संक्रमण से हुई मौतों पर ब्राजील के राष्ट्रपति बोले- सॉरी, कुछ लोग मरेंगे; यही जीवन है

रियो डि जेनेरो, साओ पोलो.ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो ने शुक्रवार को कोरोनावायरस से होने वाली मौतों पर विवादित बयान दिया। उन्होंने कहा कि कुछ लोग मरेंगे, यही तो जीवन है। इसके साथ ही उन्होंने संक्रमण के कारण साओ पोलो में हुई मौतों पर संदेह जताया। उन्होंनें यहां के गवर्नर पर राजनीतिक लाभ लेने के लिए आंकड़ों से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया। साओ पोलो ब्राजील की अर्थव्यवस्था का केंद्र है। बोल्सोनारो कोरोनावायरस के कारण देश में लॉकडाउन लगाने के पक्ष में नहीं है। इससे पहले ब्राजील के गवर्नर ने राष्ट्रपति पर कोरोनावायरस से निपटने और सोशल डिस्टेसिंग से ज्यादा अर्थव्यवस्था की चिंता करने का आरोप लगाया था। ब्राजील में पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट की सलाह के बाद देश के 26 गवर्नरों ने गैर जरूरी व्यावसायिक गतिविधियां और सार्वजनिक सेवाओं को रोक दिया है।

कहा- ‘‘ट्रैफिक की वजह से मौत होने पर कार बनाना नहीं रोकते’’
बोल्सोनारो ने शुक्रवार रात एक इंटरव्यू में कहा, ‘‘मुझे माफ करें, कुछ लोग मरेंगे, यही जीवन है। ट्रैफिक की वजह से होने वाली मौतों की वजह से आप कार फैक्ट्री तो नहीं बंद कर सकते।’’बोल्सोनारो ने कहा कि साओ पोलो में संक्रमण से होने वाली मौतों का आंकड़ा कुछ ज्यादा ही है। हमें यह देखना होगा कि वहां क्या हो रहा है।राजनीतिक लाभ के लिए इसे नंबर गेम नहीं बनाया जा सकता।’’ ब्राजील में अभी तक संक्रमण के 3,477 मामले सामने आए हैं और 93 लोगों की मौत हुई है, इसमें साओ पोलो में अकेले 1,223 मामले और 68 मौतें हुई हैं। इससे पहले साओ पोलो के गवर्नर जोआाओ डोरिया ने बोल्सोनारो की गलत सूचनाएं देने, प्रतिबंधों की आलोचना करने और ‘ब्राजील कैन नॉट स्टाप’ (ब्राजील रुक नहीं सकता) नारे को बढ़ावा देने पर आलोचना की थी। इस तरह का नारा इटली के मिलान में सामने आया था।ब्राजील के न्याय मंत्रालय ने आने वाले सोमवार से सभी विदेशियों के एयरपोर्ट के माध्यम से देश में प्रवेश करने पर रोक लगा दी है।

पहले भी विवादों में रहें हैं बोल्सोनारो

बोल्सोनारो कई बार अपने आलोचकों के लिए विवादास्पद बयान दे चुके हैं।अपनी नीतियों और सोशल मीडिया पर ट्रम्प को फॉलो करने की वजह से उन्हें 2018 में अमेरिकी महाद्वीप का ट्रम्प कहा गया था।बोल्सोनारो सिर्फ नीतियों में ही नहीं, बल्कि विवादास्पद बयानों के मामले में भी ट्रम्प के काफी करीब माने जाते हैं। दोनों को महिलाओं के प्रति नफरत और विवादित नजरिया रखने वाला नेता माना जाता है। नजर डालते हैं बोल्सोनारो के ऐसे कुछ बयानों पर जिन पर विवाद पैदा हुआ।

1. चुनाव पर

बोल्सोनारो ने कहा था, “चुनाव में वोटिंग से देश में कुछ नहीं बदलेगा। असल बदलाव तभी आ सकता है अगर ब्राजील में गृहयुद्ध छिड़ जाए और उसमें राष्ट्रपति फर्नांडो के साथ 30,000 लोगों की मौत हो जाए।”

2. मानवाधिकार पर

ब्राजील में चली सैन्य तानाशाही की तारीफ करते हुए बोल्सोनारो ने 1999 में कहा था, “1964-85 के बीच पूरे सिस्टम में एक ही कमी रही कि तब लोगों को मारने के बजाय सिर्फ टॉर्चर किया जाता था। लेकिन, मैं टॉर्चर के पक्ष में हूं और लोग भी अपराधियों के टॉर्चर के पक्ष में हैं।”

2004 में एक बार फिर बोल्सोनारो ने टॉर्चर का पक्ष लिया, “ब्राजील की जेलें बेहतरीन जगह हैं। वे इसलिए बनाई गई हैं, ताकि अपराधी अपने पाप का हिसाब दे सकें, न कि एक स्पा की तरह यहां शान से अपनी जिंदगी काटें। जो लोग दुष्कर्म, अपहरण और हत्या जैसे काम करते हैं, उन्हें सजा मिलेगी, वे यहां छुट्टी के कैंप पर नहीं हैं।”

3. महिलाओंपर

2014 में महिला सांसद मारिया डो रोजारियो ने बोल्सोनारो को दुष्कर्म को बढ़ावा देने वाला नेता बताया, इस पर उन्होंने संसद में कहा,“मैं तुम्हारे साथ कभी दुष्कर्म नहीं करूंगा, क्योंकि तुम इसके लायक नहीं हो। मैं दुष्कर्मी नहीं हूं, लेकिन अगर होताभी तो रोजारियो के साथ दुष्कर्म नहीं करता, क्योंकि वह काफी गंदी दिखती है और मेरे टाइप की नहीं है।”

4. अंतरराष्ट्रीय रिश्तों पर

2019 में बोल्सोनारो के एक समर्थक ने फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों की 66 साल की पत्नी ब्रिजेट की ब्राजील के राष्ट्रपति की 36 साल की पत्नी मिशेल रेनाल्डो से तुलना की। इस पर बोल्सोनारो ने समर्थक का पक्ष लेते हुए कहा, “उसे (मैक्रों) शर्मिंदा न करें।”



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो। (फाइल)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3bws9rB

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस