चीन के खिलाफ अमेरिका समेत 8 देशों के सांसदों ने गठबंधन बनाया, कहा- यह देश मानवाधिकार और ग्लोबल ट्रेड के लिए खतरा

दुनियाभर में वुहान शहर से कोरोनावायरस फैलने के कारणचीन अमेरिका समेत कई देशों केनिशाने पर है। अब 8 देशों के वरिष्ठ सांसदों नेउसे घेरने के लिए शुक्रवार कोएक गठबंधन बनाया। इन नेताओं काकहना है कि चीन मानवाधिकारों, ग्लोबल ट्रेड और सुरक्षा के लिए खतरा बनता जा रहाहै। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, अलायंस ने कहा है कि हमारा उद्देश्य चीन से जुड़े मुद्दों पर एक होकर सक्रिय और रणनीतिक तैयारी करनाहै।

इस गठबंधन में अमेरिका के रिपब्लिकन सीनेटर मार्को रुबियो और डेमोक्रेट बॉब मेनेन्डेज, जापान के पूर्व विदेश मंत्री जेन नाकातानी, यूरोपीय संसद में विदेशी मामलों की कमेटी के मेंबर मिरयम लेक्समैन और ब्रिटेन मेंकंजरवेटिव पार्टी के सांसद इयान डंकन स्मिथ शामिल हैं। इसके अलावा जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, स्वीडन और नार्वे के नेता भी गठबंधन के साथ हैं।

चीन दादागिरी वाला रवैया अपनाता है
जिन देशों के सांसदों ने गठबंधन बनाया, उनमें से कई देशों को चीन की महत्वाकांक्षाओं के चलते राजनीतिक और आर्थिक परिणाम झेलने पड़े हैं।

  • कनाडा में चीन की हुवेई टेक्नोलॉजी कंपनी का एक एग्जीक्यूटिव गिरफ्तार हुआ तो चीन ने 2 कनाडाई नागरिकों कोबिना किसी टॉयल के हिरासत में ले लिया था।
  • नॉर्वे और चीन के कारोबारी रिश्ते 6 साल से बेपटरीहैं। नार्वे ने चीनी सरकार के आलोचक को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया तो चीन ने उसके साथ धीरे-धीरे ट्रेडकम कर दिया।
  • ऑस्ट्रेलिया ने जब कोविड-19 महामारी के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया तो चीन ने ऑस्ट्रेलियाई जौ पर नए टैरिफ लगाए। कुछ किस्मके मांस के आयात पर प्रतिबंध भी लगा दिए।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
21 मई 2020 की यह फोटो बीजिंग में वुमेन गेट पर चीनी सेना के मार्च के वक्त की है। -फाइल


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2BGeyRZ

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान