डिलीवरी पूरा करने करने के लिए एक लाख लोगों को नौकरी देगा अमेजन

नई दिल्ली. दुनियाभर में कोरोना वायरस का खौफ देखने को मिल रहा है। कई देशों में स्कूल, कॉलेज, मॉल, दुकानें बंद होने के कारण लोग घरों में रहने को मजबूर हैं। ऐसे में लोग अपनी जरूरत का सामान खरीदने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग पर अधिक निर्भर हो रहे हैं जिसे देखते हुए ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन 1 लाख लोगों की हायरिंग करने की घोषणा की है। अमेजन की ओर से जारी बयान में कहा गया है अमेजन में उनके पास काफी संख्या में पेंडिंग ऑर्डर हैं, जिसे पूरा करने के लिए बड़ी संख्या में लोगों की जरूरत है। ऐसे में कंपनी 1 लाख लोगों को नौकरी देने पर विचार कर रही है। बता दें कि अमेजन यह नियुक्ति अमेरिका के लिए करने जा रहा है।


वेयर हाउस और डिलीवरी में काम करने वालों की तलाश
अमेजन को ऐसे लोगों की तलाश है जो वेयर हाउस और डिलीवरी के लिए कार्य करेंगे। कंपनी ने कहा कि वह संयुक्त राज्य अमेरिका में फिलहाल एक घंटे के 15 डॉलर (1108 रुपए के आसपास) देती है लेकिन नई भर्तियों को प्रति घंटे के आधार पर अधिक भुगतान देने के लिए कंपनी 350 मिलियन डॉलर (लगभग 2,592 करोड़ रुपए) खर्च करने जा रही है। बता दें कि कंपनी यूरोप और कनाडा में वेयरहाउस और डिलीवरी वर्कर्स के प्रति घंटे के वेतन में भी वृद्धि करेगा। ऐसी दिक्कत सिर्फ अमेजन का ही नहीं बल्कि अमेरिका के अन्य सुपर मार्केट क्रोगर औल रिले या फिर अल्बर्सटन भी अपने ऑर्डर पूरे करने के लिए स्टॉफ हायर करना पड़ रहा है।


अब तक हजारों की मौत
कोरोना वायरस से दुनियाभर में करीब 1.55 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं, जबकि 5,800 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। भारत भी इससे अछूता नहीं है। अब तक भारत में 100 से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 3 लोगों की मौत हो गई है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
corona ; coronavirus ; Amazon will employ one lakh people to complete delivery


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2WlkBDV

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस