केरल के बुजुर्ग दंपती ने 93 और 88 साल की उम्र में कोरोना को हराया, पोते ने कहा- बगैर जिम गए दादा की सिक्स पैक बॉडी

दुनियाभर में कोरोनावायरस से सबसे ज्यादा बुजुर्गों की मौत हो रही है। ऐसे में केरल के 93 साल के थॉमस अब्राहम और उनकी 88 साल की पत्नीमरियम्मा ने कोरोना को मात देकर डॉक्टरों को चौंका दिया। यह दोनों पिछले महीने इटली से लौटे बेटे, बहू और पोते के संपर्क में आने की वजह से संक्रमित हुए थे। हालांकि, अब परिवार के पांचों सदस्य संक्रमण मुक्त हो गए हैं।

बुजुर्ग दंपति के स्वस्थहोने का राज उनकी जीवनशैलीहै। इसका खुलासा दंपति के पोतेरिजो मोनसी ने किया। रिजो बताते हैं कि 93 साल के उनके दादा ने बिना जिम गए सिक्स पैक बॉडी बनाई है। कभी शराब या सिगरेट को हाथ नहीं लगाया।

आईसोलेशन में भी खानेका रखा ध्यान
केरल के पथानामथिट्टा जिले के रहने वाले थॉमस किसान हैं। रिजो के मुताबिक आइसोलेशन के दौरान उनके दादा-दादी ने हमेशा सादा और पौष्टिकखाने पर ध्यान दिया। दादा पझनखानजी(चावल से बनी डिश)खाना पसंद करते हैं। यह केरल का प्रसिद्ध भोजन है। यह दलिया और चावल को मिलाकर बनता है। इसके अलावा फल और कटहल की सब्जी खाते थे जबकिदादी मछली-कड़ी खानापसंद करती हैं।

बुजुर्ग दंपती जल्द अस्पताल से डिस्चार्ज होगी

बुजुर्ग दंपति का इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि जब ये भर्ती हुए थे तो इनकी हालत काफी खराब थी। इनका बचना मुश्किल लग रहा था, लेकिन धीरे-धीरे ये सही होते गए। दोनों अंदर से काफी मजबूत हैं। इन्हें जिंदगी जीने की सही तरीका मालूम है। एक-दो दिन में इन्हें अस्पताल से छुट्‌टी दे दी जाएगी। डॉक्टरों ने बताया कि बुजुर्ग दंपति के पोतेने दोनों की जीवनशैली के बारे में बताया था। तब लगा कि येमजाक कर रहा है। लेकिन अब यकीन हो गया।डॉक्टर इसेकिसी चमत्कार से कम नहीं मान रहे है।

राज्य सरकार ने की प्रशंसा
बुजुर्ग दंपति के ठीक होने पर केरल सरकार ने डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफकी तारीफकी। राज्य सरकार ने कहा- यह चमत्कार है कि बुजुर्ग दंपती महामारी से बच गए। डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों ने इसके लिए काफी मेहनत की है। दंपतीके इलाज में सात डॉक्टरों की टीम लगी थी। इसके अलावा 40 मेडिकल स्टाफ, जिसमें 25 नर्से भी शामिल थीं।

पोते को कहा था कि इटली से ज्यादा सुरक्षित है

रिजो इटली मेंरेडियोलॉजिस्ट हैं। उन्होंने बताया किहम अगस्त में केरल आने की योजना बना रहे थे। लेकिन मेरे दादाजी ने जल्दी आने को कहा। यह वाकई में चमत्कार है। अब हमें लगता है कि यह आशीर्वाद था। नहीं तो ऐसी स्थिति में हम इटली में होते। जहां संक्रमण काफी फैला हुआ है और हजारों लोगों की जान जा चुकी है। दादाजी ने यह कहा था कि हम लोग इटली से ज्यादा सुरक्षित केरल में रहेंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
बुजुर्ग दंपति कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुकी है। डॉक्टर इनकी सादी जीवनशैली और पौष्टिक खान-पान को ठीक होने की सबसे बड़ी वजह मान रहे हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2xIAN7D

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान