भारत-नेपाल के लोगों ने माउंट एवरेस्ट पर झूठे दावों को लेकर चीन को ट्रोल किया; कहा- यह नेपालियों का गौरव, फेक न्यूज फैलाना बंद करो

चीन की सरकारी मीडिया सीजीटीएन ने माउंट एवरेस्ट को तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र का हिस्सा बताया। दरअसल, टीवी चैनल ने अपने आधिकारिक ट्विटर से 2 मई को माउंट एवरेस्ट की कुछ तस्वीरें ट्वीट कीं। साथ ही लिखा दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट चोमोलुंगमा पर सूर्य की रोशनी का शानदार नजारा। इसे माउंट एवरेस्ट भी कहा जाता है।

इसके बाद भारत और नेपाल के लोगों ने चीन को ट्रोल करना शुरू कर दिया। सोशल मीडिया पर #BackOffChina ट्रेंड करने लगा। नेपाल के एक यूजर ने ट्वीट किया- माउंट एवरेस्ट नेपाल में स्थित है न कि चीन में। फर्जी खबरें फैलाना बंद करो।

एक यूजर ने लिखा- यह हमारा माउंट एवरेस्ट है। हम आपको इसे अपना बताने नहीं देंगे। नेपाल सरकार को इस पर कार्रवाई करनी चाहिए। ऐसी हरकतें बर्दाश्त नहीं की जा सकती।

ट्विटर यूजर्स ने कहा- यह हमारा है और हमेशा नेपालियों का गौरव रहेगा। कुछ यूजर्स ने चीनी राष्ट्रपति शि जिनपिंग का मेमे भी साझा किया और नेपाल सरकार को टैग भी किया।

काठमांडू के एक यूजर ने कहा, ‘‘डियर सीजीटीएनऑफिशियल माउंट एवरेस्ट नेपाल में है। चीन के तिब्बत में नहीं। इसलिए फेक न्यूज फैलाना बंद को।’’

##

एक यूजर ने #FreeTibet के साथ लिखा- चीन को ऐसी धारणाओं को छेड़ना चाहिए।

##

1960 में माउंट एवरेस्ट को दो भागों में बांटा गया था

विशेषज्ञों के मुताबिक, नेपाल और चीन ने 1960 में सीमा विवाद के समाधान को लेकर समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इसके अनुसार यह फैसला लिया गया था कि माउंट एवरेस्ट को दो भागों में बांटा जाएगा। इसका दक्षिणी भाग नेपाल और उत्तरी भाग तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र का होगा। इस पर चीन अपना दावा करता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
चीन की सरकारी टीवी चैनल सीजीटीएन ने माउंट एवरेस्ट का स्वायत्त क्षेत्र तिब्बत का हिस्सा बताया।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/35JGUFZ

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस