ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने छह बंदरों पर वैक्सीन का टेस्ट किया, 14 दिनों में बनने लगी एंटीबॉडी

ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कोविड-19 के इलाज के लिए बनाई गई वैक्सीन को छह बंदरों पर टेस्ट किया है। टेस्ट के परिणाम सकारात्मक आए हैं। इस वैक्सीन का इंसानों पर भी टेस्ट किया जा रहा है। करीब 1000 वॉलंटियरों ने क्लीनिकल ट्रायल्स में भाग लिया है।

‘सीएचएडीऑक्स1 एनसीओवी-19’ नाम की इस वैक्सीन का छह रीसस मकाऊ बंदरों पर टेस्ट किया गया।इन बंदरों में टेस्ट से यह पता चल सकेगा कि वैक्सीन इंसानों परकैसा प्रभाव डालेगी, क्योंकि दोनों का इम्यून सिस्टम एक जैसा है। हालांकि, इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि इंसानों में परिणाम इतने अच्छे ही आएंगे।

शोधकर्ताओं ने बताया किकोविड-19 से संक्रमित बंदरों को दो ग्रुप में बांटा गया था। इस दौरान जिनको वैक्सीन का इंजेक्शन लगाया गया था, उनकी हालत दूसरों से बेहतर थी। उनमें 14 दिनों के भीतर एंटीबॉडी बनने लगी थी।इससे यह सामने आया कि ‘सीएचएडीऑक्स1 एनसीओवी-19’ का रीसस मकाऊ बंदरों पर परिणाम बेहतर है।

अमेरिका में किया गया टेस्ट
बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी सरकार के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने अमेरिका में यह परीक्षण किया था। इस वैक्सीन को ऑक्सफोर्ड वैक्सीन ग्रुप और ऑक्सफोर्ड के जेनर इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने बनाया है।

इंसानों पर भी चल रहा है वैक्सीन का ट्रायल
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इंसानों पर भी वैक्सीन का परीक्षण शुरू कर दिया है। यह परीक्षण तीन चरणों में होना है। पहले चरण के परिणाम सकारात्मक मिलते ही, आगे का परीक्षण शुरू किया जाएगा। दुनियाभर में अभी 100 वैक्सीन पर शोध चल रहा है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
वैक्सीन का नाम ‘सीएचएडीऑक्स1 एनसीओवी-19’ है। अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने मिलकर यह टेस्ट किया है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3fOLebH

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस