चीन ने कहा- अमेरिका यूएन में अपना बकाया चुकता करें, उस पर 151 अरब रुपये से ज्यादा का बकाया

चीन ने शुक्रवार को यूनाइटेड नेशंस के मेंबर देशों से अपना बकाया चुकाने को कहा है। उसने खासकर अमेरिका का नाम लेते हुए कि उस पर 2 अरब डॉलर ( 151 अरब 75 करोड़ रुपये) से ज्यादा का बकाया है।
चीन ने यूएन के सेक्रेटरी जनरल ऑफिस की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा,‘‘14 मई तक यूएन के नियमित बजट का 1.63 अरब डॉलर और पीसकीपिंग बजट का 2.14 अरब डॉलर बकाया है।’’ चीन ने कहा कि इसमें कई देशों के कई सालों का बकाया शामिल है। अमेरिका के ऊपर सबसे ज्यादा बकाया है। उसे नियमित बजट में 1.165 अरब और पीसकीपिंग बजट में 1.332 अरब डॉलर का भुगतान करना है। चीन के इस बयान पर अमेरिका ने पलटवार करते हुए कहा है कि चीन कोविड-19 पर अपनी लापरवाही से दुनिया का ध्यान हटाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रहा है। यह भी उसी का हिस्सा है।अमेरिका ने कहा- हमनेहाल ही में पीसकीपिंग बजट के लिए 72.6 करोड डॉलर दिए हैंऔर साल के अंत में बाकीभुगतान किया जाएगा।

यूएन के पीसकीपिंग मिशन में जब सदस्य देश फंड देने में देरी करते हैं तो इसका सीधा असर उन देशों पर पड़ता है, जहां के सैनिक यूएन के मिशन में तैनात होते हैं। ऐसे में यूएन उन देशों को सैनिकों की तैनाती के बदले में भुगतान नहीं कर पाता है। 11 मई की एक रिपोर्ट में सेक्रेटर जनरल एंतोनियो गुतेरस ने भी इस बारे में चेताया था।
अमेरिका सबसे ज्यादा हिस्सेदारी देता है
यूएन के टोटल बजट में सबसे बड़ा हिस्सा अमेरिका ही देता है। अमेरिका यूएन की वार्षिक लागत का 22 प्रतिशत (तीन अरब डॉलर) भुगतान करता है। इसके साथ ही यूएन के पीसकीपिंग मिशन में अमेरिका 25 प्रतिशत (6 अरब डालर) की हिस्सेदारी देता है। हालांकि, पहले अमेरिका पीसकीपिंग बजट में 27.89 प्रतिशत की हिस्सेदारी देता था, लेकिन 2017 में अमेरिकी कांग्रेस ने इसमें कटौती का फैसला लिया था। इसके चलते यह घटकर 25 प्रतिशत हो गया है। इससे अब अमेरिका को साल में 20 करोड़ डॉलर कम देने पड़ते हैं।

अमेरिका के बाद चीन का नंबर आता है
गुरुवार को यूएन के 193 में से करीब 50 देशों ने पूरे बकाए का भुगतान कर दिया है।, इसमें चीन भी शामिल है। अमेरिका के बाद चीन सबसे ज्यादा हिस्सेदारी देता है। हालांकि, अमेरिका की तुलना में उसकी हिस्सेदारी बहुत कम है। यह यूएन की लागत का करीब 12 प्रतिशत और पीसकीपिंग बजट की करीब 15 प्रतिशत हिस्सेदारी चुकाता है।

डब्ल्यूएचओ को चीन जितनी फंडिंग देगा अमेरिका

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का प्रशासन वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेसन की फंडिंग बहाल करने के लिए तैयार है। फॉक्स न्यूज ने मुताबिक अमेरिका अब उतनी ही फंडिंग देगा, जितनी चीन देता है। अमेरिका डब्ल्यूएचओ में सबसे ज्यादा फंडिंग देता है। अगर अमेरिका चीन के जितनी फंडिंग देगा तो यह उसकी पहले दी जाने वाली फंडिंग का मात्र 10 प्रतिशत होगा। 14 अप्रैल को ट्रम्प ने कोविड-19 को लेकर डब्ल्यूएचओ पर फर्जीवाड़े का आरोप लगाते हुए फंडिंग रोक दी थी। अमेरिका हर साल 40 करोड़ डॉलर की फंडिंग करता रहा है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
चीन समेत 50 देशों ने गुरुवार को यूएन के पूरे बकाए का भुगतान कर दिया। यूएन में 193 देश मेंबर हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3bDOlQn

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे