Posts

Showing posts from May, 2020

वॉशिंगटन समेत अमेरिका के 40 शहरों में कर्फ्यू; व्हाइट हाउस पर प्रदर्शन के दौरान ट्रम्प को अंडरग्राउंड बंकर में ले जाया गया था

Image
अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के मामले में विरोधबढ़ता जा रहा है। राजधानी वॉशिंगटन डीसी समेत 40 शहरों मेंकर्फ्यू लगाया जा चुका है। रविवार रात को भी प्रदर्शनकारियों ने व्हाइट हाउस के सामने काफी प्रदर्शन किया, लिहाजा सुरक्षाबलोंको आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक,शुक्रवार को व्हाइट हाउस के सामने प्रदर्शनों के दौरान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को कुछ देर के लिए अंडरग्राउंड बंकर में ले जायागया था। न्यूज चैनल सीएनएन के मुताबिक, वॉशिंगटन समेत 15 शहरोंमें करीब 5 हजार नेशनल गार्ड्स की तैनाती की गई है। जरूरतपड़ने के लिहाज से 2 हजार गार्ड्स को मुस्तैद रहने को कहागया है। व्हाइट हाउस पर सैकड़ों प्रदर्शनकारी जुटने से लिया फैसला न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक व्यक्ति के हवाले से रिपोर्ट छापी। इसकेमुताबिक, शुक्रवार को व्हाइट हाउस पर सैकड़ों की तादाद मेंप्रदर्शनकारी जुटे। सुरक्षा के लिहाज से ट्रम्प को एक घंटे से कम वक्त के लिए एक अंडरग्राउंड बंकर में ले जाया गया।प्रदर्शनकारियों के पीछे हटाने में सीक्रेट सर्विस और यूनाइटेडस्टेट्स पार्क पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। अखबा

विदेश मंत्री पोम्पियो ने कहा- चीन लंबे समय से भारत के लिए खतरे पैदा कर रहा है, उसकी सैन्य क्षमताओं से निपटने में हम कई देशों को साथ ले सकते हैं

Image
अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि अमेरिका चीनी सेना की क्षमताओं को देखते हुए भारत समेत दुनिया में अपने सहयोगी देशों को साथ ले सकता है। फॉक्स न्यूज को दिए इंटरव्यू में पोम्पियो ने कहा- चीन की सेना ने जो तरक्की हासिल की है, उसको सच माना जा सकता है।शी जिनपिंग सैन्य ताकत बढ़ाने चाहते हैं।चीन लंबे समय से भारत के लिए यह खतरे पैदा कर रहा है। पोम्पियो के मुताबिक, “अमेरिकी रक्षा विभाग चीनी सेना से होने वाले खतरे को समझने के लिए सभी जरूरी उपायकर रहा है। मुझे भरोसा है कि राष्ट्रपति ट्रम्प के नेतृत्व में हमारी सेना, रक्षा विभाग और सैन्य संस्थान इतने मजबूत हैं कि हम अमेरिकी लोगों की हिफाजत हमेशा कर सकेंगे। ‘हमसाथीदेशों के अच्छे साझेदार हो सकते हैं’ अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा, “ हमभारत, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, जापान और ब्राजील समेत दुनिया के अपने सभी साथी देशों के अच्छे साझेदार हो सकते हैं। इससे यह भी तय हो जाएगा कि पश्चिमी देशों में आजादी का जो अमेरिकी मॉडल हैवो इन देशों में भी हो।”भारत-चीन सीमा विवाद पर पोम्पियो ने कहा- यह मार्च से ही चल रहा है। चीन की कम्युनिस्टअपने फायदे

ब्राजील को एक हजार वेंटिलेटर भेजेगा अमेरिका, कतर में 1648 नए मामले सामने आए; दुनिया में अब तक 62.62 लाख संक्रमित

Image
दुनिया में अब तक 62 लाख 62 हजार 805 संक्रमित हैं। 3 लाख 73 हजार 855 की मौत हो चुकी है। राहत की खबर यह कि इसी दौरान 28 लाख 46 हजार 523 संक्रमित स्वस्थ भी हुए। अमेरिका और ब्राजील दोनों महामारी से जूझ रहे हैं। लेकिन, एक-दूसरे की मदद का जज्बा बरकरार है। अमेरिका ने कहा है कि वो ब्राजील को एक हजार वेंटिलेटर्स और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की 20 लाख टेबलेट भेजेगा। खाड़ी देश कतर में मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। यहां 24 घंटे में 1648 नए मामले सामने आए। कोरोनावायरस : 10 सबसे ज्यादा प्रभावित देश देश कितने संक्रमित कितनी मौतें कितने ठीक हुए अमेरिका 18,37,170 1,06,195 5,99,867 ब्राजील 5,14,849 29,314 2,06,555 रूस 4,05,843 4,693 1,71,883 स्पेन 2,86,509 27,127 1,96,958 ब्रिटेन 2,74,762 38,489 उपलब्ध नहीं इटली 2,32,997 33,415 1,57,507 भारत 1,90,609 5,408 91,852 फ्रांस 1,88,882 28,802 68,355 जर्मनी 1,83,494 8,605 1,65,200 पेरू 1,64,476 4,506 67,208 ये आंकड़े https://ift.tt/37Fny4L से लिए गए हैं। अमेरिका : ब्राजील को मदद अमेरिका और

नेपाल की संसद में नए नक्शे को संविधान में शामिल करने के लिए बिल पेश, मानचित्र में भारत के 3 इलाकों का जिक्र

Image
नेपाल सरकार ने अपने नए मानचित्र को संविधान में शामिल करने के लिए संसद में बिल पेश किया है। इस नए नक्शे में भारत के तीन इलाकों लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा शामिल हैं।विपक्षी पार्टियों ने भी इस मुद्दे पर सरकार को समर्थन देने का वादा किया है। कानून, न्याय और संसदीय मामलों के मंत्री शिवमया तुंबांगफे ने प्रतिनिधि सभा में संविधान संशोधन बिल पेश किया। नेपाल अपने कोट-ऑफ-आर्म्स (देश के चिह्न) में नए मानचित्र को शामिल करने जा रहा है, जिसके लिए संविधान की अनुसूची-3 में संशोधन की जरूरत है। बिल पर सदन में विचार-विमर्श होगा। दोनों सदनों से बिल के पास होने के बाद राष्ट्रपति इस पर दस्तखत करेंगे। नेपाल ने 18 मई को जारी किया था नया मानचित्र भारत नेलिपुलेख से धारचूलातक सड़क बनाई है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने8 मई को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसका उद्घाटन किया था, इसके बाद ही नेपाल की सरकार ने विरोध जताते हुए 18 मई को नया मानचित्र जारी किया था। इसमें भारत के कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा को अपने क्षेत्र में बताया। 22 मई को संसद में संविधान संशोधन का प्रस्ताव भी दिया था। हाल ही में भारत के स

प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने आम की चटनी के साथ समोसे का स्वाद लिया, बोले- इसे नरेंद्र मोदी के साथ बांटना पसंद करता

Image
ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने रविवार को आम कीचटनी के साथ समोसे का स्वाद लिया। इस मौके पर उन्होंनेप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोयाद किया। मॉरिसन ने ट्वीट कर कहा, 'ये रहा रविवार का ‘स्कॉ-मोसा’। मैंने इन्हें आम की चटनी के साथ तैयार किया है। ये शाकाहारी हैं। इस हफ्ते में प्रधानमंत्री मोदी के साथ वीडियो लिंक के जारिएबैठक करूंगा।अगर ऐसा नहीं होता तो मैं इसे उनके साथ शेयर करनापसंद करता।' मॉरिसन ने अपनी ट्वीट के साथ एक तस्वीर भी पोस्ट की, जिसमें वे हाथों में समोसा और आम की चटनी कीट्रे लिए नजर आ रहे हैं। उन्होंने अपने इस ट्वीट में मोदी को भी टैग किया। 4 जून को होगी मॉरिसन-मोदी की वीडियो लिंक बैठक ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मॉरिसन और मोदी की बैठक 4 जून को वीडियो लिंक के जरिए होगी। इसमें दोनों देशों के हितों से जुड़े मुद्दों पर चर्चा होगी। बैठक में भारत और ऑस्ट्रेलिया विज्ञान और प्रौद्योगिकी, सैन्य रसद समेत कुछ अन्य अहम द्विपक्षीय समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे। इससे पहले कोरोना से निपटने के लिए मोदी की अपील पर हुई जी-20 देशों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मॉरिसन और मोदी की बातच

गिरफ्तारी वारंट जारी होने के एक दिन बाद नवाज शरीफ लंदन के कैफे में नजर आए, विपक्षियों ने कहा- जब वे ठीक हैं तो देश लौटें

Image
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की लंदन में सड़क किनारे एक कैफे में बैठे हुए तस्वीर सामने आई है। इसके बाद से पाकिस्तान में उनकी सेहत को लेकर एक बार फिर से बहस शुरू हो गई है। विपक्षियों का कहना है कि शरीफ जब ठीक हैं तो वापस पाकिस्तान क्यों नहीं लौट रहे हैं? वहीं, नवाज के समर्थकों ने उन्हें स्वस्थ देखकर खुशी भी जताई है। नवाज पर भ्रस्टाचार के कई मुकदमे चल रहे हैं। एक दिन पहले ही उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ है। फोटो में नवाज शरीफ अपनी पोतियों के साथ सड़क किनारे कैफे में बैठे हुए दिख रहे हैं। वेनीली सलवार कमीज पहने हुए हैं और एक टोपी लगा रखी है। डॉन की खबर के मुताबिक पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) की प्रवक्ता मरियम औरंगजेब ने कहा कि नवाजसड़क पर टहलने निकले थे। इसदौरान वेएक कैफे में रुके, तभी राहगीरों ने उनकी फोटो लेकर सोशल मीडिया में डाल दी। मरियम नवाज ने कहा- अपमानित करने के इरादे से फोटो जारी हुई नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने भी ट्वीट किया, ‘‘नवाज शरीफ की फोटो उन्हें अपमानित करने के इरादे से जारी की गई थी, लेकिन मियां साहब के समर्थक इस फोटो को देखकर खुश हो गए।

अमेरिका के 25 शहरों में कर्फ्यू; ट्रम्प की प्रदर्शनकारियों को चेतावनी- हमारे पर खतरनाक कुत्ते और घातक हथियार हैं

Image
अमेरिका के मिनेसोटा राज्य के मिनेपोलिस शहर में पुलिस हिरासत में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद 30 शहरों में प्रदर्शन हो रहे हैं। कई शहरों में शनिवार रात पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प हुई। लॉस एंजिल्स, फिलाडेल्फिया और अटलांटा समेत 16 राज्यों के 25 शहरों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। ट्रम्प ने प्रदर्शनकारियों के चेतावनी देते हुए कहा है कि हमारे पास खतरनाक कुत्ते और घातक हथियार हैं। यह तस्वीर व्हाइट हाउस के बाहर की है। यहां प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे। प्रदर्शन के दो दिनों के दौरान हिरासत में लिए गए प्रदर्शनकारियों में 80%मिनेपोलिस से हैं। गुरुवार दोपहर से शनिवार दोपहर तक दंगा, चोरी, संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में 51 लोगों को हिरासत में लिया गया। इनमें से 43 लोग मिनेसोटा राज्य के थे। यह तस्वीर लॉस एंजिल्स शहर की है। यहां प्रदर्शनकारियों ने दुकानों में तोड़फोड़ कर लूट भी की। ट्रम्प ने कहा- मैं सब देख रहा था प्रदर्शनकारियों ने व्हाइट हाउस के बाहर भी शुक्रवार को सैकड़ों लोगों ने प्रदर्शन किया था, जिसके बाद इसे बंद कर दिया गया थ

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने जी-7 समिट टाली, अब बैठक में भारत समेत 4 देशों को बुलाने की योजना

Image
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने जून में होने वाले समिटको टालने का फैसला किया है। उन्होंने शनिवार को अपने आधिकारिक प्लेनएयर फोर्स वन पर इस सम्मेलन से जुड़े सवालों के जवाब देते हुए इस बात की जानकारी दी। ट्रम्प ने कहा, ‘‘मैंने इस शिखर सम्मेलन के टालने का फैसला किया है। मुझे नहीं लगता है कि जी-7 दुनिया की मौजूदा स्थिति का सही ढंग से प्रतिनिधित्व करता है। यह देशों का बहुत पुराना समूह है।’’ ट्रम्प ने कहा कि वे जी-7 के बदले एक विस्तारित सम्मेलन का आयोजन करेंगे। इसमें वे भारत, रूस, दक्षिण कोरिया और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों को भी आमंत्रित करना चाहेंगे। अब यह सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के पहले या उसके बाद हो सकता है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होना था सम्मेलन जी-7 में अमेरिका, फ्रांस, कनाडा, ब्रिटेन, जर्मनी, जापान और इटली शामिल हैं। इसके सभी सदस्य देश बारी बारी से सालाना बैठक का आयोजन करते हैं। इस बार अमेरिका वॉशिंगटन के बाहरी इलाके में स्थित डेविड कैंप में जी 7 सम्मेलन की मेजबानी करने वाला था। हालांकि, कोरोना की वजह से सदस्य देशों के नेताओं का व्यक्तिगत तौर पर आना मुमकिन

ब्राजील में 24 घंटे में 30 हजार से ज्यादा मरीज मिले, यहां कुल मामले करीब 5 लाख हुए: अब तक 61.54 लाख संक्रमित

Image
दुनिया में अब तक 61 लाख 54 हजार 35 लोग संक्रमित हैं। 27 लाख 34 हजार 637 लोग ठीक हुए हैं। मौतों का आंकड़ा 3 लाख 70 हजार 893 हो गया है। ब्राजील में 24 घंटे में संक्रमण के 30 हजार से ज्यादा मामले मिले हैं। देश में मरीजों की संख्या करीब 5 लाख हो चुकी है। कोरोनावायरस : 10 सबसे ज्यादा प्रभावित देश देश कितने संक्रमित कितनी मौतें कितने ठीक हुए अमेरिका 18,16,820 1,05,557 5,35,238 ब्राजील 4,98,440 28,834 2,05,371 रूस 3,96,575 4,555 1,67,469 स्पेन 2,86,308 27,125 1,96,958 ब्रिटेन 2,72,826 38,376 उपलब्ध नहीं इटली 2,32,664 33,340 1,55,633 फ्रांस 1,86,625 28,771 68,268 जर्मनी 1,83,294 8,600 1,64,900 भारत 1,81,827 5,185 86,936 तुर्की 1,63,103 4,515 1,26,984 ये आंकड़ेhttps://ift.tt/37Fny4L से लिए गए हैं। ब्राजील: मौतों का आंकड़ा फ्रांस से ज्यादा ब्राजील में एक दिन में 890 लोगों ने दम तोड़ा है। यहां मौतों का कुल आंकड़ा 28 हजार 834 हो गया है। यह संख्या यूरोप के चौथे सबसे संक्रमित देश फ्रांस से ज्यादा हो गई है। फ्रांस में अब तक

विशेषज्ञों की राय: बारिश में बढ़ सकता है कोरोना संक्रमण, नमी में तीव्र होते हैं वायरस

Image
अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी एपलाइड फिजिक्स लेबोरेटरी के वरिष्ठ वैज्ञानिक जेर्ड इवांस कहते हैं कि अभी यह पता नहीं कि सीमित बारिश का असर वायरस पर क्या होगा। हालांकि, अधिकांश विशेषज्ञ यह मानते हैं कि बारिश में नमी के कारण वायरस तीव्र हो जाता है, जिससे बारिश में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। हालांकि, वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के ग्लोबल हेल्थ, मेडिसिन और एपिडिमियोलॉजी के प्रोफेसर जेर्ड बेटेन कहते हैं कि बारिश कोरोनावायरस को डायल्यूट (घोलकर कमजोर कर देना) कर सकती है। जिस तरह धूल बारिश के पानी में घुलकर बह जाती है, ठीक वैसे ही यह कोरोनावायरस भी बह सकता है। वहीं कई विशेषज्ञों का मानना है कि बारिश साबुन के पानी की तरह सतह को डिसइंफेक्ट करने में सक्षम नहीं है। बारिश और कोरोना से जुड़े दो अहम सवाल क्या बारिश से वायरस साफ नहीं हो सकते हैं? यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड के मुताबिक, ऐसे मामले भी आए हैं जिनमें 17 दिनों के बाद भी सतह पर कोरोना वायरस पाया गया है। ऐसे में फिलहाल यह नहीं कहा जा सकता है कि बारिश से किसी सतह, मैदान या कुर्सी पर लगा वायरस साफ हो जाएगा। इसलिए बारिश में अतिरिक्त सावधानी जरूर

हॉटस्पॉट न्यूयॉर्क में 83 दिन के बाद काम पर लौटेंगे 4 लाख लोग, चर्च भी खुला मगर 10 से ज्यादा लोगों को इकट्ठा होने की अनुमति नहीं

Image
अमेरिका में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूयॉर्क सिटी में 8 जून से लॉकडाउन खुल जाएगा। करीब 4 लाख कर्मचारी 83 दिन के बाद काम पर लौट सकेंगे। न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने इसकी घोषणा की है। न्यूयॉर्क सिटी 15 मार्च से बंद है। इस महीने की शुरुआत में न्यूयॉर्क राज्य के ज्यादातर क्षेत्रों में लॉकडाउन में ढील दी गई थी, लेकिन न्यूयॉर्क सिटी में नहीं दी गई थी। गवर्नर क्यूमो ने कहा है कि न्यूयॉर्क सिटी में अलग-अलग चरणों में लॉकडाउन में ढील दी जाएगी। पहले चरण में निर्माण कार्य, उत्पादन और माल की थोक आपूर्ति की अनुमति दी जा रही है। लोग कृषि, वानिकी और मछली पालन के कार्य दोबारा शुरू कर सकेंगे। न्यूयॉर्क के अन्य 5 क्षेत्र लॉकडाउन में छूट के दूसरे चरण में खोले जाएंगे। इसके तहत रियल एस्टेट सर्विस, खुदरा दुकानें और कुछ हेयर सैलून खोलने की अनुमति होगी। अमेरिका में 17.99 लाख से ज्यादा मरीज और एक लाख से ज्यादा मौतें हुई हैं। न्यूयॉर्क सिटी में 1.99 लाख केस और 20,000 मौतें हुई हैं। टकराव: अमेरिका ने चीनी छात्रों को आने से रोका; चीन बोला- यह नस्लवाद है राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पीपुल्स लि

रेल मंत्री राशिद का दावा- तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ 1998 में भारत के परमाणु परीक्षण के जवाब में टेस्ट करने के खिलाफ थे

Image
पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख राशिद ने शनिवार को दावा किया कि तत्कालानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ 1998 में भारत के परमाणु परीक्षण के जवाब में टेस्ट करने के खिलाफ थे। उन्होंने कहा- शरीफ और उनकी पूरी कैबिनेट भारत के जवाब में न्यूक्लियर टेस्ट करने के खिलाफ थी। सिर्फ राजा जफरुल हक, गौहर आयूब और मैं परमाणु परीक्षण करने के फैसले के पक्ष में थे। राशिद 1998 में शरीफ की कैबिनेट में शामिल थे। मैं न्यूक्लियर टेस्ट के समय स्पेशल ड्यूटी पर विदेश में था: राशिद राशिद से जब यह सवाल पूछा गया है कि 28 मई 1998 में अगर शरीफ के आदेश पर न्यूक्लियर टेस्ट नहीं हुआ तो फिर किसके आदेश पर ऐसा हुआ?इस पर उन्होंने इशारों-इशारों में इसके पीछे सेना का हाथ बताया। उन्होंने कहा कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा और गोपनीयता से जुड़ा मामला है, इसे ऐसे ही रहने देना चाहिए।परमाणु परीक्षण के समय विदेश जाने से जुड़े सवाल के जवाब में उन्होंने कहा- मैं स्पेशल ड्यूटी पर विदेश गया था। नवाज से परमाणु परीक्षण का श्रेय कोई नहीं ले सकता: पीएमएल-एन पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के नेता राणा सनाउल्लाह ने परमाणु परीक्षण से जुड़े रेल मंत्री के दावे को

सुरक्षा परिषद के नॉन-परमानेंट मेंबर के लिए अगले महीने चुनाव, भारत की एक सीट पक्की

Image
संयुक्त राष्ट्र की महासभा ने सुरक्षा परिषद के पांच नॉन-परमानेंट मेंबरों के लिए जून में चुनाव कराने का फैसला लिया है। भारत की एक सीट पक्की मानी जा रहीहै, क्योंकि एशिया-प्रशांत सीट से केवल भारत ही एकमात्र दावेदार है। 193 सदस्यों वाली महासभा ने कोरोना महामारी के कारण शुक्रवार को पूरे सदस्यों की बैठक के बिना गुप्त मतदान के जरिए चुनाव कराने का फैसला लिया। फैसले के अनुसार साल2021-22 के कार्यकाल के लिए 17 जून से चुनाव कराए जाएंगे। भारत भी नॉन-परमानेंट मेंबर की एक सीट के लिए उम्मीदवार है और उसकी जीत पक्की मानी जा रही है। सुरक्षा परिषद में नॉन-परमानेंट मेंबर के लिए 10 सीट खाली हैं। हर साल पांच सीटों पर चुनाव कराया जाता है। नॉन-परमानेंट मेंबर का कार्यकाल दो साल का होता है। भारत कोपाकिस्तान और चीन का समर्थन भारत की उम्मीदवारी को चीन और पाकिस्तान सहित एशिया-प्रशांत समूह के 55 सदस्यों ने पिछले साल जून में सर्वसम्मति से समर्थन दिया था। मतदान के तरीके में बदलाव से भारत पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उसकी एक सीट पक्की है। इस तरह होंगे चुनाव परंपरागत रूप से, सुरक्षा परिषदका चुनाव महासभा हॉल में आयोजित क

पहली बार निजी कंपनी दो अंतरिक्ष यात्रियों को आईएसएस ले जाएगी, तीन दिन पहले मौसम खराब होने पर टला था मिशन

Image
यदि मौसम ठीक रहा तो आज अमेरिका अपने दो अंतरिक्ष यात्रियों को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन भेजेगा। इन अंतरिक्ष यात्रियों को पहली बार प्राईवेट कंपनी स्पेसएक्स के क्री ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट से भेजा जाएगा। इस एतिहासिक मिशन का नाम ‘क्रू डेमो-2’ रखा है। 21 जुलाई 2011 के बाद अब पहली बार अमेरिकी धरती से अमेरिकी रॉकेट पर कोई मानव मिशन अंतरिक्ष में जाएगा। स्पेसएक्स के क्रू ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट को अमेरिका के सबसे भरोसेमंद रॉकेट फॉल्कन-9 से ऊपर भेजा जाएगा। स्पेसएक्स अमेरिकी उद्योगपति एलन मस्क की कंपनी है। यह नासा के साथ मिलकर भविष्य के लिए कई अंतरिक्ष मिशन पर काम कर रही है। इसके स्पेसक्राफ्ट से अंतरिक्षयात्री रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले को आईएसएस पर भेजा जाएगा। 27 मई को 17 मिनट पहले टला था मिशन पहले इस मिशन को 27 मई की रात को नासा के कैनेडी स्पेस सेंटर से लांच होना था, लेकिन मौसम खराब होने की वजह से 17 मिनट पहले ही मिशन रोक दिया गया था। नासा ने कोरोना को देखते हुए लोगों से अपने घरों पर रहने और लॉन्चिंग देखने के लिए न आने की अपील की थी। हालांकि, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उनकी बेटी इवांका ट्रम्प अपने

अमेरिकी सांसद बोले- संपन्न, ताकतवर और लोकतांत्रिक भारत ही चीन के गलत मंसूबो को नाकाम करेगा

Image
एक अमेरिकी सीनेटर ने कहा है कि संपन्न, ताकतवर और लोकतांत्रिक भारत ही चीन के गलत मंसूबों को नाकाम करेगा। चीन और अमेरिका में मौजूदा दौर में तनाव बहुत बढ़ा हुआ है। दोनों देशों में कोरोनावायरस के सोर्स, हॉन्गकॉन्ग में नया सुरक्षा कानून और साउथ चाइना सी (दक्षिण चीन सागर) जैसे मुद्दों को लेकर टकराव बढ़ गया है। टेक्सॉस से रिपब्लिक पार्टी के सीनेटर जॉन कॉर्निन ने गुरुवार को ट्वीट किया। इसके साथ ही उन्होंने वॉल स्ट्रीट जर्नल में विदेश मामलों के जानकार वॉल्टर रसेल मीड के एक लेख को शेयर किया, इसमें कहा गया है कि अमेरिका को भारत की लॉन्गटर्म विकास दर को उठाने में मदद करनी चाहिए। यह अमेरिका की विदेश नीति का पहला लक्ष्य होना चाहिए। भारत हमारा नेचुरल सहयोगी रसेल मीड लिखा, ‘‘अमेरिका ने शीत युद्ध में जीत लोकतांत्रिक देशों को अमीर बनाने में मदद करके पाई थी। अब उसी रणनीति को दोबारा से शुरू करने का समय है और भारत वह जगह है जहां से इसकी शुरुआत होनी चाहिए। ’’ मीड ने कहा कि चीन के साथ नए शीत युद्ध में भारत, अमेरिका का नेचुरल सहयोगी है। भारतीय इकोनॉमी को तेज धक्के की जरूरत मीड ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद

अमेरिका और ब्रिटेन ने चीन के नए सुरक्षा कानून पर चिंता जताई, चीन और रूस बोले- अपने काम से मतलब रखें

Image
हॉन्गकॉन्ग में चीन के ओर से लागू किए गए विवादित सुरक्षा कानून का मुद्दा अब संयुक्त राष्ट्र में पहुंच गया है। संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) मेंशुक्रवार को इस मामले पर चर्चाहुई। चर्चा में अमेरिका और ब्रिटेन ने चीन के नए कदम पर चिंता जताई है। जवाब में चीन ने कहा कि अपने काम से मतलब रखें। रूस ने इस मामले पर चीन का साथ दिया है। बंद कमरे में वर्चुअल मीटिंग हुई चीन ने हॉन्गकॉन्ग में नया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लागू किया है, जिसके तहत चीन का विरोध करना देशद्रोह माना जाएगा। इसको लेकर अमेरिका ने सुरक्षा परिषद से औपचारिक और खुली बैठक की मांग की थी। अलजजीरा की खबर के मुताबिक 15 सदस्यीय परिषदने खुले तौर पर चर्चा करने से मना कर दिया, लेकिन बंद कमरे में अनौपचारिक रूप से वर्चुअल मीटिंग हुई। मालूम हो किबंद कमरे पर हुई किसी भी बैठक का रिकॉर्ड नहीं रखा जाता है और इसका आधिकारिक बयान भी नहीं जारी होता। संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका के दूत केली क्राप्ट ने पूछा, ‘‘क्या हम हॉन्गकॉन्ग के लाखों नागरिकों के मानवाधिकार और सम्मान से जीने के अधिकारों की रक्षा के लिए एक स्डैंड लेगें?... या क्या हम ची

संक्रमण के बाद सर्जरी करवाने वालों को मौत का खतरा ज्यादा, छोटे ऑपरेशन में भी जोखिम 1% से बढ़कर 19% हुआ

Image
कोरोनावायरस को मात देने के बाद अगर कोई सर्जरी प्लान कर रहा है तो वह फिलहाल टाल दे। वीकली जर्नल द लैंसेट में प्रकाशित ताजा अध्ययन में बताया गया है कि ऐसे मरीजों में मौत का खतरा पहले की तुलना में ज्यादा है। शोधकर्ताओं ने इसके लिए 24 देशों के 235 अस्पतालों में 1128 मरीजों के डेटा का अध्ययन किया। इनमें यूरोप, अफ्रीका, एशिया और उत्तरी अमेरिका के मरीज शामिल थे। बर्मिंघम के विशेषज्ञों की अगुआई वाली एनआईएचआर ग्लोबल रिसर्च हेल्थ यूनिट ने यह अध्ययन किया। 30 दिन के इस अध्ययन में मृत्युदर 23.8% पाई गई। अलग-अलग तरह की सर्जरी में भी मृत्युदर काफी ज्यादा थी। 1% से बढ़कर 19% हुआ मृत्यु का खतरा शोधकर्ता अनील भांगू ने कहा, ‘‘आमतौर पर हम मानते हैं कि इलेक्टिव (इमरजेंसी के अलावा) सर्जरी में मौत की दर 1% होती है, लेकिन हमारे अध्ययन में पता चला कि कोरोना संक्रमण के मरीजों में यह माइनर और इलेक्टिवदोनों सर्जरी में ज्यादा है। माइनर सर्जरी में यह 16.3% और इलेक्टिव में 18.9% है। यहां तक कि कोरोना संक्रमण से पहले सबसे ज्यादा खतरे वाले मरीजों में जो मृत्युदर थी, यह उससे भी ज्यादा है।’’ सर्जरी मृत्युदर इ

अश्वेत की मौत पर दंगा भड़कने से व्हाइट हाउस को बंद किया, फ्लॉयड की गर्दन पर घुटना रखने वाले पुलिसकर्मी पर हत्या का आरोप

Image
अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की मौत में शामिल एक पूर्व मिनीपोलिस पुलिस अफसर पर थर्ड-डिग्री हत्या का आरोप लगाया गया है। पुलिस अफसर डेरेक चौविन पर हेनेपिन काउंटीअटॉर्नी कार्यालय ने यह आरोप लगाया है। ‘द हिल’ ने काउंटी के अटॉर्नी माइक फ्रीमैन के हवाले से ये जानकारी दी। उधर, फ्लॉयड की मौत के बाद भड़के दंगे के चलते व्हाइड हाउस को लॉकडाउन कर दिया गया है। मीडिया के मुताबिक, शुक्रवार को सीक्रेट सर्विस ने व्हाइट हाउस के बाहर एक व्यक्ति को हिरासत में भी लिया था। मिनेसोटा में हत्या के आरोपों में 25 साल तक की जेल की सजा का प्रावधान है। चौविन को एक दिन पहले ही हिरासत में लिया गया था। फ्लॉयड की गिरफ्तारी का फुटेज वायरल होने के बाद मंगलवार को चार अफसरों को निकाला गया था। चौविन उनमें से एक था। मिनीपोलिस में 26 मई कोअश्वेत फ्लायड को पुलिस ने धोखाधड़ी के मामूली आरोप में गिरफ्तार किया। पुलिस8 मिनट तक गर्दन दबाए रही इस दौरान एक पुलिस अफसर उसे सड़क पर उल्टा लिटाकर आठ मिनट तक घुटने से गर्दन दबाए रहा था। उसके हाथों में हथकड़ी थी। इसका वीडियो भी वायरल हुआ था। 40 साल का जॉर्ज लगातार पुलिस अफसर से घुटना हटाने की

ब्राजील में स्पेन से ज्यादा मौतें हुईं, यहां अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा 4.68 लाख मरीज: अब तक 60.29 लाख संक्रमित

Image
दुनिया में अब तक 60 लाख 29 हजार 950 लोग संक्रमित हैं। 26 लाख 59 हजार 239 लोग ठीक हुए हैं। मौतों का आंकड़ा 3 लाख 66 हजार 802 हो गया है। उधर, ब्राजील में 27 हजार 944 की जान जा चुकी है। यह आंकड़ा स्पेन (27,121) से ज्यादा है। ब्राजील में एक दिन में 1,124 लोगों ने दम तोड़ाहै। यह अमेरिका के बाद दूसरा सबसे ज्यादा संक्रमित देश है। यहां मरीजों की संख्या 4.68 लाख से ज्यादा है। कोरोनावायरस : 10 सबसे ज्यादा प्रभावित देश देश कितने संक्रमित कितनी मौतें कितने ठीक हुए अमेरिका 17,93,530 1,04,542 5,19,569 ब्राजील 4,68,338 27,944 1,93,181 रूस 3,87,623 4,374 1,59,257 स्पेन 2,85,644 27,121 1,96,958 ब्रिटेन 2,71,222 38,161 उपलब्ध नहीं इटली 2,32,248 33,229 1,52,844 फ्रांस 1,86,238 28,662 67,191 जर्मनी 1,83,019 8,594 1,64,100 भारत 1,73,491 4,980 82,627 तुर्की 1,62,120 4,489 1,25,963 ये आंकड़ेhttps://ift.tt/37Fny4L से लिए गए हैं। अमेरिका: एक दिन में 1225 मौतें अमेरिका में 24 घंटे में 1225 लोगों की मौत हुई है। यहां मरने वालों की संख्या

डेनमार्क में बना कोरोना टेस्ट करने वाला दुनिया का पहला रोबोट; खुद ही कर लेगा स्वाब टेस्ट

Image
दुनियाभर में 59 लाख लोग कोरोनावायरस की चपेट में आ चुके हैं, जबकि साढ़े तीन लाख से ज्यादा जान गंवा चुके हैं। ऐसे में डेनमार्क के वैज्ञानिकों ने एक रोबोट बनाया है, जो खुद ही टेस्ट के लिए स्वाब लेकर उसे सुरक्षित करने का काम कर लेता है। इसका फायदा यह है कि इससे नमूना लेने वाले स्वास्थ्यकर्मियों को संक्रमण से बचाया जा सकेगा। रोबोट को यूनिवर्सिटी ऑफ सदर्न डेनमार्क ने बनाया है। यह कोरोना टेस्ट के लिए दुनिया का पहला ऑटोमैटिक रोबोट है। इसे बनाने वाले प्रोफेसर थियुसियुस रजीत सवारीमुथु बताते हैं,‘सबसे पहले अपना टेस्ट किया। हैरान था कि रोबोट ने आसानी से गले में उस जगह स्वाब पहुंचाया, जहां उसे पहुंचाना था। यह बड़ी सफलता है।’ वे करीब एक महीने से 10 लोगों की टीम के साथ रोबोट विकसित करने में लगे थे। अभी नमूना लेने के दौरान स्वास्थ्यकर्मियों को पीपीई किट पहन कर रखनी होती है। इन्हें दोबारा इस्तेमाल नहीं किया जा सकता, इसलिए स्वास्थ्यकर्मियों से उम्मीद की जाती है कि वे कम से कम 8-9 घंटों तक इन्हें पहन कर रखें। ऐसे में रोबोट से मदद मिलेगी। जून से शुरू हो सकता है 3-डी प्रिंटर से बने इस रोबोट का इस्तेमाल

चार एशियाई देशों में छूट देते ही कोरोना के मरीज बढ़ने लगे, अब फिर से सख्ती; दक्षिण कोरिया में पिछले 24 घंटे में 79 नए केस

Image
कोरोना को लेकर एशियाई देशों में स्थिति बिगड़ती जा रही है। जिन देशों ने शुरुआत में कोरोना को संभाल लिया था, वहां पर छूट के बाद मरीज बढ़ने लगे हैं। इनमें दक्षिण कोरिया, फिलीपींस, श्रीलंका और इंडोनेशिया प्रमुख हैं। दक्षिण कोरिया तो शुरुआत से ही कोरोना को काबू में रखकर चल रहा था। लगभग 5 करोड़ की आबादी वाला ये देश हर छोटी कोशिश को भी तवज्जो दे रहा था, स्कूल बंद कर दिए गए थे, लोगों को घर से काम करने को कह दिया गया। मार्च के अंत में तो रोज 20 हजार लोगों की जांच की जा रही थी। तब यह दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा थी। दोबारा स्कूल खुले और छूट मिली तो बढ़ने लगा संक्रमण लेकिन 20 मई से दोबारा स्कूल खुले और छूट मिली, तो संक्रमण बढ़ने लगा। गुरुवार को 79 नए मरीज मिले। इसके बाद स्कूल-कॉलेज दोबारा बंद करने के आदेश दे दिए गए हैं। शिक्षा मंत्री जोंग यून-कियोंग ने कहा कि फिर से सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की जरूरत पड़ सकती है, क्योंकि लोगों की बढ़ती गतिविधियों की वजह से संक्रमण के संपर्कों का पता लगाना मुश्किल है। नए मामलों में से ज्यादातर ई-कॉमर्स कंपनी से जुड़े हैं। फिलीपींस: वुहान से भी लंबा लॉकडाउन,

काेराेना वाली सतह छूने से पाॅजिटिव हाेने का कितना जाेखिम, विशेषज्ञ बोले- उन हाथाें से चेहरा, नाक-आंख न छुएं और साबुन से हाथ धाे लें 

Image
संक्रमित सतह काे छूने से काेराेनावायरस हाेने के डर के चलते ही हम पिछले महीनाें से सब्जियां धाे रहे हैं, पैकेट लाकर कुछ समय यूं ही छाेड़ देते हैं और लिफ्ट का बटन दबाते वक्त तनाव में रहते हैं। लेकिन, वायरस वाली सतह या किसी वस्तु से काेविड-19 हाेने का असल खतरा कितना है? हाल ही में सीडीसी (सेंटर्स फाॅर डिसीज कंट्राेल एंड प्रिवेंशन) ने सतह से संक्रमण फैलने की अपनी चेतावनी काे शिथिल कर दिया था। उसके मुताबिक सतह से संक्रमण फैलने का खतरा नहीं था। इसके तत्काल बाद उसने फिर चेतावनी जारी कर स्पष्ट किया कि संक्रमित सतह से अप्रत्यक्ष संपर्क (फाेमाइट ट्रांसमिशन) से भी काेविड-19 हाेने का खतरा बना रहता है। 'लिफ्ट के बटन या रैलिंग जैसी सतह संक्रमण फैलने के मुख्य वाहक नहीं' यूनिवर्सिटी ऑफ मैसाचुसेट्स के कंपेरेटिव इम्यूनाेलाॅजिस्ट एरिन ब्राेमेज कहते हैं, ‘डाेअरनाॅब्स, लिफ्ट के बटन या रैलिंग जैसी सतह संक्रमण फैलने के मुख्य वाहक नहीं हैं, लेकिन फिर भी अपने चेहरे काे छूना मुश्किल परिस्थिति बना सकता है। यदि काेई संक्रमित अपने हाथ पर खांसता है, फिर आपसेहाथ मिला लेता है और उन्हीं हाथाें से आप अपनी आ

ट्रम्प ने सुरक्षा के मद्देनजर कुछ चीनी नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश पर रोक लगाई, डब्ल्यूएचओ से सभी रिश्ते तोड़ने का ऐलान किया

Image
दुनियाभर में फैली कोरोना महामारी को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार को एक बार फिर चीन और डब्ल्यूएचओ पर कटघरे में खड़ा किया। अमेरिका पहले ही डब्ल्यूएचओ की फंडिंग रोक चुका है। अब ट्रम्प ने स्वास्थ्यसंगठन के साथ सभी रिश्ते खत्म करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि हमडब्ल्यूएचओ के कोटे काफंड स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करने वाली किसी दूसरी संस्था को देंगे। ट्रम्प ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन पर चीन का पूरा नियंत्रण है। चीन उसे 40 मिलियन डॉलर देता है, लेकिन अमेरिका एक साल में 450 मिलियन डॉलर की मदद डब्ल्यूएचओ को देता था। उन्होंने हमारी मांग नहीं मानी, इसलिए हम डब्ल्यूएचओ से संबंध खत्म कर रहे हैं।ट्रम्प ने गुरुवार को कहा था कि कोरोनावायरस दुनिया के लिए चीन का एक बुरा तोहफा है। चीन पर जासूसी और जानकारियां चुराने का आरोप लगाया अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन पर लंबे समय तक जासूसी करने और औद्योगिक जानकारियां चोरी करने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि आज अमेरिका की अहम रिसर्च को बेतहर तरीके से सुरक्षित रखने की घोषणा करूंगा। हम विदेशी जोखिमों के तौर पर पहचान रखने वाले चीन के कुछ