काेराेना के डर से माता-पिता दूसरे टीके लगवाने भी नहीं जा रहे अस्पताल, दुनियाभर में 10 कराेड़ बच्चाें पर बीमारियाें का खतरा

जेन हाॅफमैन.काेराेनावायरस के चलते लगाए गए लाॅकडाउन से हर गतिविधि थम गई है। परिजन कोरोना के डर से डाॅक्टराें के पास नहीं जा रहे औरगंभीर बीमारियाें से बचाने के लिए कराेड़ाें बच्चाें काे टीके नहीं लग पा रहे हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञाें काे डर है कि इस तरह परिजन दूसरी स्वास्थ्य समस्या का बीज बाे रहे हैं।

टीकाकरण की दर खतरनाक रूप से घटी है, इससे कराेड़ाें बच्चाें में चेचक, कुकर खांसी औरजीवन काे खतरे में डालने वाली अन्य बीमारियाें का खतरा पैदा हाे गया है। संक्रामक राेगाें पर बनी अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स कमेटी के सदस्य डाॅ. सीन टी. ओ’लीरी के मुताबिक, ‘यदि टीकाकरण में ऐसी ही गिरावट बनी रही ताे आशंका है कि काेविड-19 के साथ टीकाें से राेकी जाने वाली बीमारियाें भी फैलने लगें।’
पीडियाट्रिक इलेक्ट्राॅनिक हेल्थ रिकाॅर्ड्स कंपनी द्वारा अमेरिका के 1000 क्लिनिक से जुटाई गई जानकारी के अनुसार 16 फरवरी के मुकाबले अप्रैल के पहले हफ्ते में चेचक, गलगंड राेग और रूबेला के टीकाकरण में 50%,डिप्थीरिया औरकुकर खांसी के टीकाें में 42% और एचपीवी के टीकाकरण में 73% की गिरावट आई है।

यही नहीं, सरकार द्वारा निशुल्क लगाए जाने वाले टीकाें में भी मार्च की शुरुआत से ही गिरावट देखी गई। यूनिसेफ और डब्ल्यूएचओ के अंतरराष्ट्रीय संगठन ने हाल ही में रिपाेर्ट में बताया था कि दाे दर्जन से अधिक देशाें में राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम राेकना पड़ा है। इससे करीब 10 कराेड़ बच्चे बीमारी के मुहाने पर खड़े हैं। सेंटर फाॅर डिसीज कंट्राेल एंड प्रिवेंशन ने डाॅक्टराें से अपील की है कि वे बच्चाें का टीकाकरण शेड्यूल बनाए रखें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिका में वैक्सीन यूनिट भेजी जा रही।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3cMxXOw

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान