मीडिया के सवालों से जूझ रहे ट्रम्प ने व्हाइट हाउस में डेली ब्रीफिंग बंद की, सैनिटाइजर का इंजेक्शन लगाने वाले सुझाव की हो रही थी आलोचना

डोनाल्ड ट्रम्प ने अपनी नियमित कोरोनावायरस टास्क फोर्स की ब्रीफिंग कैंसल कर दी है। ट्रम्प ने कहा कि रोज प्रेस कांफ्रेंस का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि मीडिया की ओर से दुश्मन की तरह सवाल पूछे जाते हैं और मीडिया को फेक न्यूज फैलाकर रेटिंग मिलती है।ट्रम्प ने ट्वीट किया कि रोज होने वाली प्रेस कांफ्रेंस का क्या मतलब है जब मीडिया द्वेष से भरे हुए सवालों के अलावा कुछ नहीं पूछती है। इसके बाद सही खबरें भी नहीं दिखाई जाती हीें। उन्हें फेक न्यूज चलाकर रिकॉर्ड रेटिंग मिलती है और अमेरिकन लोगों को कुछ नहीं मिलता। इतनी कोशिशों और समय का कुछ सदुपयोग नहीं होता है।

अजीब सुझावों पर हुई थी आलोचना
गुरुवार को हुई ब्रीफिंग के दौरान ट्रम्प ने अजीब सुझाव दिए थे। दरअसल, बीफ्रिंग के दौरान मेडिकल एक्सपर्ट ब्रायन और टास्क फोर्स के कॉर्डिनेटर डेबोरा बिरक्स जानकारी दे रहे थे कि किस तरह से सूर्य की रोशनी और कुछ क्लींजर, सैनिटाइजर कोरोनोवायरस को मार सकते हैं। इस पर ट्रम्प ने कहा था कि वे किसी तरह रोगियों को इसका इंजेक्शन दे दें और मरीजों के शरीर में अल्ट्रवॉयलेट लाइट(पराबैंगनी किरणें) पहुंचा दें। इस पर ट्रम्प की बहुत आलोचना हुई थी।

आलोचना होने पर बोले- मैं तंज मारा था
काफी आलोचना होने पर ट्रम्प ने सफाई देते हुए कहा था कि उन्होंने यह सुझाव तंज कसते हुए दिया था। ट्रम्प के इस सुझाव के बाद सैनिटाइजर बनाने वाली कंपनियों ने लोगों से आग्रह किया था कि वे सैनिटाइजर का इंजेक्शन किसी कीमत पर न लगाएं। ट्रम्प ने एक दूसरे ट्वीट में कहा, याद रखें, इलाज इस समस्या से बदतर नहीं हो सकता है। सावधान रहें, सुरक्षित रहें और कॉमन सेंस का इस्तेमाल करें। ट्रम्प ने अमेरिका के पब्लिक हेल्थ इंस्टीट्यूट (सीडीसी) के एक ट्वीट को भी रिट्वीट किया। इसमें कहा गया है कि, घरेलू क्लीनर और डिसइंफेक्टैंट का इस्तेमाल सावधानी से न करने पर वे स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकते हैं। प्रोडक्ट के लेबल पर छपे निर्देशों का पूरा पालन करें।

मीडिया रिपोर्टरों से आए दिन भिड़ते रहे हैं ट्रम्प
व्हाइट हाउस में डेली ब्रीफिंग के दौरान ट्रम्प की आए दिन मीडिया रिपोर्टरों से भिड़ंत होती रही है। उन्होंने प्रमुख मीडिया संस्थानों पर ईमानदारी से काम नहीं करने का भी आरोप लगाया था। पिछले हफ्ते ही उन्होंने कहा था कि मीडिया संस्थानों को अपनी खबर का स्रोत बताना चाहिए। उन्होंन न्यूयॉर्क टाइम्स के व्हाइट हाउस संवाददाता मैगी हैबरमैन और सीएनएन के राजनीतिक विश्लेषक पर हमला बोला था। उन्होंने दोनों पर बिना स्रोतों का हवाला दिए खबर लिखने और दिखाने का आरोप लगाया था। ट्रंप ने कहा कि सूत्रों के हवाले से सबसे ज्यादा खबरें वाशिंगटन पोस्ट, न्यूयॉर्क टाइम्स और सीएनएन में की जाती हैं। ट्रंप कहा था कि कोई स्रोत है तो उसका नाम दिया जाना चाहिए।

अमेरिका में अब तक 9 लाख 60 हजार से ज्यादा पॉजिटिव केस
महामारी से बुरी तरह प्रभावित अमेरिका में अभी तक संक्रमण के 9 लाख 60 हजार 896 मामले सामने आ चुके हैं। इसके साथ ही 54 हजार 265 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका में अब तक एक लाख 18 हजार 162 संक्रमित लोग ठीक भी हो चुके हैं। लॉकडाउन की वजह से अमेरिका में करीब 2.6 लोग बेरोजगार हो चुके हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। (फाइल)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2KzlVfl

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान