डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि वायरस वुहान से पैदा होने के अमेरिका के दावे का कोई सबूत नहीं, हमारे हिसाब से यह केवल कल्पना

विश्व स्वास्थ्य संगठन(डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना के वुहान के लैब से फैलने के अमेरिकी सरकार के दावे पर सवाल किए हैं। डब्ल्यूएचओ के इमर्जेंसी डायरेक्टर माइकल रैयान ने सोमवार को कहा हमें सरकार से वायरस के वुहान के लैब में बनने से जुड़ा कोई सबूतया डेटा नहीं मिला है। हमारे हिसाब से यह केवल एक कल्पना है। डब्ल्यूएचओ इससे पहले भी संक्रमण से निपटने के लिए चीन की तारीफ कर चुका है।ट्रम्प प्रशासन ने हाल के दिनों में संक्रमण को लेकर चीन पर हमला तेज कर दिया है।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बाद विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भी दावा वायरस वुहान के लैब में तैयार होने का दावा किया है। अमेरिकी गृह विभाग की खुफिया रिपोर्ट में भी चीन के वायरस से जुड़ी जानकारी छिपाने की बात सामने आई है। ट्रम्प और पोम्पियो कई विशेषज्ञों के आंकलन के आधार पर

वायरस पर अमेरिका और चीन आमने-सामने

  • दुनिया में कोरोना से अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित है। देश में अब तक संक्रमण के आंकड़े 12 लाख से ज्यादा हो चुके हैं और 69 हजार से ज्यादा मौतें हुई हैं। यही वजह है कि अमेरिका पर भारी दबाव है। अमेरिका ने पहले चीन के उस दावे को नकारा था, जिसमें कहा गया था कि कोरोना चीन के वाइल्डलाइफ मार्केट से निकला।
  • बाद में चीन का आरोप था कि यूएस मिलिट्री ने चीन तक इस वायरस को पहुंचाया था। उधर, कुछ दिन पहले ट्रम्प ने कहा था कि हम दुनिया के सामने कोरोना का सच लेकर आएंगे।
  • अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से भी नाराजगी जताई थी। कहा था कि डब्ल्यूएचओ ने चीन का फेवर किया और दुनिया को सही जानकारियां नहीं दीं।

ट्रम्प ने डब्ल्यूएचओ की फंडिंग पर रोग लगाई थी
अमेरिका डब्ल्यूएचओ पर चीन की तरफदारी करने का आरोप लगाया है । ट्रम्प ने कहा था कि डब्ल्यूएचओ को खुद के लिएशर्मिंदा होना चाहिए, क्योंकि उसने चीन के लिए एक जनसंपर्क एजेंसी की तरह काम किया है। दरअसल, ट्रम्प प्रशासन ने कोरोना को लेकर डब्ल्यूएचओकी भूमिका की जांच शुरू की है। साथ ही उसकी फंडिंग भीअस्थायी तौर पर रोक दी है।

कोरोना पर अमेरिका में ही विरोधाभास
यूएस इंटेलीजेंस कम्युनिटी ने इस सप्ताहकहा थाकि कोरोनावायरस मानव निर्मित नहीं है। कम्युनिटी ने बताया थाकिमौजूदासबूतों और वैज्ञानिक सहमतियों से हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि किसी लैब में जेनेटिक मॉडिफिकेशन से भी यह नहीं बनाया गया है। इसे न इंसानों ने बनाया है और न इसे डिजाइन किया गया है। फिर भी हम लगातार बारीकी से जांच कर रहे हैं और हर एंगल को देख रहे हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
वुहान के लैब में टेस्ट करने में जुटी महिला वैज्ञानिकों की यह तस्वीर 17 अप्रैल की है। अमेरिका का दावा है कि वुहान के लैब में ही कोरोना वायरस तैयार किया गया। वहीं,डब्ल्यूएचओ ने अमेरिका के इस दावे को नकारा है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3b6vH3f

Comments

Popular posts from this blog

चीन ने कहा- हमारा समुद्री अधिकार नियम के मुताबिक, जवाब में ऑस्ट्रेलिया बोला- उम्मीद है आप 2016 का फैसला मानेंगे

अफगानिस्तान सीमा को खोलने की मांग कर रहे थे प्रदर्शनकारी, पुलिस ने फायरिंग की; 3 की मौत, 30 घायल

रूलिंग पार्टी की बैठक में नहीं पहुंचे ओली, भारत से बिगड़ते रिश्ते के बीच इस्तीफे से बचने की कोशिश