दुनिया में 10 लाख केस होने में 94 दिन लगे, सिर्फ 48 दिन में मरीजों की संख्या 40 लाख के पार पहुंची

कोरोनावायरस का पहला मामला 31 दिसंबर को चीन के वुहान शहर में मिला था। इसके बाद देखते ही देखते पूरी दुनिया इसकी चपेट में आ गई। बुधवार को दुनियाभर में मरीजों की संख्या 50 लाख पार कर गई। 31 दिसंबर से 2 अप्रैल यानी 94 दिन में 10 लाख केस सामने आए थे। वहीं, केवल 46 दिन में संक्रमितों की संख्या 40 लाख के पार पहुंच गई।

संक्रमण के 50 लाख केस में 19 लाख 71 हजार 193 ठीक हो चुके हैं। यानी 86% मरीजों का अब अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है। वहीं, तीन लाख 25 हजार 172 की मौत हो चुकी है, जो कुल आंकड़ों का 14% है। वहीं, एक्टिव केस 27 लाख 5 हजार 882 हैं। मतलब ये वो केस हैं, जो अभी अस्पताल में भर्ती हैंया जिनमें कोरोना की पुष्टि हो चुकी है।

दुनिया के 10 सबसे प्रभावित देशों का हाल

अमेरिका: महामारी के शुरू होने से 94 दिन में भी सबसे ज्यादा केस अमेरिका में ही थेयानी 2 अप्रैल तक देश में दो लाख 50 हजार 708 केस हो चुके थे। जबकि 48 दिनों में यहां 13 लाख 19 हजार 878 केस मिले। यहां बुधवार तक मरीजों की संख्या 15 लाख 70 हजार 583 पहुंच गई है। यहां अब तक 3 लाख 61 हजार 180 ठीक हो चुके हैं।

रूस: यहां संक्रमण का आंकड़ा 2 लाख 99 हजार 941 हो गया है। यहां मई में तेजी से संक्रमण फैला है। इस महीने अब तक यहां 1 लाख 94 हजार 274 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, दो अप्रैल तक यहां केवल 3548 केस थे, जबकि 48 दिन में 3 लाख 5 हजार 157 केस सामने आए।

स्पेन: यूरोप का तीसरा सबसे संक्रमित देश है। यहां भी मार्च में काफी तेजी से मामले बढ़े थे। यहां 2 अप्रैल तक 1 लाख 12 हजार 65 केस थे। जबकि 48 दिन में 1 लाख 66 हजार 738 मामले सामने आए। अभी यहां दो लाख 78 हजार 803 मामले हैं।

ब्राजील: यहां संक्रमण के मामले मई में काफी तेजी से बढ़ने शुरू हुए। इस महीने यहां सबसे ज्यादा 1 लाख 79 हजार 776 केस मिले हैं। ब्राजील में दो अप्रैल तक केवल 8,044 केस थे। वहीं, अगले 48 दिनों में यहां 2 लाख 63 हजार 841 मामले सामने आए। यहां अब तक 1 लाख 6 हजार 794 मरीज ठीक हुए।

ब्रिटेन: यहां संक्रमितों की संख्या 2 लाख 48 हजार 818 है। यहां 2 अप्रैल तक 33 हजार 718 केस मिले थे। वहीं, 48 दिन में 2 लाख 15 हजार 100 केस मिले हैं। अप्रैल में यहां सबसे ज्यादा 1 लाख 41 हजार 779 मामले सामने आए हैं।

इटली: यह यूरोप के सबसे प्रभावित देशों में से एक है। यहां 2 अप्रैल तक अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा 1 लाख 15 हजार 242 मामले थे। जबकि 48 दिन में 1 लाख 11 हजार 457 मरीज मिले। अब यहां संक्रमितों की संख्या 2 लाख 26 हजार 699 है। इटली में मार्च में सबसे ज्यादा 1 लाख 4 हजार 91 केस सामने आए।

फ्रांस: यहां फिलहाल 1 लाख 80 हजार 809 लोग संक्रमित हैं। यहां 2 अप्रैल तक 59 हजार 105 केस सामने आए थे। वहीं, 48 दिन में 1 लाख 21 हजार 704 केस मिले थे। यहां सबसे ज्यादा 1 लाख 10 हजार 189 मामले अप्रैल में सामने आए थे।

जर्मनी: यहां अब तक 1 लाख 77 हजार 842 मामले सामने आए हैं। देश में दो अप्रैल तक 84 हजार 794 केस मिले थे। जबकि 48 दिन में 93 हजार 78 मरीज मिले थे। जर्मनी में सबसे ज्यादा 85 हजार 28 केस अप्रैल में सामने आए।

तुर्की: मध्य-पूर्व के देशों में तुर्की में सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। यहां दो अप्रैल तक 18 हजार 135 केस थे, जो अगले 48 दिनों में 1 लाख 33 हजार 480 मामले सामने आए। फिलहाल, यहां 1 लाख 51 हजार 615 मरीज मिल चुके हैं। यहां अप्रैल में सबसे ज्यादा 1 लाख 4 हजार 525 मामले सामने आए थे।

ईरान: यहां अब तक 1 लाख 24 हजार 603 मामले सामने आए हैं। यहां 2 अप्रैल तक 50 हजार 468 केस मिले थे। वहीं, अगले 48 दिन में 74 हजार 135 मामले सामने आए। यहां अप्रैल में सबसे ज्यादा 49 हजार 47 केस मिले।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
It took 94 days to have 10 lakh cases in the world, the number of patients crossed 40 lakhs in just 48 days.


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2zfWBIX

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे