जो लोग ठीक हुए, उनके प्लाज्मा से मरीजों का इलाज होगा; एक व्यक्ति से मिला प्लाज्मा तीन मरीजों को ठीक कर सकता है

न्यूयॉर्क टाइम्स से विशेष अनुबंध के तहत. क्या कोरोनावायरस के संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों का ब्लड इस महमारी से लड़ने में मदद करेगा? न्यूयॉर्क के डॉक्टर जल्द ही इस आइडिया की टेस्टिंग कोरोना के कारण गंभीर स्थिति में पहुंच चुके मरीजों पर करेंगे। डॉक्टरों का मानना है कि जो भी कोरोना पॉजिटिव अब पूरी तरह ठीक हो चुके हैं, उनका ब्लड एंटीबॉडीज का बड़ स्त्रोत हो सकता है। ब्लड के प्लाज्मा में एंटीबॉडीज होती हैं। दशकों से इसी प्लाज्मा की एंटीबॉडीज के जरिए संक्रमित बिमारियों को इलाज होता रहा है। इबोला और इनफ्लूएंजा जैसी बिमारी भी इसी प्लाज्मा के जरिए ठीक हुई है।


माउंट सिनाई हॉस्पिटल के प्रेसिडेंट और चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर डॉ. डेविड एल. रिक कहते हैं कि, 'जब तक इसकी टेस्टिंग नहीं हो जाती, तब तक यह कहना मुश्किल है कि यह कितना कारगर होगा' डॉ. रिक कहते हैं, 'इलाज के लिए इसकी टेस्टिंग की जानी चाहिए। हॉस्पिटल में भर्ती किए गए और सांस लेने में दिक्कत आने वाले किसी सामान्य मरीज पर इसकी टेस्टिंग हो सकती है। लेकिन, वे मरीज जो बेहद गंभीर स्थिति में पहुंच चुके हैं, उन पर यह प्रयोग नहीं करना चाहिए। सही समय पर सही मरीज चुनकर ही इसका टेस्ट किया जाना चाहिए।'


न्यूयॉर्क ब्लड सेंटर ही प्लाज्मा इकट्ठा करने और उसे यहां के हॉस्पिटल्स को बांटने का काम करेगा

न्यूयॉर्क ब्लड सेंटर के चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. ब्रूस साचेज कहते हैं, ‘मंगलवार को अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने कोरोनावायरस के इमरजेंसी वाले मामलों में प्लाज्मा का प्रयोग करने की मंजूरी दी और इसके ठीक बाद न्यूयॉर्क के हॉस्पिटल इस प्रयोग में हिस्सा लेने के लिए कहने लगे।’


डॉ. साचेज ने बताया, 'हमारी पहली कोशिश यही है कि जल्द से जल्द हॉस्पिटलों को अपने मरीजों का इलाज करने के लिए यह प्रोडक्ट मिल सके।' वे बताते हैं, ‘हमारे पास न्यू इंग्लैंड, डेलावेयर और मिडवेस्ट में भी ब्लड सेंटर हैं, इसलिए हम बाकी क्षेत्रों में भी यह काम कर सकते हैं। हम अन्य ब्लड सेंटर और अस्पतालों के साथ भी काम कर रहे हैं जो ब्लड इकट्ठा करने और ऐसा करने में सक्षम हैं। हम पूरे देश की मदद करने के लिए न्यूयॉर्क में पर्याप्त प्लाज्मा इकट्ठा नहीं कर सकते, इसलिए हम देशभर के अन्य ब्लड सेंटर के साथ यह साझा करना चाहते हैं, ताकि ज्यादा से ज्यादा जगहों पर यह सुविधा मिल सके।'


डोनर का चुनाव भी सावधानी से करना होगा

डॉ. रिक कहते हैं कि ‘वे मरीज जो बीमारी के दौरान कोरोना पॉजीटिव पाया गया हो, फिर ठीक हुआ हो, इसके बाद अगले 14 दिनों तक उसमें कोरोना के किसी तरह के लक्षण नहीं दिखाई दिए हों और अब उसकी रिपोर्ट पूरी तरह नेगेटिव हो, साथ ही उसके प्लाज्मा में कोरोना से लड़ने के लिए एंटीबॉडिज का भी अच्छा लेवल हो। ऐसे ही लोग का चुनाव प्लाज्मा डोनेट करने के लिए होगा। डॉ. रिक कहते हैं कि टेस्टिंग में देरी और कमी के कारण ऐसे लोगों की संख्या शुरुआत में कम ही रहेगी।


डोनर के एक हाथ से ब्लड निकाला जाएगा, इसमें से प्लाज्मा निकालकर दूसरे हाथ से ब्लड फिर से चढ़ा दिया जाएगा

डॉ. साचेज कहते हैं, 'जो भी लोग प्लाज्मा डोनर के क्राइटेरिया को पूरा करेंगे, उन्हें ब्लड सेंटर भेजा जाएगा। यह ब्लड डोनेट करने जैसी ही प्रक्रिया होगी, बस अंतर यह होगा कि मरीज के शरीर से निकाला गया ब्लड एक मशीन से गुजरेगा, जहां इसके प्लाज्मा को अलग कर लिया जाएगा और लाल व सफेद रक्त कोशिकाएं फिर से ब्लड डोनर के शरीर में पहुंचा दी जाएगी। डोनर के दोनों हाथों में सुई लगी होगी। एक हाथ से ब्लड निकाला जाएगा, यह मशीन से गुजरेगा और दूसरे हाथ से वापस यह डोनर के शरीर में पहुंचा दिया जाएगा। यह प्रक्रिया 60 से 90 मिनट लेगी।


साचेज कहते हैं, 'एक मरीज से इतना प्लाज्मा मिल जाएगा कि तीन अन्य मरीज ठीक हो सके। इससे डोनर को कोई नुकसान नहीं होगा, कोरोना से लड़ने के लिए उसके शरीर में पर्याप्त एंटीबॉडिज बनती रहेंगी। डोनर के शरीर से सिर्फ 20% एंटीबॉडीज ली जाएगी जो 2-4 दिनों में ही उसके शरीर में फिर से बन जाएगी।’


एक कोरोना संक्रमित मरीज के ब्लड में एक कप के बराबर प्लाज्मा पहुंचाया जाएगा

कोरोना संक्रमित मरीज के ब्लड में एंटीबॉडिज वाला प्लाज्मा देने से पहले इसका टेस्ट भी होगा। यह देखा जाएगा कि प्लाज्मा में हेपेटाइटिस या एचआईवी जैसी बीमारियां या ऐसे प्रोटीन जो रोग प्रतिरोध क्षमता को कमजोर करें वह तो समाहित नहीं हैं? अगर प्लाज्मा हर टेस्ट में पास होता है तो फिर इसे तुरंत यूज किया जा सकता है या इसे स्टोर (फ्रोजन) भी किया जा सकता है। कोरोना संक्रमित के हर मरीज को एक यूनिट प्लाज्मा दिया जाएगा, यह लगभग एक कप के बराबर होगा। इसे ब्लड की तरह ही मरीज के शरीर में पहुंचाया जाएगा। ब्लड के मामले में डोनर और रिसिवर का ब्लड ग्रुप एक जैसा होना चाहिए लेकिन प्लाज्मा के मामले में यह जरूरी नहीं होगा।


साचेज कहते हैं, 'हमे लगता है कि यह कोरोना संक्रमित कुछ मरीजों के लिए यह एक बेहतर इलाज हो सकता है, लेकिन वास्तव में अब तक हम कुछ नहीं जानते। उम्मीद है अगले कुछ हफ्तों में हम इससे जुड़ा डेटा हासिल कर पाएंगे। पहले मरीज पर हुए प्रयोग के परिणाम सही दिशा में हैं या नहीं, यही आगे की योजना का आधार बनेगा।

चीन में ज्यदातर मरीज इसी आधार पर ठीक हुए

डॉ. साचेज कहते हैं, 'हमारी उम्मीदें उन रिपोर्ट्स पर आधारित हैं, जिनमें चीन के ज्यादातर मरीजों को इसी तकनीक से ठीक होने की बात सामने आई है। जो भी लोग ठीक हुए हैं उनके प्लाज्मा में एक महीने के अंदर अच्छी संख्या में एंटीबॉडीज बन जाती है। एक जर्नल में छपे आर्टिकल के मुताबिक, चीन में प्लाज्मा के एक-एक यूनिट से 10 मरीजों के पूरी तरह ठीक होने की बात कही गई थी।’


एक रिसर्चर कहते हैं कि जीवित बचे लोगों के प्लाज्मा का उपयोग कोरोना संक्रंमितों में करने के समर्थन में पर्याप्त सबूत हैं। टेक्सास मेडिकल ब्रांच यूनिवर्सिटी के वायरलोजिस्ट विनित मेनाकरी बताते हैं, 'चार से आठ सप्ताह के अंदर इनके ब्लड में एंटीबॉडिज की प्रचूर मात्रा हो जानी चाहिए, जो कि वायरस को पूरी तरह निष्क्रिय कर देगा या ये कहें कि संक्रमण को थाम देगा।' चूहों पर हुए एक प्रयोग के आधार पर वे कहते हैं, ‘अगर आप वायरस के बढ़ने की गति को 10 से 100 गुना तक कम कर सकते हैं तो यह जीने और मरने के बीच अंतर पैदा कर सकता है।’


एक संभावित खतरा यह भी

विनित यह भी बताते हैं कि, ‘अच्छी मात्रा में एंटीबॉडीज वाले अच्छी संख्या में डोनर मिल जाते हैं तो कोरोना से लड़ने का यह एक प्रभावी तरीका बन जाएगा। हालांकि इसमें एक संभावित जोखिम भी है। अगर मरीज का इम्यून सिस्टम डोनर के प्लाज्मा के किसी तत्व के विरोध में प्रतिक्रिया करता है, तो इससे उसके अन्य किसी बिमारी से पीड़ित होने की संभावना रहेगी। हालांकि अस्पताल रोगियों के इलाज के बारे में जानकारी इकट्ठा करेंगे। प्रक्रिया एक प्रयोग के तौर पर बिल्कुल नहीं होगी।


सवाल: यह बीमारी से लड़ने का कोई उपाय है या नया प्रयोग करने का मौका?

डॉ. रिक कहते हैं, 'अभी लोग बहुत बीमार हैं, इस प्रयोग का यह सही समय नहीं है। लोगअस्पताल में हैं, वेंटिलेटर पर लेटे हुए हैं। मुझे लगता है कि यह सही समय बिल्कुल नहीं है।’ वे यह भी कहते हैं, ‘अगर कोई स्टीम रोलर आपकी ओर बढ़ रहा है तो आप निष्क्रिय होकर नहीं बैठना चाहेंगे। आप इससे लड़ने की कोशिश में जल्द से जल्द सारे उपाय अपनाएंगे। इन उपायों से मदद भी मिल सकती है और नुकसान भी बहुत हो सकता है। इन सब के बीच हमें यह जानना होगा कि यह बीमारी से लड़ने के लिए अपनाई गई है या लोगों को अलग-अलग चीजों को आजमाने का मौका मिला है।


कोरोना से ठीक हुए लोग मदद करने के लिए उत्साहित

डॉ. साचेज कहते हैं, 'जो लोग कोरोना के संक्रमण से ठीक हो गए हैं, वे मदद के लिए उत्साहित हैं। हमें ऐसे कई निवेदन मिल रहे हैं। एक सेंटर ने मरीजों पर सर्वे कराया, जिसमें सैकड़ों लोगों ने प्लाज्मा डोनेट करने की इच्छा जताई। यह कोशिश लोगों को एक साथ लेकर आएगी। जो लोग इस महामारी से बच रहे हैं वो अपने बाकी साथियों को भी इससे उबारना चाहते हैं।'



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
चीन में कोरोनावायरस के संक्रमण से ठीक होने के बाद सैकड़ों लोग ब्लड प्लाज्मा डोनेट कर रहे हैं। - फाइल


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2QQktZj

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान