डब्ल्यूएचओ ने कहा- दक्षिण एशिया की घनी आबादी पर महामारी का खतरा ज्यादा; दुनिया में अब तक 68.44 लाख संक्रमित

दुनिया में संक्रमितों का आंकड़ा 68 लाख 44 हजार 222 हो गया है। कुल 33 लाख 35 हजार 318 लोग स्वस्थ हुए। 3 लाख 98 हजार 129 लोगों की मौत हो चुकी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने एक बार फिर दक्षिण एशियाई देशों में महामारी के खतरे के प्रति आगाह किया है। संगठन के मुताबिक, इन देशों में घनी आबादी है और इसकी वजह से यहां खतरा सबसे ज्यादा है।

कोरोनावायरस : 10 सबसे ज्यादा प्रभावित देश

देश

कितने संक्रमित कितनी मौतें कितने ठीक हुए
अमेरिका 19, 65,708 1,11,390 7,38,646
ब्राजील 6,46,006 35,047 2,88,652
रूस 4,49,834 5,528 2,12,680
स्पेन 2,88,058 27,134 उपलब्ध नहीं
ब्रिटेन 2,83,311 40,261 उपलब्ध नहीं
भारत 2,36,184 6,649 1,13,231
इटली 2,34,531 33,774 1,63,781
पेरू 1,87,400 5,162 79,214
जर्मनी 1,85,414 8,763 1,68,500
तुर्की 1,68,340 4,648 1,33,400

ये आंकड़ेhttps://ift.tt/37Fny4Lसे लिए गए हैं।

डब्ल्यूएचओ : दक्षिण एशिया पर खतरा
डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि दक्षिण एशिया की घनी आबादी वाले क्षेत्रों में कोविड-19 के बड़े पैमाने पर फैलने का खतरा है। डब्ल्यूएचओ की इमरजेंसी हेल्थ सर्विस डायरेक्टर माइकल रयान ने कहा, "दक्षिण एशिया में सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि बंगलादेश, पाकिस्तान और इस क्षेत्र के दूसरे देशों में महामारी अब तक बड़े पैमाने पर नहीं फैली है। लेकिन, हम मानते हैं कि ऐसा होने का खतरा है। जिस तरह का इसका ट्रेंड है, उसके हिसाब से यह कभी भी खतरनाक साबित हो सकती है। इसका कम्युनिटी ट्रांसफर हो सकता है।

चिली : 4207 नए मामले
चिली में मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। 24 घंटों में यहां 4207 नए मामले सामने आए। संक्रमितों की संख्या 1 लाख 22 हजार 499 हो गई। 24 घंटे के दौरान ही 92 और लोगों की मौत हुई। मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 1448 तक पहुंच गया। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- 1521 मरीजों को आईसीयू में रखा गया है। 1291 मरीज वेंटिलेटर पर हैं। 337 मरीजों की हालत गंभीर है।

चिली के राष्ट्रपति सेबेस्टियन पिनेरा अपनी कैबिनेट मिनिस्टर मैकार्ना का कोहनी टकराकर अभिवादन करते हुए। सरकार ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि संक्रमण रोकने के जो उपाय किए गए हैं उनके नतीजे जल्द ही सामने आएंगे। सरकार ने यह दावा तब किया है जबकि इस हफ्ते हर दिन लगभग चार हजार मामले सामने आए। (फाइल)

मैक्सिको : यहां भी मुश्किल
लैटिन अमेरिका में संक्रमण बहुत तेजी से बढ़ रहा है। ब्राजील और पेरू के बाद अब मैक्सिको में भी हालात बिगड़ रहे हैं। 24 घंटे में यहां 4346 नए मामले सामने आए। इसी दौरान 625 लोगों की मौत हो गई। अब यहां एक लाख 10 हजार से ज्यादा मरीज हो चुके हैं। मरने वालों का आंकड़ा बी 13 हजार 170 हो गया है। सरकार का कहना है कि महामारी से निपटने के जितने उपाय किए गए हैं, उनके बेहतर नतीजे सामने आने लगे हैं।

चिली के राष्ट्रपति सेबेस्टियन पिनेरा अपनी कैबिनेट मिनिस्टर मैकार्ना का कोहनी टकराकर अभिवादन करते हुए। सरकार ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि संक्रमण रोकने के जो उपाय किए गए हैं उनके नतीजे जल्द ही सामने आएंगे। सरकार ने यह दावा तब किया है जबकि इस हफ्ते हर दिन लगभग चार हजार मामले सामने आए। (फाइल)

अमेरिका : प्रदर्शन से खतरा
अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद हो रहे विरोध प्रदर्शनों ने सरकार को मुश्किल में डाल दिया है। न्यूयॉर्क में स्थानीय प्रशासन जल्द ही उन लोगों से संपर्क कर सकता है जो इन विरोध प्रदर्शनों में शामिल हुए। यही राज्य अमेरिका में सबसे ज्यादा प्रभावित है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार कुछ नए टेस्टिंग सेंटर खोलने जा रही है जिनमें हर रोज 20 हजार टेस्ट किए जा सकेंगे। इनकी रिपोर्ट भी उसी दिन मिल जाएगी।

अमेरिका में अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद हो रहे प्रदर्शनों ने कोविड-19 का खतरा ज्यादा बढ़ा दिया है। कई एक्सपर्ट्स चेतावनी दे चुके हैं कि इन विरोध प्रदर्शनों में किसी तरह का ऐहतियात नहीं बरता जा रहा। न्यूयॉर्क में प्रशासन ने लोगों से कहा है कि जो लोग इन विरोध प्रदर्शनों में शामिल हुए हैं, उन्हें टेस्ट कराना चाहिए।

सऊदी अरब: अब फिर सख्ती
सऊदी अरब ने शुक्रवार को ऐलान किया कि जेद्दा शहर में दिन के 3 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगाया जाएगा। शनिवार से अगले 15 दिन तक यह नियम लागू रहेगा। 15 दिनों तक मस्जिदों में नमाज पढ़ने और ऑफिस जाने पर भी रोक रहेगी। इस दौरान रेस्टोरेंट और कैफे भी बंद रहंगे। शुक्रवार को देश में 2591 नए मामले सामने आए हैं। इनमें जेद्दा में सबसे ज्यादा 459 केस मिले हैं। देश में अब तक 95 हजार 748 मरीज मिल चुके हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, कोविड-19 से सबसे ज्यादा खतरा जिन देशों या क्षेत्रों को है, उनमें दक्षिण एशियाई देश शामिल हैं क्योंकि यहां बेहद घनी आबादी है। इसकी वजह से वायरस तेजी से फैलता है और उसका कम्युनिटी ट्रांसफर होता है। इस लिस्ट में भारत के अलावा पाकिस्तान और बांग्लादेश भी शामिल हैं। तस्वीर पाकिस्तान के रावलपिंडी के एक बाजार की है। (फाइल)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3eW6FX0

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे