सोने की खदान ढहने से हादसा, अवैध ढंग से खुदाई के लिए पहुंचे थे 12 लोग, 9 की मौत

इंडोनेशिया के सुमात्रा में रविवार को एक सोने की खदान ढहने से उसमें दबकर नौ लोगों की मौत हो गई। हादसा सुमात्रा के साउथ सोलोक में हुआ। यहां करीब 12 लोग सोना निकालने के लिएएक पुरानी खदान को खोद रहे थे। इसी दौरान खदान ढह गई। सभी उसमें दब गए। दरअसल, इस क्षेत्र में उपनिवेश काल के समय कई सोने की खदानें थीं, अभी ये खदानें बेकार हो गई हैं। बावजूद इसके कई बार लोग इन्हीं खदानों में सोने की तलाश में अवैध रूप से खुदाई करते रहते हैं।


सुमात्रा जिले के फिरदौस फरमान ने न्यूज एजेंसी एएफपी को बताया, "आठ पुरुष और एक महिला खुदाई के दौरान भूस्खलन में दब गए। हमने आज सुबह उनके शव निकाले हैं।"

बारिश की वजह से निकालने में देरी हुई- अधिकारी

उन्होंने बताया कि खदान में खुदाई करने 12 लोग गए थे। इस दौरान खदान ढह गई। इसमें 9 लोग दब गए। बाकी लोगों ने इसकी जानकारीस्थानीय अधिकारियों को दी। ये सभी किसान हैं। वे बिना किसी सुरक्षा उपकरण के खदान खोद रहे थे। रेस्क्यू करने के समय बारिश होने से काफी मुश्किलें आईं। इसके बाद सभी को निकाला गया, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

इंडोनेशिया मेंकई खदानें अवैध और बिना लाइसेंस वाली हैं
पुलिस और स्थानीय आपदा एजेंसी मामले की जांच कर रही है। खनिजों से समृद्ध इंडोनेशिया मेंकई खदानें अवैध और बिना लाइसेंस वाली हैं। इस कारण यहां लगातार हादसे होते रहते हैं। 2019 की शुरुआत में उत्तरी सुलावेसी के बोलांगंग मोंगोंडो क्षेत्र मेंखदान धंसने से 16 लोगों की मौत हो गई थी। इस तरह के हादसे में कुछ माह पहले भीं पांच लोगों की मौत हुई थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
इंडोनेशिया के सुलावेसी के बोलांगंग मोंगोंडो क्षेत्र में 2019 की शुरुआत में भी एक खदान धंसने से 16 लोगों की मौत हो गई थी। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3ai0iud

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस