राष्ट्रपति चुनाव पर कोरोना का असर, ब्रिटेन की तर्ज पर डेढ़ महीने का हो सकता है चुनाव,ऑनलाइन हो रहा है प्रचार

वाॅशिंगटन.काेराेना महामारी का असर अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावाें पर पड़ रहा है। डेलीगेट्स के चुनाव महामारी की वजह से टल गए हैं। पार्टियाें की रैलियां भी नहीं हाे पा रही हैं। उम्मीदवार चुनाव प्रचार की जगह अब लाेगाें की मदद में जुटे हैं। वे नेता कम, समाजसेवी के रूप में ज्यादा सक्रिय हैं।

व्हाइट हाउस से लेकर काउंटी काेर्टहाउस तक काेराेना ने चुनाव की पूरी प्रक्रिया काे ही एक तरह से उलट कर रख दिया है। राष्ट्रपति के लिए चुनाव इसी साल नवंबर में हाेने वाले हैं। इसके लिए प्रचार 20 महीने पहले शुरू हाे जाता है। जबकि अब सिर्फ 218 दिन ही बचे हैं। लेकिन इस बार यह ब्रिटेन में प्रधानमंत्री के चुनाव की तरह डेढ़ महीने का हाे सकता है।

काेराेना तय करेगा ट्रम्प का कार्यक्रम

डेमाेक्रेटिक पार्टी का कन्वेंशन जुलाई में हाेना है, लेकिन पार्टी नेताओंकाे इस पर संदेह है। उन्हें लगता है काेराेना का संक्रमण ऐसा ही रहा ताे पार्टी कन्वेंशन तय समय पर हाेना मुश्किल है। वहीं, राष्ट्रपति ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी का कन्वेंशन काेराेना बीमारी की स्थिति से तय हाेगा। महामारी काे देखते हुए चुनाव लड़ने वाले कांग्रेस, प्रांतीय और लाेकल डेलीगेट्स के सैकड़ाें उम्मीदवार पीड़िताें ओर अन्य लाेगाें की मदद में जुटे हैं।

महामारी ने राजनीति के मायने बदले

काेराेना के संकट ने अमेरिका में राजनीति के मायने ही बदल दिए हैं। इसका असर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवाराें की मतदाताओं से बातचीत, दानदाताओं से धन जुटाने के तरीके और अपने विरोधी उम्मीदवार की चुनाैती का सामना करने के तरीके पर भी दिखाई दे रहा है। उम्मीदवार अपने प्रचार के लिए साेशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं, क्याेंकि जनसभाओं से बीमारी फैलने का जोखिम है। जाे बाइडेन के पक्ष में वेब वीडियाे के जरिए सीधे वाेटराें से जुड़ रहे हैं। पूरा चुनाव प्रचार ऑनलाइन मीडिया पर आ गया है।

फर्जी विज्ञापन रोकना कठिन चुनाैती

फेसबुक, गूगल और ट्विटर जैसे साेशल मीडिया कंपनियाें के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावाें में अपने प्लेटफाॅर्म का दुरुपयाेग राेक पाना कठिन चुनाैती है। हाल में फेसबुक पर ईरान से एक फर्जी विज्ञापन संदेश प्राइवेट ग्रुप में भेजा गया। इसे फेसबुक की सिक्याेरिटी टीम ने बाद में हटाया। वहीं न्यूयॉर्क के पूर्व महापौर माइकल ब्लूमबर्ग के समर्थन वाला एक राजनीतिक विज्ञापन हटाया गया, जिसके लिए इंस्टाग्राम काे भुगतान किया गया था।

ट्रम्प ने कहा- हैरी और मर्केल की सुरक्षा का खर्च नहीं उठाएगा अमेरिका

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि अमेरिका ब्रिटेन के प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल की सुरक्षा का खर्च नहीं उठाएगा। हैरी और उनकी पत्नी मेगन के कनाडा से लाॅस एंजिलिस आने की खबर पर ट्रम्प ने रविवार को यह बात कही। ट्रम्प ने ट्वीट में लिखा, “मैं महारानी और ब्रिटेन का बहुत अच्छा दोस्त और प्रशंसक हूं। यह बताया गया था कि बकिंघम पैलेस छाेड़ चुके हैरी और मेगन कनाडा में स्थाई रूप से निवास करेंगे। अब वे अमेरिका में रहने के लिए कनाडा छोड़ चुके हैं। अमेरिका उनकी सुरक्षा के लिए भुगतान नहीं करेगा। उन्हें भुगतान करना होगा।’



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फाइल फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2JwcwUZ

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान