लॉकडाउन के चलते पाकिस्तान में फंसे 748 भारतीयों की 25 जून से वापसी, वाघा बॉर्डर के जरिए भारत आएंगे

कोरोनोवायरस के चलते पाकिस्तान और अन्य पड़ोसी देशों ने अपनी सीमाएं बंद कर दी थी। साथ ही लॉकडाउनलगा दिया गया था। इसके चलते कई देशों में भारतीय नागरिक फंसे हैं। अब पाकिस्तान में फंसे 748 भारतीय नागरिक गुरुवार से अपने देश लौटेंगे।सरकार ने उनके स्वदेश लौटने की सारी प्रक्रियाओं को अंतिम रूप दे दिया है।

सरकार के सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान से कई फेज में भारतीय नागरिकवाघा बॉर्डर के जरिए भारत आएंगे। 25 जून से इसकी शुरुआत की जाएगी। यह प्रक्रिया तीन फेज में पूरी कर ली जाएगी। पाकिस्तान में मौजूद भारतीय दूतावास वहां फंसे नागरिकों के संपर्क में है।गृह मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, भारतीय नागरिकों को वाघा बॉर्डर से तीन चरणों मेंलाया जाएगा।नागरिकों की एक सूची संबंधित विभागों और पंजाब रेंजर्स को भेज दी गई है।

वाघा बॉर्डर 25 से 27 जून तक खोला जाएगा

गुरुवार कोपहले फेज में 250, शुक्रवार को दूसरे फेज में 250 और शनिवार को तीसरे फेज में 248 भारतीय अपने देश लौटेंगे। आदेश के अनुसार, वाघा बॉर्डर 25 से 27 जून तक खोला जाएगा।पाकिस्तान सरकार ने भारतीय नागरिकों के लौटने को लेकर वाघा बॉर्डर पर अपने इमिग्रेशन अधिकारियों को सूचित कर दिया है। वहां से लौटनेवाले नागरिकों को 14 दिनों तक क्वारैंटाइन किया जाएगा।

भारत से भी 250 नागरिक पाकिस्तान जा चुके हैं

हालांकि, जम्मू-कश्मीर, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के नागरिकों को उन्हीं के राज्य में क्वारैंटाइन किया जाएगा। पाकिस्तान ने भी भारत में फंसे अपने नागरिकों की वापसी को लेकर यहां अधिकारियों सेकहा है। भारत से लगभग 250 पाकिस्तानी नागरिक अब तक वापस आ चुके हैं, जबकि बाकि नागरिकों की वापसी को लेकर अभी कोई जानकारी नहीं दी गई है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पाकिस्तान में फंसे नागरिकों को वाघा बॉर्डर के जरिए लाया जाएगा। (फाइल फोटो)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hOETxK

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान