झेलने वाले 101 साल के बुजुर्ग ने कोरोनो को मात दी, उनकी मां भी स्पेनिश फ्लू से रिकवर हुई थीं

लोम्बार्डी. दुनियाभर में फैले कोरोनावायरस संक्रमण के खौफ के बीच इटली से उम्मीद की खबर आई है। यहां के रेमिनि शहर में एक 101 साल केबुजुर्ग ने कोरोनावायरस को मात दी है। संक्रमण की चपेट में आने के बादपूरी तरहठीक होने वाले यह दुनिया के सबसे उम्रदराज पुरुष हैं। येबुजुर्ग दो बार वर्ल्ड वार का सामना भी कर चुकेहैं। हालांकि,बुजुर्ग का नाम नहीं बताया गया है, लेकिन लोग उन्हेंमिस्टर पीकह रहे हैं।रिपोर्ट्स के मुताबिक, मिस्टर पीको पिछले हफ्ते कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर रेमिनि के इन्फर्म हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।

मिस्टर पी की मां स्पेनिश फ्लू से संक्रमित होने के बाद बच गई थीं
मिस्टर पी के बारे में एक और खुलासा हुआ है कि1918 में उनकी मां स्पेनिश फ्लू सेसंक्रमित होने के बाद ठीक हो गईं थीं। स्पेनिश फ्लू ने इटली में करीब 6 लाख लोगों की जान ली थी। इसके बाद 1919 में मिस्टर पीका जन्म हुआ था। शिन्हुआ न्यूज एजेंसी ने बताया कि बुधवार को उनका परिवार उन्हें घर ले आया।

चीन और ईरान में 103 साल की दो महिलाओं ने भी कोरोना को मात दी थी
चीन के वुहान में 103 साल की बुजुर्ग महिला झांग गुआंगफेंक ने भी कोरोना को मात दी थी।कोरोना पॉजिटिव होने का पता लगते ही उन्हें भर्ती कराया गया। वे महज छह दिन में पूरी तरह ठीक हो गई थीं। वहीं, ईरान में भी एक 103 साल की बुजुर्ग महिला के कोरोना से पूरी तरह ठीक होने का मामला सामने आया था। उसकी पहचान नहीं हो पाई है। वह सेमनान शहर के अस्पताल में भर्ती थीं। पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद उन्हेंअस्पताल से छुट्‌टी दे दी गई।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
इटली में कोरोना संक्रमण ने कहर बरपा दिया है। वहां हजारों लोग संक्रमित हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2UkXyaG

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान