दुबई में चार साल की भारतीय बच्ची ने जीती कोरोना से जंग, पिछले साल कैंसर को मात दी थी

दुबई में एक चार साल की भारतीय बच्ची शिवानी ने कोरोना से जंग जीत ली है। इसके साथ ही वह यूएई में सबसे कम उम्र की कोरोना सर्वाइवर बन गई है। खास बात यह है कि शिवानी ने पिछले साल ही कैंसर को मात दी है।
शिवानी को संक्रमण अपनी मां से हुआ था। उसकी मां दुबई में हेल्थ वर्कर हैं। वह मार्च में ही इस वायरस की चपेट में आ गईं थी। इसके बाद शिवानी और उसके पिता का कोरोना टेस्ट कराया गया था। शिवानी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, लेकिन उसके पिता की रिपोर्ट निगेटिव आई थी। 1 अप्रैल को शिवानी को अल फतैम हेल्थ हब में भर्ती कराया गया था, जहां से 20 दिन बाद उसे छुट्‌टी दे दी गई।

2019 में किडनी कैंसर से उबरी थी शिवानी
शिवानी और उसकी मां को एक ही जगह भर्ती कराया गया था। शिवानी पिछले साल ही कैंसर से उबरकर आई थी। इसलिए डॉक्टर ज्यादा सावधानी बरत रहे थे। शिवानी एक प्रकार के किडनी कैंसर से पीड़ित थी, जिसे गैंग्लिओन्यूरोब्लास्टोमा कहते हैं। अल फतैम हेल्थ हब के मेडिकल डाइरेक्टर और शिवानी का इलाज करने वाले थोल्फकर अल बाज ने गल्फ न्यूज को बताया कि शिवानी पिछले साल कई कीमोथेरेपी से गुजरी थी। इसलिए उसका इम्यून सिस्टम अभी तक कमजोर था। डॉक्टरों को लग रहा था कि उसमें कोरोनावायरस बहुत गंभीर स्थिति में पहुंच जाएगा। इसलिए बहुत संभलकर इलाज किया जा रहा था। हालांकि, ऐसा कुछ नहीं हुआ और वह ठीक हो गई।


14 दिन क्वारैंटाइन रहना होगा
20 दिन बाद शिवानी के दो स्वाब टेस्ट निगेटिव आने पर अस्पताल से छुट्‌टी दे दी गई। अब उसे घर पर 14 दिन क्वारैंटाइन में रहना होगा। अभी उसकी मां अस्पताल मेंभर्ती हैं। उनकी तबियत भी ठीक है। डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें भी जल्द ही छुट्‌टी दे दी जाएगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
शिवानी को अल फतैम हेल्थ हब हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2W3YXCa

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस