स्पेसएक्स ने पृथ्वी की लोअर ऑर्बिट में 61 सैटेलाइट भेजे, इनमें 58 स्टारलिंक नेटवर्क के; इनसे इंटरनेट की स्पीड बढ़ेगी

अमेरिका की प्राइवेटस्पेस कंपनी स्पेसएक्स ने 61 सैटेलाइट को पृथ्वी की लोअर आर्बिटमें पहुंचाने में कामयाबी हासिल की।ये सैटेलाइटशनिवार को फ्लोरिडा के केप कैनावेरल स्पेस सेंटर से फॉल्कन 9 रॉकेट के जरिए अंतरिक्ष में भेजे गए। इनमें 58 स्टारलिंक सैटेलाइट और 3 स्काईसैट सैटेलाइट शामिलहैं। अमेरिकी कारोबारीएलन मस्क की कंपनी दुनियाभर को हाईस्पीड इंटरनेट मुहैया कराने के लिए स्टारलिंक सैटेलाइट नेटवर्क तैयार कर रही है।

इस लॉन्चिंगका खर्च स्पेसएक्स और प्लैनेट लैब ने मिलकर उठाया। प्लैनट लैब के भी तीन सैटेलाइट ऑर्टिब में भेजे गएहैं। इसके स्काईसैट सैटेलाइटधरती की चुनिंदा जगहोंका लाइव अपडेट देतेहैं। इनके जरिए 24 घंटे में चुनिंदा जगहों की 12 बार फोटो ली जा सकती है, ताकि वहां की घटनाओं पर नजर रखी जा सके।

स्टारलिंक नेटर्वक पर 2018 से काम शुरू हुआ

स्टारलिंक नेक्सट जेनेरेशनसैटेलाइट नेटवर्क है। जिससे पृथ्वी पर हाईस्पीड ब्रॉडबैंड इंटरनेट की सुविधा मिलेगी। स्पेसएक्स ने फरवरी 2018 से इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया था। एलन मस्क की कंपनी पृथ्वी की कक्षा में 12 हजार स्टारलिंक सैटेलाइट स्थापित करेगी। इसके बाद अगले 30 हजार सैटेलाइट 328 से 580 किलोमीटर की कक्षा में सेट किए जाएंगे। इस पूरे प्रोजेक्ट में करीब 10 अरब डॉलर (करीब 759 अरब 57 करोड़ रुपए) की लागत आएगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
शनिवार को फ्लोरिडा के केप कैनावेरल स्पेस सेंटर से फॉल्कन 9 रॉकेट के सैटेलाइट लॉन्च किए गए।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3d1izxj

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान