चीन ने अब्राहम लिंकन का कोट ‘आप सभी लोगों को हमेशा बेवकूफ नहीं बना सकते’ पोस्ट किया, 30 पेज का आर्टिकल लिख अमेरिका के आरोपों को नकारा

कोरोनावायरस पर अमेरिका सहित दुनियाभर से लगाए जा रहे आरोपों के बीच चीन ने एक आर्टिकल के जरिए सफाई दी है। खास बात यह है कि इस लेख की प्रस्तावना में अमेरिका के 16 वें राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन का फेमस कोट शामिल किया गया है। आर्टिकल मे लिखा है ‘‘जैसा कि लिंकन ने कहा था- आप कुछ लोगों को हमेशा बेवकूफ बना सकते हैं और सभी लोगों को कुछ समय के लिए बेवकूफ बना सकते हैं, लेकिन आप सभी लोगों को हमेशा के लिए बेवकूफ नहीं बना सकते।’’

30 पेज और 11 हजार शब्दों का आर्टिकल
चीन का विदेश मंत्रालय पिछले कई हफ्तों से प्रेस कांफ्रेंस में अमेरिकी राजनेताओं और विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ के आरोपों को लगातार खारिज करता रहा है। शनिवार को विदेश मंत्रालय ने वेबसाइट में 30 पेज में 11 हजार शब्दों का आर्टिकल पोस्ट किया है। इस आर्टिकल में उन मीडिया रिपोर्ट्स का भी हवाला दिया है, जिनमें कहा गया है कि वुहान में पहला मामला आने से पहले ही अमेरिकी लोग वायरस की चपेट में आए थे। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि यह वायरस मैन मेड नहीं है। वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी वायरस को एडिट नहीं कर सकता है। आर्टिकल में एक टाइमलाइन भी दी गई है, इसमें कहा गया है कि चीन ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को समय पर जानकारी दी थी। उसने सबकुछ खुला और पारदर्शी रखा।

जर्मनी की रिपोर्ट में चीन की गलती सामने आई है
चीन पर आरोप लगे हैं कि उसके यहां वुहान की लैब से ही कोरोनावायरस निकला है और चीन ने जानबूझ कर दुनिया को सही समय पर चेतावनी नहीं दी। पिछले शुक्रवार को डे स्पीगल मैग्नजीन की एक रिपोर्ट में जर्मनी की बीएनडी स्पाई एजेंसी के हवाले से बताया गया था कि चीन ने शुरुआती चार से छह हफ्ते सूचना को दबाए रखा, इस समय का इस्तेमाल वायरस से लड़ने में किया जा सकता था।

पश्चिम देशों की आलोचनाओं को भी नकारा
इस आर्टिकल में पश्चिमी देशों की उन आलोचनाओं को भी नकारा गया है, जिसमें कहा गया है कि वायरस की सबसे पहले सूचना देने वाले डॉक्टर ली वेनलियांग को जेल में डाल दिया गया। बाद में उनकी मौत भी वायरस से हो गई। आर्टिकल में कहा गया है कि डॉ. लि ने सबसे पहले जानकारी नहीं दी थी और उन्हें कभी गिरफ्तार भी नहीं किया गया। बताया गया कि ली को अफवाह फैलाने के कारण पुलिस ने फटकार लगाई थी। उनकी मौत के बाद चीन ने उन्हें शहीदों में शामिल किया है।

वुहान वायरस या चीनी वायरस कहने पर विरोध किया
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के हाल ही में सुझाव दिया था कि कोरोनावायरस को चीनी वायरस या वुहान वायरस कहना चाहिए। आर्टिकल में इसका विरोध किया गया है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के हवाले से बताया गया है कि किसी भी वायरस का नाम देश के नाम पर नहीं रखा जा सकता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
बीजिंग में प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिआन। चीन लगातार अपनी प्रेस कान्फ्रेंस में अमेरिका के आरोपों को नकारता रहा है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2SQzdbG

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस