संक्रमण के साथ माफिया भी सरकार के लिए खतरा बना; ये गरीबों को मुफ्त खाना और जरूरी चीजें बांट रहा, गरीबों में पैठ बनाने की साजिश

कोरोनावायरस से इटली की अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लगा है। अब यहां पर एक और संकट मंडरा रहा है। दरअसल, इटली का माफिया उन लोगों को भोजन और जरूरी चीजें उपलब्ध करा रहाहैजो लॉकडाउन के चलते घरों में कैद हैं। इनकेे पास पैसे की भीकिल्लत है। माफिया को लोगों का समर्थन मिल रहा है और वो सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। अधिकारियों ने इस पर चेतावनी जारी की है।
हाल ही के हफ्तों में इटली के कैंपेनिया, कैलाब्रिया, सिसली और पुगलिया से कुछ वीडियो सामने आए। माफिया गैंग्स लोगों को भोजन और जरूरत का सामान मुहैया करा रहे हैं। एंटीमाफिया इंवेस्टिगेटरनिकोला ग्रेटरी के मुताबिक, “एक महीने से दुकानें, कैफे, रेस्टोरेंट और पब बंद हैं। लाखों लोगों की इनकम बहुत अच्छी नहीं है। एक महीने से तो हालात और खराब हैं। उन्हें ये भी नहीं पता कि अब उन्हें कब काम मिलेगा। ऐसे में सरकार इन लोगों की मदद करने के लिए शॉपिंग वाउचर जारी कर रही है।”हालांकि, मदद कई लोगों तक नहीं पहुंच पा रही। ऐसे में माफिया लोगों की मदद कर रहा है।नकोला ने चेताया कि अगर सरकार जल्द लोगों की मदद के लिए कोई बड़ा कदम नहीं उठाती है तो यहां गलत लोगों का कब्जा हो जाएगा।

इटली में 33 लाख लोगों की आमदनी बेहद कम
स्माल बिजनेस एसोसिएशन के मुताबिक इटली में लॉकडाउन के बाद 33 लाख ऐसे लोग प्रभावित हुए,जिनकी आमदनी बहुत कम है। इसमें 10 लाख लोग इटली के दक्षिणी प्रांतों में रहते हैं। यहां सिसली प्रांत से लोगों के सरकार के खिलाफ प्रदर्शन के वीडियो सामने आए थे। लोग बैंकों के बाहर 50 यूरो ( करीब चार हजार रुपए) तक के लोन के लिए जमा थे और बैंकों के दरवाजे पीट रहे थे। माफिया इन लोगों की मदद करके सरकार के खिलाफ गुस्सा और भड़का रहे हैं। ये वीडियो आग में घी डालने का काम कर रहे हैं। इसके बाद यहां से छोटे दुकानदारों को धमकाकर फ्री में सामान लेने की खबरें आई हैं। इसके साथ ही पुलिस सुपरमार्केट में चोरी बचाने के लिए लगातार गश्त कर रही है।

खबर छापने पर रिपोर्टर पर हमला
इतालवी अखबार ‘ला रिपब्लिका’ के मुताबिक पालेर्मो में सबसे बड़े माफिया गिरोह ‘कोसा नॉस्ट्रा’ के गुर्गों ने लोगों को जरूरी चीजें मुहैया कराई थीं। जैसे ही यह खबर अखबार में छपी तो इसके रिपोर्टर पर हमला हो गया। समाज में सरकार के खिलाफ बढ़ते गुस्से को देखते हुए इटली के आंतरिक मामलों के मंत्री लूसियाा लामोरगीस ने कहा, ‘‘माफिया बढ़ती गरीबी का फायदा उठा सकते हैं। वे लोगों को अपने संगठनों में भर्ती कर सकते हैं।’’हाल के दिनों में पुलिस ने नेपल्स शहर में गरीब आबादी वालही जगहों पर मौजूदगी बढ़ा दी है। यहां पर कैमोर्रा, द क्रैशन जैसे माफिया गिरोहों ने लोगों को भोजन और अन्य जरूरी चीजें मुहैया कराई थीं।


माफिया गिरोहों का लोकल लोगों का समर्थन मिलना खतरनाक
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में क्रिमिनोलॉजी के प्रोफसर फेडरिको वारिस ने बताया कि माफिया सिर्फक्रिमिनल ऑर्गनाइजेशन नहीं है। वे सरकार चलाने की भी इच्छा रखते हैं। अक्सर सरकारें इन माफिया गिरोहों के वित्तीय पहलू की जांच करती हैं, लेकिन वह ये भूल जाते हैं उनकी ताकत स्थानीय लोगों से आती है। इस हालात में माफिया का लोकल लोगों से समर्थन मिलना खतरनाक है। माफिया गिरोहों के मुखिया शहरों को अपनी जागीर मानते हैं। वे जानते हैं कि शासन करने के लिए, उन्हें अपने क्षेत्र में लोगों की देखभाल करने की आवश्यकता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
इटली के सिसली में दुकानदारों की लगी कतार। यहां भी लोगों ने सरकार की आलोचना की है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2VmL8OS

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस