पहली बार निजी कंपनी दो अंतरिक्ष यात्रियों को आईएसएस ले जाएगी, तीन दिन पहले मौसम खराब होने पर टला था मिशन

यदि मौसम ठीक रहा तो आज अमेरिका अपने दो अंतरिक्ष यात्रियों को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन भेजेगा। इन अंतरिक्ष यात्रियों को पहली बार प्राईवेट कंपनी स्पेसएक्स के क्री ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट से भेजा जाएगा। इस एतिहासिक मिशन का नाम ‘क्रू डेमो-2’ रखा है। 21 जुलाई 2011 के बाद अब पहली बार अमेरिकी धरती से अमेरिकी रॉकेट पर कोई मानव मिशन अंतरिक्ष में जाएगा। स्पेसएक्स के क्रू ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट को अमेरिका के सबसे भरोसेमंद रॉकेट फॉल्कन-9 से ऊपर भेजा जाएगा।

स्पेसएक्स अमेरिकी उद्योगपति एलन मस्क की कंपनी है। यह नासा के साथ मिलकर भविष्य के लिए कई अंतरिक्ष मिशन पर काम कर रही है। इसके स्पेसक्राफ्ट से अंतरिक्षयात्री रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले को आईएसएस पर भेजा जाएगा।

27 मई को 17 मिनट पहले टला था मिशन
पहले इस मिशन को 27 मई की रात को नासा के कैनेडी स्पेस सेंटर से लांच होना था, लेकिन मौसम खराब होने की वजह से 17 मिनट पहले ही मिशन रोक दिया गया था। नासा ने कोरोना को देखते हुए लोगों से अपने घरों पर रहने और लॉन्चिंग देखने के लिए न आने की अपील की थी। हालांकि, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उनकी बेटी इवांका ट्रम्प अपने पति जेयर्ड और दोनों बच्चों के साथ केनेडी स्पेस सेंटर पहुंची थीं।

मौसम के 50 प्रतिशत अनुकूल रहने की संभावना
नासा के एडमिनिस्ट्रेटर जिम ब्रिडेनस्टाइन ने कहा कि शनिवार को मौसम के अनुकूल रहने की 50 प्रतिशत संभावना है। अगर मौसम ने साथ नहीं दिया तो लॉन्चिंग रविवार तक या इससे भी आगे के लिए भी टल सकती है। उन्होंने रिपोर्टरों से बताया, ‘‘हम शनिवार और रविवार को लॉन्चिंग के लिए देख रहै हैं। हालांकि, दो या तीन जून को लॉन्चिंग रखी जा सकती है। ’’

20 साल साल से मिशन पर काम चल रहा है

  • नासा 2000 के दशक की शुरुआत से ही अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) पर क्रू की आवाजाही का काम छोड़ने की योजना बना रहा है। इसी के तहत, उसने एक प्रोग्राम शुरू किया। इसमें निजी फर्मों को शामिल किया जाएगा।
  • अमेरिका ने 2011 में यान भेजने बंद कर दिए थे। इसके बाद अमेरिकी अंतरिक्ष अभियानों को रूस की उड़ानों का सहारा लेना पड़ा। इसका खर्च लगातार बढ़ता जा रहा था। इसके बाद नासा ने स्पेस एक्स को बड़ी आर्थिक मदद देकर अंतरिक्ष मिशन के लिए मंजूरी दी। एलन मस्क की इस कंपनी ने 2012 में पहली बार अंतरिक्ष में अपना कैप्सूल भेजा।
  • इसके बाद अमेरिकी कारोबारी एलन मस्क की स्पेसएक्स एयरोस्पेस सेक्टर की दिग्गज कंपनी बोइंग के साथ आगे आई। एलन मस्क ने स्पेसएक्स कंपनी को 2002 में बनाया था। इसका मकसद अंतरिक्ष में ट्रांसपोर्टेशन की लागत को कम करना है। साथ ही मंगल ग्रह पर इंसानी बस्तियां बनाना भी है।

टेस्टिंग के दौरान स्पेसएक्स के रॉकेट में विस्फोट
स्पेसएक्स इस समय एक हैवी लिफ्ट रॉकेट स्टारशिप पर भी काम कर रहा है। इस रॉकेट के एक प्रोटोटाइप में टेक्सास में लॉन्चिंग के दौरान विस्फोट हो गया। स्पेसएक्स के बोका चिका टेस्टिंग साइट पर शुक्रवार को टेस्टिंग की लाइव रिकॉर्डिंग चल रही थी। इसी यह इसमें विस्फोट हो गया जो लाइव रिकॉर्ड हुआ। यह रॉकेट अंतरिक्षयात्रियों को ले जाने वाले रॉकेट से बिल्कुल अलग है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
नासा ने इस एतिहासिक मिशन का नाम ‘क्रू डेमो-2’ रखा है। 21 जुलाई 2011 के बाद अब पहली बार अमेरिकी धरती से अमेरिकी रॉकेट पर कोई मानव मिशन अंतरिक्ष में जाएगा।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2MeVg8o

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस