पाकिस्तान के इमाम पीएम इमरान की बात मानने को तैयार नहीं, लोग समूह में नमाज पढ़ रहे; सऊदी अरब के किंग बोले- इस बार रमजान में दुखी हूं

कोरोनो संकट औरलॉकडाउन के बीच शुक्रवार सेरमजान महीने की शुरुआत हुई। दुनियाभर के मुसलमानों ने जुमे कीनमाज अताकी। हालांकि, इस दौरान कई देशों में पाबंदियों की वजह से लोगों ने घरों पर ही नमाज पढ़ी, लेकिन पाकिस्तान जैसे कई देशों में समूह में नमाज हुई। पाकिस्तान मेंइमाम प्रधानमंत्री इमरान खान का घरों में नमाज पढ़ने काफैसला मानने को तैयार नहीं हैं। ऐसे मेंसंक्रमण फैलने का खतरा भी सता रहा है। डब्ल्यूएचओने भी इस दौरान किसी भी कार्यक्रम में शामिल होने और समूह में नमाज पढ़ने पर रोक लगाने को कहा है। भारत में भी कोरोनावायरस के चलते लगे प्रतिबंधों के कारण तरावीह और नमाज घरों पर होगी। इफ्तारी भी नहीं होगी।

सऊदी अरब
यहां कोरोना संक्रमण को देखते हुए मक्का मदीना में नमाज पढ़ने और उमरा पर रोक है। रमजान माह की शुरुआत पर सऊदी अरब के किंग सलमान ने कहा कि वह बहुत दुखी है कि मुसलमान प्रतिबंधों की वजह से मस्जिदों में नमाज नहीं पढ़ सकेंगे।

सऊदी अरब में रमजान माह के दौरान पवित्र शहर मक्का के काबा में सफाई और सैनिटाइजेशन करते कर्मचारी।

पाकिस्तान
यहां कोरोना संकट से निपटने मेंइमरान सरकार फेल साबित हो रही है। अब रमजान में इमामों ने सरकार पर दबाव बनाकर समूह में नमाज करने पर लगी रोक हटवा ली है। हालांकि, सरकार ने घर में नमाज पढ़ने को कहा है और मस्जिदों में बहुतकम लोगों के नमाज पढ़ने की इजाजत दी है। इस दौरान सोशल डिस्टेसिंग का भी ख्याल रखने को कहाहै, लेकिन कहीं भी सरकार के आदेशों का पालन नहीं किया गया।

पाकिस्तान के कराची में समूह में नमाज पढ़ते लोग। यहां इमरान सरकार ने इमामों के दबाव में आकर समूह में नमाज पढ़ने की इजाजत दी है।

इंडोनेशिया
दुनिया में सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश में समूह में नमाज पढ़ने पर रोकहै। यहां राष्ट्रीय धार्मिक संगठनों ने लोगों से घरों में रहने की अपील की है। इसके बावजूद भी यहां भारी संख्या में लोग शुक्रवार को नमाज पढ़ने के लिए इकट्‌ठा हुए।इंडोनेशिया में 17 हजारद्वीपसमूहों में सभी हवाई और समुद्री यात्रा पर रोक लगाने की भी घोषणा की गई।

इंडोनेशिया के सुमात्रा में उत्तर के शहर लोक्सेमावे में रमजान के पहले दिन लोगों ने समूह में इकट्‌ठा होकर नमाज पढ़ी।

मलेशिया
यहां संक्रमण रोकने के लिए मई के मध्य तक लॉकडाउन बढ़ाया गया है। इस दौरान स्कूल बंद हैं और अन्य प्रकार की सभी गतिविधियों पर रोक है। रमजान में मस्जिदों में नमाज पढ़ने पर भी रोक है। पुलिस ने चेक प्वाइंट्स बनाएहैं और नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई की जा रही है। इसके साथ ही यहां फेमस रमजान बाजार भी बंद हैं। लोग केवल ऑनलाइन खरीदारी कर सकते हैं। वहीं, ब्रुनेई और सिंगापुर में भी कार्यक्रमों पर रोक है।

मलेशिया के कुआलालंपुर में एक मस्जिद के सामने गश्त करता सुरक्षाकर्मी। यहां मस्जिद में नमाज पढ़ने पर रोक है और इसका सख्ती से पालन कराया जा रहा है।

यूएई और मिस्र

अरब देशों में शामिल यूएई, मिस्र और अन्य देशों में लॉकडाउन में थोड़ी राहत दी है। यूएई ने कहा कि रात को टोटल लॉकडाउन में रात को आठ घंटे थोड़ी ढील दी जाएगी। इस दौरान माल्स और मार्केट थोड़ी देर के लिए खोले जाएंगे। मिस्र में रमजान से जड़ी सभी गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है।

ईरान
यहां कोरोनावायरस के संक्रमण ने बहुत कहर बरपाया है। ईरान केसर्वोच्च नेता अली खामनेई ने लोगों से अपील की है कि वे समूह में नमाज न अदा करें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
रमजान महीने में मक्का के काबा में सफाई और सैनिटाइजेशन करते कर्मचारी। कोरोनावायरस के कारण यहां नमाज पर प्रतिबंध है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/352tNiE

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान