कोरोनावायरस महामारी के बाद शेन्जेन शहर में नहीं बिकेगा कुत्ते-बिल्लियों का मांस, एक मई से नियम लागू

कोरोनावायरस महामारी से निपटने और नए कोरोनावायरस मिलने के बाद दक्षिणी चीन के शेन्जेन शहर में कुत्ते और बिल्लियों का मांस खाने पर रोक लगा दी गई है। अगले महीने की पहली तारीख से यहां इन जीवों के मांस का व्यापार नहीं होगा। यह फैसला करने वाला शेन्जेन चीन का ये पहला शहर है। चीन सरकारने जंगली जानवरों के मांस को बेचने और उनके खाने पर रोक लगाने की घोषणा फरवरी में की थी। लेकिन प्रांत औरशहर प्रशासन नेएक मई से नियम लागू करने का फैसला किया है।

दरअसल, वैज्ञानिकों को आशंका है कि कोरोनावायरस जंगली जानवरों के माध्यम से ही इंसानों तक पहुंचा है। क्योंकि वायरस की मौजूदगी सबसे पहले चीच के शहर वुहान में देखी गई। यह शहर सभी तरह के जंगली जानवरों के मांस को उपलब्ध कराता है। इनमें सांप, चमगादड़,सुअर, भेड़, गधा, खरगोश, मुर्गा, बतख, हंस, कबूतर, बटेर और बिलाव जैसे जीव शामिल हैं।

बुधवार को आदेश जारी

शेन्जेन प्रशासन ने बुधवार को आदेश जारी करते हुए कहा, ‘‘कुत्ते और बिल्लियां पालतू जानवर हैं। ये इंसानों के काफी करीब हैं। पालतू जानवरों के मांस खाने पर हांगकांग और ताइवान में रोक है। ये बैन मानव सभ्यता के अनुकूल है।’’

अधिक पौष्टिक नहीं जंगली जानवरों का मांस

शेन्जेन सेंटर फॉर डिजीज प्रिवेंशन एंड कंट्रोल के एक अधिकारी लियू जियानपिंग ने कहा, ‘‘लोगों के लिए पोल्ट्री उत्पाद, ताजा मांस और सीफूड पर्याप्त थे। ऐसे में जंगली जानवरों को खाना उचित नहीं। वैसे भी ऐसे सबूत नहीं मिले हैं कि जंगली जानवरों का मांस सामान्य पशुओं के मांस से अधिक पौष्टिक होता है।’’



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Dog-cats meat will not sell in Schengen city after coronavirus epidemic, rules apply from May 1


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2ywalyH

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस