ट्रम्प ने कहा- महामारी के समय में हम प्रधानमंत्री मोदी के साथ खड़े हैं, भारत को वेंटिलेटर दान करेंगे

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत-अमेरिका साझेदारी को महत्वपूर्ण बताया है। ट्रम्प ने शुक्रवार को कहा, “मुझे यह घोषणा करते हुए गर्व हो रहा है कि अमेरिका अपने दोस्त भारत को वेंटिलेटर डोनेट करेगा।महामारी के समय में हम भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़ेहैं। हम कोरोना का टीका विकसित करने की दिशा में भी सहयोग कर रहे हैं। दोनों देश साथ मिलकर इस अदृश्य दुश्मन को हराएंगे।”

ट्रम्प ने शुक्रवार को व्हाइट हाउस के रोज गार्डन में मीडिया से कहा- मैं हाल ही में भारत से लौटा हूं। अमेरिका में बड़ी संख्या में भारतीय आबादी रहती है। आप जिन लोगों के बारे में बात कर रहे हैं, उनमें से कई वैक्सीन पर भी काम कर रहे हैं। वे महान वैज्ञानिक और शोधकर्ता हैं। एक सवाल के जवाब में राष्ट्रपति ने कहा- प्रधानमंत्री मोदी मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं।

भारत ने अप्रैल में हइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की खेप भेजी थी
भारत ने अप्रैल में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका की मदद के लिए हाइड्रॉक्सोक्लोरोक्वीन दवा की बड़ी खेप भेजी थी। इसके बाद ट्रम्प ने मोदी के नेतृत्व को मजबूत बताते हुएउनकी प्रशंसा की थी और भारत का धन्यवाद किया था।
टीका जनता के लिए फ्री उपलब्ध होगा: ट्रम्प

ट्रम्प ने कहा-कोरोना के टीके को हम जनता के लिए फ्री में उपलब्ध कराने पर विचार कर रहे हैं। इस साल के अंत तक इसे विकसित किया जा सकता है। टीका विकसित करने के लिए ‘ऑपरेशन वार्प स्पीड’ नामक एक नए अभियान की शुरुआत की गई है। ‘ऑपरेशन वार्प स्पीड’ को इस साल के अंत तक टीका बनाने का काम सौंपा गया है। ताकि जनवरी 2021 तक उसे लोगों तक पहुंचाया जा सके।

उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि इस साल के अंत तक टीका विकसित कर लिया जाएगा। सामान्य तौर पर दवा कंपनियां सभी जरूरी मंजूरी मिलने के बाद ही किसी टीके को बनाती हैं, जिसमें काफी समय लग जाता है। हमारी सरकार टीका विकसित करने वाली टीमों के रिसर्च पर भी खर्च करेगी। साथ ही सभी मंजूरी भी दिलाएगी।

‘उम्मीद है 2020 तक वैक्सीन बना लेंगे’
ब्रिटेन की दवा कंपनी ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन के टीका विभाग के पूर्व प्रमुख मोनसेफ सलोई ने कहा, “मैंने हाल ही में एक कोरोनावायरस टीके के साथ एक क्लिनिकल परीक्षण के शुरुआती रिजल्ट का डेटा देखा है, जिसने मुझे विश्वास दिलाया है कि हम 2020 के अंत तक वैक्सीन बना लेंगे।”

अमेरिका: 24 घंटे में 1680 मौतें
अमेरिका में 24 घंटे में 1680 लोगों की मौत हो गई। देश में मरने वालों की संख्या 88 हजार से ज्यादा हो चुकी है। वहीं, 14 लाख 84 हजार 285 लोग संक्रमित हैं। सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य न्यूयॉर्क में 27 हजार लोगों की जान जा चुकी है, जबकि तीन लाख 56 हजार से ज्यादा संक्रमित हैं। राज्य में 13 जून तक स्टे-ऐट-होम ऑर्डर जारी किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
व्हाइट हाउस में फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रम्प और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। राष्ट्रपति ने कहा- अमेरिका में कई भारतीय हैं, जो वैक्सीन पर काम कर रहे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2T6DKqA

Comments

Popular posts from this blog

चीन ने कहा- हमारा समुद्री अधिकार नियम के मुताबिक, जवाब में ऑस्ट्रेलिया बोला- उम्मीद है आप 2016 का फैसला मानेंगे

अफगानिस्तान सीमा को खोलने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी, पुलिस ने फायरिंग की; 3 की मौत, 30 घायल

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था