चीन ने एक वीडियो जारी कर उड़ाया अमेरिका का मजाक, कहा- हम सावधान रहे, वे नजरअंदाज करते रहे

कोरोनावायरस के संक्रमण पर अमेरिका की ओर से लगातार लगाए जा रहे आरोपों के बाद चीन ने एक वीडियो जारी किया है। इस वीडियो से संदेश दिया गया है कि चीन लगातार वायरस को लेकर सावधान करता रहा, जबकि अमेरिका उसे नजरअंदाज करता रहा।
फ्रांस में चीन की एंबेसी ने ट्विटर पर एनिमेटेड विडियो पोस्ट किया है और इसका टाइटल दिया गया है- ‘वंस अपॉन ए वायरस’। इस वीडियो में वायरस की टाइमलाइन भी दिखाई गई है। कार्टूनों के जरिए इसमें चीन सावधानी जारी करते हुए दिखाया गया और अमेरिका आरोप लगाते हुए। चीन ने कहा है कि वह शुरुआत से ही वायरस के बारे में एक-एक जानकारी देता रहा है, लेकिन अमेरिका ने कोई ध्यान नहीं दिया।

एक मिनट 39 सेकंड का वीडियो
एक मिनट 39 सेकंड के वीडियो में दिखाया गया है कि चीन जनवरी में अपने यहां लॉकडाउन की घोषणा करता है और अमेरिका इसे बर्बर करार देता है। इसमें यह भी दिखाया गया है कि अमेरिका चीन पर मानवाधिकार हनन के बार-बार आरोप लगाता है। वीडियो को लेकर ट्विटर पर खूब चर्चा हो रही है। कई यूजर्स ने चीन के सही समय पर सूचना देने के दावे को गलत बताया है। चीन के वुहान से दिसंबर में कोरोनावायरस का प्रकोप शुरू हुआ था और दुनियाभर में फैल गया।

डोनाल्ड ट्रम्प लगातार चीन को ठहरा रहे हैं जिम्मेदार
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस वायरस के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा है कि वायरस वुहान इंस्टीटयूट ऑफ बायोलॉजी से निकला है। ट्रम्प ने यह भी दावा किया है कि उनके पास इसके सुबूत हैं। हालांकि, उन्होंने सुबूत दिखाने से मना कर दिया है। ट्रम्प ने इस दौरान चीन पर नए टैरिफ लगाने की भी बात कही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग। (फाइल)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3aVfOMO

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस