चीन के विदेश मंत्रालय से मीडिया ने 6 सवाल पूछे; एक का भी जवाब नहीं मिला, ना ही मारे गए सैनिकों का आंकड़ा बताया

गलवान घाटी में भारत-चीन सेनाओं की झड़प पर चीन के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लीजियन ने कहा कि भारत और चीन दोनों ही इस गंभीर मुद्दे को न्यायसंगत तरीके से सुलझाने के पक्ष में हैं। झाओ ने कहा किदोनों ही देश यह मानते हैं कि शांति बरकरार रखने के लिए जल्द से जल्द कमांडर पर सहमति बनाकर तनाव को कम किया जाए।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता से झड़प को लेकर 6 सवाल किए गए, लेकिन उन्होंने किसी का भी सीधा जवाब नहीं दिया। वे बस एक ही बयान बार-बार दोहराते रहे और ना ही उन्होंने यह बताया कि झड़प में कितने चीनी सैनिकों ने जान गंवाई।

डैम बनाने के सवाल का भी जवाब नहीं दिया
एक रिपोर्टर ने सवाल पूछा कि क्या चीन गलवान नदी पर डैम बना रहा है ताकि भारत-चीन सीमा पर इसके प्रवाह को रोका जा सके। इस सवाल का भी झाओ ने कोई जवाब नहीं दिया।
एक ने सवाल पूछा कि क्या गलवान में टकराव तब शुरू हुआ, जब भारतीयों ने लाइन ऑफ कंट्रोल (एलएसी) के पास बने चीन के ठिकानों को गिराने की कोशिश की। इस पर झाओ ने कहा कि घटना के लिए भारतीय जवान जिम्मेदार हैं। गलत और सही क्या है, यह स्पष्ट है। हमारा इसमें कोई हाथ नहीं है।
बीजिंग यह तो मान रहा है कि उसके सैनिक इस झड़प में मारे गए हैं। लेकिन, अभी तक चीन ने ऐसे सैनिकों का कोई आधिकारिक आंकड़ा जारी नहीं किया है।

चीन ने तीसरी बार भारत के सैनिकों को जिम्मेदार ठहराया
चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि भारतीय सैनिकों ने समझौता तोड़ा और एलएसी को पार कर हमें उकसाया और अफसरों-सैनिकों पर हमला किया। इसके बाद ही झड़प हुई और जान गई। उन्होंने कहा कि भारत मौजूदा हालात पर गलत राय न बनाए और चीन की अपनी क्षेत्रीय संप्रभुता की रक्षा करने की इच्छाशक्ति को कमजोर करके न देखे।
इससे पहले भी चीन ने बुधवार को कहा था कि गलवान में जो हुआ, उसके जिम्मेदार भारतीय सैनिक हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह फोटो चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लीजियन की है। गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के मुद्दे पर गुरुवार को झाओ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30SBFTM

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस