दुनियाभर में अभिवादन का तरीका बदला, ट्रम्प से लेकर ब्रिटेन के प्रिंस नमस्ते कर रहे

वॉशिंगटन/लंदन. कोरोनावायरस से संक्रमण के खतरे ने दुनियाभर में लोगों के अभिवादन के तरीके को बदलने पर मजबूर कर दिया। लोग अब अपने पारंपारिक स्वागत के तरीकों को छोड़ को 'नमस्ते' और 'कोहनी' मिलाने जैसे दूसरे तरीके अपना रहे हैं। इसका असर आम लोगों पर ही नहीं, बल्कि राष्ट्रअध्यक्षों पर देखा जा रहा है। गुरुवार को वॉशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और आयरलैंड के प्रधानमंत्री लियो वराडकर व्हाइट हाउस में ‘नमस्ते’कर एक दूसरे का भारतीय परंपरा से अभिवादन किया। उधर, बकिंघम पैसेल में भी प्रिंस चार्ल्स भी नमस्ते करते देखे गए।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब मीडिया ने पूछा कि क्या वे हाथ मिलाएंगे, तब वराडकर ने हाथ जोड़कर नमस्ते किया और पत्रकारों को दिखाया कि कैसे वह राष्ट्रपति का अभिवादन करेंगे। ट्रम्प ने भी हाथ जोड़कर नमस्ते किया। इससे पहले ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो के कम्युनिकेशन हेड ने ट्रम्प से मुलाकात की थी। बाद में पाया गया कि वह कोरोनावायरस से संक्रमित थे। हालांकि, व्हाइट हाउस ने कहा कि ट्रम्प को कोरोनावायरस टेस्ट कराने की जरूरत नहीं है।

इंग्लैंड : जगह- बकिंघम पैलेस, लंदन।

प्रिंस चार्ल्स और ब्रिटिश टीवी एंकर फ्लोएला बेंजामिन ने गुरुवार को नमस्ते कर एक दूसरे का अभिवादन किया।

जापान: जगह- प्रधानमंत्री आवास, टोक्यो।

प्रधानमंत्री शिंजे आबे और टोक्यो गवर्नर युरिको कोइके ने एक-दूसरे का इस तरह अभिवादन किया।

अमेरिका: जगह- अमेरिकी संसद।

हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव की स्पीकर नैंसी पैलोसी और आयरलैंड के प्रधानमंत्री लियो वराडकर।

मैक्सिको: जगह- चर्च, मेक्सिको सिटी।

चर्च में प्रार्थना सभा के दौरान महिला ने एक व्यक्ति से हाथ मिलाने से इनकार दिया।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
व्हाइट हाउस में गुरुवार को डोनाल्ड ट्रम्प और आयरलैंड के प्रधानमंत्री लियो वराडकर।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2w3OMED

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस