37 देशों के 11 करोड़ 70 लाख बच्चों को टीकाकरण की जरूरत, 24 देशों में वैक्सीनेशन लगभग बंद

कोरोनावायरस महामारी के बीच दुनिया के37 देशों के 11 करोड़ 70 लाख बच्चे टीकाकरण से वंचित हैं। इन्हें जीवन रक्षक खसरे से बचावका टीका लगना है। लेकिन कोरोना महामारी के चलते यह कार्य लगातार प्रभावित हो रहा है। ये बच्चे दुनिया के कई ऐसे क्षेत्रों में रहते हैं, जहां खसरे और रूबेला का प्रकोप अब भी है। संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनिसेफ और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंगलवार को कहा कि 24 देशों में टीकाकरण का काम लगभग बंद है। 13 देशों में भी यह कार्यक्रम प्रभावित हुआ है।

खसरे के टीके की शुरुआत 1963 में हुई थी।इस बीमारी की चपेट में हर साल औसतन 2 करोड़ से ज्यादा बच्चे आते हैं।

खसरा और रूबेला जैसी बीमारियों से निपटने के लिए काम करने वाली वैश्विक संस्था ‘मीजल्स एंड रूबेला इनिशिएटिव’ (एम एंड आरआई) ने संयुक्त बयान में कहा है कि कोरोनावायरस की महामारी के दौरान टीकाकरण के कार्यक्रम को जारी रखना जरूरी है। एम एंड आरआई के मुताबिक, जिन क्षेत्रों में कोरोना का खतरा अभी बहुत ज्यादा है, वहां इसके काम को कुछ दिनों के लिए रोका जा सकता है, लेकिन इसका यह मतलब कतई नहीं कि इसे पूरी तरह बंद कर दिया जाए।

साल 2018 में खसरा की वजह से 1 लाख 40 हजार बच्चों की मौत हुई थी।

5 साल तक के बच्चों में खसरा का खतरा ज्यादा
खसरा भी वायरस से होने वाली एक अत्यधिक संक्रामक बीमारी है। इसलिए इसके लिए चलाए जा रहे कार्यक्रम को अधिक समय के लिए टाला नहीं जा सकता है। खसरे के टीके की शुरुआत 1963 में हुई। पहले यह महामारी लगभग हर 2-3 साल में होती थी। खसरा से सबसे ज्यादा प्रभावित बच्चे 5 साल से कम उम्र के होते हैं। औसतन 2करोड़ 60 लाखबच्चे इस बीमारी की चपेट में आते हैं। साल 2018 में खसरा की वजह से 1 लाख 40 हजार बच्चों की मौत हुई थी।

210 देशाें में कोरोना का आतंक

दुनिया के 210 देशों में कोरोनावायरस का संक्रमण है। अब तक 19 लाख 88 हजार 770 लोग इसकी चपेट में हैं। एक लाख 26 हजार की मौत हो चुकी है। राहत की बात ये कि इसी दौरान चार लाख 66 हजार 948 संक्रमित स्वस्थ भी हुए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
एम एंड आरआई के मुताबिक, जिन क्षेत्रों में कोरोना का खतरा अभी बहुत ज्यादा है, वहां इसके काम को कुछ दिनों के लिए रोका जा सकता है, लेकिन पूरी तरह बंद नहीं किया जा सकता है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3ciTptZ

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस