यूएन ने कहा- अफगानिस्तान में पाकिस्तान के 6500 आतंकी, भारत बोला- साबित हो गया कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का केंद्र है

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मंगलवार को आई एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अफगानिस्तान में पाकिस्तान के 6500 आंतकवादी जंग लड़ रहे हैं और इनमें लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के भी आतंकी हैं। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि अफगानिस्तान में इन आतंकवादियों की मौजूदगी चिंता की बात है। इस रिपोर्ट से हमारी बात साबित होती है कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का केंद्र है।

यूएनएससी की रिपोर्ट पर भारत ने क्या कहा?
भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि यूएनएससी की रिपोर्ट से यह साबित होता है कि पाकिस्तान अभी भी अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का एपिसेंटर है। यहां पर प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन और लोग सरकार द्वारा दिए जा रहे समर्थन का फायदा उठा रहे हैं।

आतंकवादियों के लिए पाकिस्तान सुरक्षित पनाहगाह है और यहां आतंकवादी संगठन भर्ती कर रहे हैं, ट्रेनिंग दे रहे हैं। उन्हें वित्तीय मदद दी जा रही है और वे वहां की सरकार द्वारा समर्थन भी हासिल कर रहे हैं और बिना किसी डर के अपनी गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय को पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराना चाहिए और उससे कहना चाहिए कि वह आतंकवाद के खिलाफ लगातार, प्रामाणिक और ठोस कदम उठाए। अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने की हर कोशिश में भारत अपना योगदान लगातार जारी रखेगा।

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान अपनी अंतरराष्ट्रीय जिम्मेदारियों को निभाने में नाकाम रहा है। वह संयुक्त राष्ट्र और फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स के प्रस्ताव के मुताबिक वह यह कदम उठाने में विफल रहा है कि उसकी जमीन से आतंकवाद को समर्थन ना किया जाए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि अफगानिस्तान में इन आतंकवादियों की मौजूदगी चिंता की बात है। (फाइल फोटो)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3ctFhha

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान