संक्रमण का उल्टा पैटर्न, 21-30 साल के युवा सबसे ज्यादा संक्रमित

इस्लामाबाद.कोरोनावायरस के संक्रमण के बीच पाकिस्तान से एक गंभीर बात सामने आई है। कोरोनावायरस से दुनियाभर में जहां 60 से ज्यादा की उम्र वाले अधिक संक्रमित हो रहे हैं वहीं,पाकिस्तान में संक्रमण का पैटर्न इससे उल्टा है। यहां 21-30 साल के युवाओं में तेजी से संक्रमण फैल रहा है। पाकिस्तान में अब तक संक्रमण के 1098 मामले सामने आए हैं। यहां आठ लोगों की मौत भी हो चुकी है।सिंध प्रांत सबसे ज्यादा प्रभावित है। अकेले सिंध में 413 मामले सामने आए हैं।
प्रधानमंत्री इमरान खान के स्पेशल असिस्टेंट डॉक्टर जफर मिर्जा ने कहा कि संक्रमण के 25 प्रतिशत मामले 21 से 30 साल के युवाओं के हैं। करीब 250 संक्रमितयुवा हैं। इसके बाद अलग-अलग उम्र समूह के लोग संक्रमितहैं। यह पैटर्न दूसरों देशों से बिल्कुल उल्टा है, जहां 60 से ऊपर की उम्र के लोग ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं।
बुधवार को टीवी पर ब्रीफिंग के दौरान मिर्जा ने कहा कि वायरस से संक्रमित होने वालों में 34 प्रतिशत पुरुष तो 36 प्रतिशत महिलाएं हैं। इसमें 7 प्रतिशत लोग ऐसे हैं, जिनमें संक्रमण लोकल ट्रांसमिशन सेफैला है। बाकी 93 प्रतिशत लोग विदेश से संक्रमित होकर आए हैं।

चीन में 81, 285 संक्रमित, इनमें 65 साल से ऊपर वाले 81,000
चीन में गुरुवार तक संक्रमण के कुल 81,285 मामले सामने आए हैं और 3287 लोगों की मौत हुई है। एक खास बात यह है कि चीन में 81,000 संक्रमित ऐसे हैं, जिनकी उम्र 65 साल या उससे अधिक है। पाकिस्तान डेली से बात करते हुए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के चीफ एपिडेमियोलॉजिस्ट (महामारी विशेषज्ञ) डॉ. राणा सफदर ने कहा कि पाकिस्तान में युवाओं की आबादी चीन की तुलना में कहीं अधिक है इसीलिए यहां युवाओं में संक्रमण के ज्यादा मामले सामने आए हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पाकिस्तान के हैदराबाद में लॉकडाउन के दौरान लोगों को मुफ्त खाना बांटते हुए वॉलंटियर।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2WJFHM9

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस