स्पैनिश फ्लू और स्वाइन फ्लू के तीन दौर सामने आए थे, पहले दौर में सबसे कम और दूसरे में सबसे ज्यादा मौतें हुईं; कोरोना अभी पहले दौर में ही है

बीते 100 सालमें दुनिया ने दो बड़ी महामारियांस्पैनिश फ्लू और स्वाइन फ्लू देखी हैं। कोरोनावायरस संक्रमण को भी इतनी ही बड़ी महामारी माना जा रहा है। लेकिन, अगर बीती दोनों महामारियों से इसकी तुलना करें, तो कोरानावायरस अभी अपने आरंभिक चरण में दिखता है। स्पैनिश फ्लू और स्वाइन फ्लू एक ही साल में तीन चरणों में फैले। इनका पहला चरण सबसे कम घातक था,लेकिन दूसरा चरण सबसे जानलेवा रहा। तीसरा चरण पहले के मुकाबले घातक, लेकिन दूसरे से कमजाेर रहा। अगर यही ट्रेंड काेरोना मेंभी रहा,तो वर्तमान चरण सबसे कम घातक है।

स्पैनिश फ्लू :स्पैनिश फ्लू ने 5 से 10 करोड़ लोगों की जान ली थी। पहले दौर के बाद तीन महीने तक बहुत कम मामले सामने आए, लेकिन फिर अचानक इनमें तेजी आ गई।

स्वाइन फ्लू:1.25 करोड़ लोग इससे संक्रमित हुए। करीब 2 लाख लोगों की माैत हुई। पहले और दूसरे दौर में करीब 3 महीने का अंतर रहा और तीसरा दौर दूसरे के 2 महीने बाद आया।

कोरोना: चीन में नवंबर में शुरू हुआ। चार महीने में पूरी दुनिया में फैल गया। अमेरका और यूरोप के सबसे प्रभावित देश इटली में अब मामले कुछ कम हाेने शुरू हुए हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर अमेरिका के फ्लोरिडा में एक फूड बैंक के बाहर लगी गाड़ियों की कतार की है। यहां लोगों के सामने खाने-पीने का संकट भी पैदा हो गया है। यहां फूड बैंक में डिमांड 600% बढ़ गई है। अमेरिका में 66 लाख लोग बेरोजगार हो चुके हैं। फ्लोरिडा में यह आंकड़ा 5 लाख का है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2UPoKib

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस