दाऊद के साथी टाइगर हनीफ को भारत लाने की मंजूरी नहीं, पाकिस्तान मूल के राजनेता की वजह से अटका प्रत्यर्पण

ब्रिटेन ने भगोड़े गैंगस्टर दाऊदइब्राहिमकेसाथी टाइगर हनीफ को भारत को सौंपने से इनकार कर दिया है। हनीफ गुजरात में बम धमाके के दो मामलों में आरोपी है। गृह मंत्रालय के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, टाइगर का प्रत्यर्पण ब्रिटेन के एक पाकिस्तान मूल के राजनेता साजिदजावेद के कारण रुकी है। इस मामले में टाइगर को तो राहत मिल गई है, लेकिन दाऊद का एक दूसरा साथ जबीर मोटीवाला अभी भी वहां की जेल में बंद है। उस पर ड्रग फाइनेंनसिंग समेत कई आरोप हैं।
अभी भी भारत ब्रिटेन के अधिकारियों को टाइगर के प्रत्यर्पण पर दोबारा विचार करने का अनुरोध कर सकता है। हालांकि, प्रत्यपर्णको मंजूरी नहीं मिलने के बाद अब टाइगर के वकीलों को उसे कोर्ट से जमानत दिलवाने का मौका मिल जाएगा।

ब्रिटेन में 2010 में हुई थी टाइगर की गिरफ्तारी
59 साल के हनीफ की ब्रिटेन में 2010 में गिरफ्तारी हुई थी। भारतीय खुफिया एजेंसियों की जानकारी पर वहां की पुलिस ने यह कार्रवाई की थी। भारतीय अधिकारियों ने उसका प्रत्यर्पण वारंट भी हासिल किया था। हालांकि, टाइगर ने प्रत्यर्पण को कोर्ट में चुनौती दी थी। अप्रैल 2013 में ब्रिटेन की हाईकोर्ट ने उसकी अपील खारिज कर दी थी। इसके बाद उसके मामले को ब्रिटेन के गृह सचिव के पास भेज दिया गया था। हालांकि, कई साल तक यह मामला चलने के बाद ब्रिटेन के गृह सचिव (2018-19) साजिद जावेद ने उसे भारत प्रत्यर्पित करने से इनकार कर दिया।

किन मामलों में आरोपी है टाइगर हनीफ

टाइगर हनीफ को हनीफ मोम्मद उमेरजी पटेल के नाम से भी जाना जाता है। वह गुजरात में 1993 में हुए बम धमाके के आरोपी इकबाल मिर्ची से भी जुड़ा है। उसने सूरत के एक व्यस्त बाजार में हुए बम धमाके की योजना बनाई थी। इसमें एक आठ साल की बच्ची की मौत हुई थी। वह 1992 में बाबरी मस्जिद ढहाने का बदला लेने के लिए सूरत रेलवे स्टेशन पर हुए बम धमाकों में भी आरोपी है। इसमें दस से ज्यादा लोग घायल हुए थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ब्रिटेन सरकार ने दाऊद के साथी टाइगर हनीफ को भारत लाने को मंजूरी नहीं दी। वह गुजरात में हुए दो बम धमाकों का आरोपी है।(फाइल फोटो)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2yaEu6N

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे