सरकारी बैठकों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप जूम के इस्तेमाल पर रोक, सुरक्षा एजेंसियों ने डाटा चोरी की आशंका जताई थी

कोरोनावायरस के चलते भारत में लॉकडाउन चल रहा है। कंपनियोंऔर कई राजनीतिक पार्टियों से जुड़े लोग घर से काम कर रहे हैं। इस दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के लिए जूम ऐप का इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जा रहा है। यह एकफ्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप है। इसके जरिए यूजर एक बार में100 लोगों से बात कर सकताहै।लेकिन, अब यह खबरें सामने आ रही हैं कि इसका इस्तेमाल सुरक्षित नहीं है। बताया जा रहा है कि इस ऐपके जरिए पर्सनल डाटा आसानी से चोरी किया जा सकता है।वीडियो कॉलिंग भी हैक की जा सकती है। गुरुवार को गृह मंत्रालयने इस ऐप के इस्तेमाल को लेकर एक एडवाइजरी जारी की है। कहा गया है कि यह ऐप सुरक्षित नहीं है। इससे कोई भी सरकारी मीटिंग नहीं की जाएगी, इसका इस्तेमाल कोई ना करे।

भारत में साइबर सिक्योरिटी की नोडल एजेंसी कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सीईआरटीएन)ने जूम का इस्तेमाल करने वाले भारतीयों को चेतावनी जारी की थी। कनाडा केरिसर्च ऑर्गनाइजेशन सिटिजन लैब ने भी पाया था कि इस ऐपपर विडियो लिंक के लिए इंक्रिप्शन और डिस्क्रिप्शन ‘की’ डिस्ट्रीब्यूट करने के लिए चीन के सर्वर का इस्तेमाल होता है।


इंड टू इंड इंक्रिप्टेड नहीं है यह ऐप
जूम ऐपइंड टू इंड इंक्रिप्टेड नहीं है। इंड टू इंड इनक्रिप्टेड का मतलब यह है कि इसमें मैसेज भेजने वाला और पाने वाला ही मैसेज पढ़ सकता है।जूम में ऐसा नहीं है। इसे आसानी से हैक किया जा सकता है। यानी तीसरा शख्स भी आसानी से मैसेज पढ़ सकताहै। व्हाट्सएप इंड टू इंड इंक्रिप्टेट मैसेजिंग ऐपहै। सोशल मीडिया प्लेटफार्म ब्लाइंड के मुताबिक, सुरक्षा चिंताओं को लेकर 12%यूजर्स ने इस ऐपका इस्तेमाल बंद कर दिया है। 35% प्रोफेशनल्स कोडेटा चोरी होने की आशंका है।

गृह मंत्रालय ने दी यूजर्स के लिए सलाह

1-इतनी बड़ीसंख्या में खामियां सामने आने के बाद सबसे पहली और सलाह कि जूम का यूज करने से बचें।

2-अगर इस्तेमाल कर रहे हैं तो हर मीटिंग के लिए नई यूजर आईडी, पासवर्ड का इस्तेमाल करें।

3- वेटिंग रूम फीचर को एनेबल करें, ताकि कोई भी यूजर तभी कॉल में शामिल हो सके जब कॉन्फ्रेंस करने वाला अनुमति दे।

4- ज्वाइन ऑप्शन को डिसेबल कर दें।

5- स्क्रीन शेयरिंग का ऑप्शन सिर्फ होस्ट के पास रखें।

6- किसी व्यक्ति के लिए रिज्वाइन का ऑप्शन बंद रखें।

7- फाइल ट्रांसफर के ऑप्शन का कम से कम इस्तेमाल करें।

ऐप से वीडियो कॉलिंग के कई वीडियोइंटरनेट पर मौजूद
वॉशिंगटन पोस्ट ने जूम ऐप को लेकर एक अध्ययन किया है। इसमें पाया गया कि इसऐप से वीडियो कॉलिंग और मीटिंग के बहुत सारे वीडियो इंटरनेट पर मौजूद हैं। हैरानी की बात यह है कि ये वीडियो ऐप इस्तेमाल करने वालों ने ही नहीं डाले। सवाल ये है कि फिर ये लीक कैसे हुए। सिक्युरिटी एक्सपर्ट के मुताबिक,ऐसे बहुत सारे टूल्स हैं, जिससे इंटरनेट पर जूम वीडियो ढूंढकर लाया जा सकता है। एक खास बात और है कि जूम ऐप के फाउंडर एरिक युआन चाइनीज अमेरिकन है। उन्होंने वॉल स्ट्रीट जर्नल को दिए अपने इंटरव्यू में इस बात को लेकर माफी भी मांगी है। उन्होंने वादा किया है कि वे तीन महीनों के भीतर इसके सभी सिक्युरिटी इश्यू हल करेंगे।

ब्रिटेन में जूम से हुई कैबिनेट मीटिंग भी इंटरनेट पर आ गई थी
भारत के प्रमुख साइबर सिक्युरिटी एक्सपर्ट पवन दुग्गल के मुताबिक, “सरकार, नेताओं और कार्पोरेट से जुड़े लोगों को इस ऐप इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इसका चीन से लिंक बहुत चिंताजनक है। ब्रिटेन में इसी ऐपके जरिएकैबिनेट मीटिंग हुई थी। ये थोड़ी देर में ही इंटरनेट पर आ गई थी।”

अमेरिका में ऐप पर मुकदमा, जर्मनी ने इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाया
अमेरिका में इस ऐप पर मुकदमा दायर किया गया है। कहा गया है कि इसका डेटा फेसबुक के साथ शेयर हो रहा है। साथ ही इस ऐपसे यूजर के वेबकैम को हैक किया जा सकता है। जर्मनी के विदेश मंत्रालयने भी जूम ऐप के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ दिग्गज सर्च इंजन गूगल और एलन मस्क की स्पेस एक्स एजेंसी ने भी इस ऐपको बैन किया हुआ है। सिंगापुर ने भी टीचर्स के लिए इस ऐपके इस्तेमाल पाबंदी लगा दी है।

तीन महीनों में 20 गुना बढ़े एक्टिव यूजर्स
दुनियाभर में हुए लॉकडाउन के कारण वर्क फ्राम होम की शुरुआत हुई है।इसके बाद इस ऐप को बेतहाशा फायदा हुआ है। दिसंबर 2019 में इसके एक्टिव यूजर्स एक करोड़ थे, जो तीन महीने में बढ़कर 20 करोड़ हो गए। साथ ही इन्हीं तीन महीनों में जूम ऐप के फाउंडर एरिक युआन की नेट वर्थ में 112%की बढ़ोतरी हुई। अब उनकी नेटवर्थ 7.5 बिलियन डॉलर हो गई है।

इसी ऐपके जरिए रक्षामंत्री ने सेना प्रमुखों के साथ की थी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने एक अप्रैल को जूम ऐपसे ही चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ जनरल बिपिन रावत के अलावाआर्मी, नेवी और एयरफोर्स के चीफ से मीटिंग की थी। ऐसे में हालात बेहद चिंताजनक हो जाते हैं। वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल भी एप्पल के मैकबुक एयर लैपटॉप से इसी ऐपवीडियो कांफ्रेसिंग करते दिखे थे। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका की नेशनल सिक्युरिटी एंजेसी के पूर्व हैकर पैट्रिक वार्डले ने बताया है कि इस ऐपको इस्तेमाल करने वाले मैक यूजर्स का वेबकैम और माइक्रोफोन तक हैक किया जा सकता है।

भारत की प्रमुख पार्टियां करती रही हैं जूम ऐप से मीटिंग
भारतीय नेता जूम ऐप को लेकर सुरक्षा चिंताओं से बेखबर दिखते हैं। भाजपा और कांग्रेस इस ऐपका भरपूर इस्तेमाल करती रही हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस ऐपके माध्यम से ही अधिकतर कांग्रेसवर्किंग कमेटी को संबोधित कर चुकी हैं। इसके अलावा कैप्टन अमरिंदर सिंह, भूपेश बघेल, आनंद शर्मा और गुलाम नबी आजाद भी इसका उपयोग कर रहे हैं।भारत में 21 दिनों का लॉकडाउन होने के बाद इस ऐप का बहुत तेजी से इस्तेमाल शुरू हुआ।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
जूम ऐप की प्राइवेसी और सिक्योरिटी में कई खामियां देखी गई हैं। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2xnVHtf

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस