महामारी ने 20 साल तक चले वियतनाम युद्ध से ज्यादा अमेरिकियों की जान ली, सीआईए ने कहा- ट्रम्प ने 12 चेतावनियों को किया था नजरअंदाज

कोरोनावायरस से अमेरिका में 59,266 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका में 20 साल चले वियतनाम युद्ध में इतने अमेरिकियों की जान नहीं गई थी, जितनी कोरोनावायरस महामारी के चलते चली गई। महामारी में ट्रम्प प्रशासन की तैयारियां न होने के चलते लगातार उनकी आलोचना हो रही है। सीआई के अधिकारियों ने बताया है कि चीन में वायरस फैलने पर करीब 12 बार ट्रम्प को इस वायरस से संबंधित चेतावनी दी गई थी, लेकिन वे लगातार इसको नजरअंदाज करते रहे। परिणाम यह है कि अब कोरोना महामरी ने अमेरिका को जकड़ लिया है।

ट्रम्प ने फिर से चीन पर निशाना साधा है। हालांकि, चीन ने जवाब देते हुए कहा कि अमेरिकी नेता झूठ बोल रहे हैं। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘उनका केवल एक ही उद्देश्य है। अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए दूसरों को दोष देना।’’वियतनाम युद्ध नंवबर 1955 में शुरू हुआ था और यह 1975 तक चला था। इस युद्ध में अमेरिका को अपने करीब 58,000 सैनिकों को खोना पड़ा था।

सीआईए ने बताया था कि चीन में फैला वायरस बहुत घातक है
अमेरिका की सेंट्रल इंटेलीजेंस एजेंसी (सीआईए) ने चीन में कोरोनावायरस सामने पर पर ट्रम्प को एक्शन लेने के लिए 12 बार चेतावनी दी थी। ट्रम्प हर बार उसकी अनदेखी करते रहे और महामारी ने अमेरिका को जकड़ लिया। इंटेलीजेंस के अधिकारियों ने अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट को बताया कि जनवरी और फरवरी के माह में दी गई चेतावनियों पर ट्रम्प ने कोई ध्यान नहीं दिया। चेतावनी दी गई कि चीन में फैल रहे कोरोनावायरस का संक्रमण बहुत घातक है और चीन यह बात छुपा रहा है। ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया। इस पर भी ट्रम्प ने कोई ध्यान नहीं दिया।

ट्रम्प ने कहा- हमने ज्यादा टेस्टिंग की इसलिए ज्यादा मामले
राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा कि अमेरिका में दुनियाभर के देशों के मुकाबले अधिक टेस्ट हुए हैं। यही वजह है कि अमेरिका में कोविड-19 के अधिक मरीज सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम अपने डॉक्टरों और वैज्ञानिकों पर पूरा भरोसा करते हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि कई मामलों में हमने बेहतर फैसले लिए हैं। जैसे कि विशेषज्ञों के विरोध के बावजूद हमने अपने देश की सीमाओं को बंद कर दिया।

नवंबर में होने है राष्ट्रपति चुनाव
अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए नंवबर में चुनाव होने हैं। हालांकि, अभी तक 15 राज्यों ने अपने यहां राष्ट्रपति चुनाव से पहले होने वाले प्राइमरी चुनाव टाल दिए हैं। इनमें से अधिकतर ने इन चुनावों को जून तक के लिए टाला है। आने वाले चुनावों में डोनाल्ड ट्रम्प को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। अधिकतर अमेरिकी लोग कोरोनावायरस पर ट्रम्प की तैयारियों को लेकर खफा है। लोगों के साथ ही डॉक्टरों और विशेषज्ञों का भी कहना है कि ट्रम्प ने बेहत खराब ढंग से इस स्थिति का सामना किया है। उनकी तैयारियां न होने की वजह से अमेरिका को आज यह भुगतना पड़ रहा है।

अमेरिका में दस लाख से ज्यादा संक्रमित
अमेरिका में अब तक दस लाख 35 हजार 765 लोग संक्रमित हो चुके हैं। साथ ही 59 हजार 266 लोगों की मौत भी हुई है। साथ ही एक लाख 42 हजार 238 लोग ठीक भी हुए हैं। न्यूयॉर्क और न्यूजर्सी बुरी तरह प्रभावित है। अकेले न्यूयॉर्क में संक्रमण के तीन लाख से ज्यादा मामलों की पुष्टि हो चुकी है, जबकि 22 हजार की मौत हो चुकी है। न्यूजर्सी में भी संक्रमण के एक लाख से ज्यादा केस सामने आए हैं। यहां छह हजार से ज्यादा लोग मारे गए हैं। मैसाचुसेट्स, इलिनॉयस, कैलिफोर्निया और पेंसिल्वेनिया ऐसे राज्य हैं जहां अब तक 40 हजार से ज्यादा केस हो चुक हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिका के मियामी में एक मास्क लगाए एक बस ड्राइवर व्हीलचेयर पर बैठे यात्री को चढ़ने में मदद करता हुआ।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3aMB9YX

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस