ब्रिटेन में बच्चे भी खतरे में, नवजात को पैदा होते हुए हुआ कोरोना; जांच में मां भी संक्रमित निकली

लंदन. यूके के नॉर्थ मिडिलसेक्स यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल में एक मां और नवजात कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार नवजात कोरोना से संक्रमित होने वाला सबसे छोटा मरीज है। फिलहाल एक को स्पेशलिस्ट सेंटर में रखा गया है, वहीं दूसरे को आइसोलेशन में भेजा गया है। कोरना के चलते अब तक दुनियाभर में 5436 मौतें हो चुकी हैं और एक लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं।

महिला को निमोनिया के चलतेबच्चे के जन्म से कुछ दिन पहले अस्पताल में भर्ती किया गया था। फिलहाल डॉक्टर कोशिश कर रहे हैं कि बच्चा जन्म के समय कोरोना का शिकार हुआ है या फिर मां के गर्भ में ही उसे संक्रमण हो गया था।

गुरुवार को मेडिकलएक्सपर्ट्स ने बताया कि गर्भवती महिला कोरोना से ग्रस्त बाकी लोगों की तरह नहीं दिख रही थी इसलिए इस बात के कोई सबूत नहीं मिलते कि बच्चा गर्भ में ही वायरस की चपेट में आ गया था।

वहीं, रॉयल कॉलेज ऑफ ऑब्सट्रीशियन्स एंड गायनेकोलॉजिस्ट, रॉयल कॉलेज ऑफ मिडवाइव्ज और रॉयल कॉलेज और पीडियाट्रिक्स एंड चाइल्ड हेल्थ ने बताया कि इस वायरस से कोई भी गर्भवती महिला की मौत नहीं हुई है। हालांकि उन्होंने कहा कि, प्रेग्नेंट महिला को कोरोनावायरस की पुष्टि या संदेह होने पर सावधानी के तौर पर ऑब्सटेट्रिक यूनिट में जाना चाहिए।

चीन में सबसे बुजुर्ग मरीज ठीक हुआ
न्यूयॉर्क पोस्ट के मुताबिक कोरोना का सबसे बुजुर्ग मरीज ठीक हो गया है। चीन के 100 साल के इस व्यक्ति को 24 फरवरी को हुबेई मेटर्निटी एंड चाइल्ड हेल्थ केयर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहां शनिवार को उसे अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Coronavirus: Children in Britain also at risk, corona to newborn| Mother also got infected


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2TOinLl

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस