भारतीय मूल की अनमोल नारंग यूएस मिलिट्री एकेडमी से ग्रेजुएट होने वाली पहली सिख महिला, सेकंड लेफ्टिनेंट का पद संभालेंगी

सेकेंड लेफ्टिनेंट अनमोल नारंग अमेरिकी मिलिट्री एकेडमी से ग्रेजुएट होने वाली पहली सिख होंगी। उन्होंने वेस्ट प्वॉइंट मिलिट्री एकेडमी से न्यूक्लियर इंजीनियरिंग में चार साल की डिग्री पूरी की है। नारंग एयर डिफेंस सिस्टम के क्षेत्र में काम करना चाहती हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की मौजूदगी में शनिवार को उनकी ग्रेजुएशन सेरेमनी होगी।
ग्रेजुएशन के बाद ओक्लोहोमा के फोर्ट सिल में उन्हें बेसिक ऑफिसर लीडरशिप कोर्स (बीओएलसी) पूरा करना होगा। इसके बाद वे अमेरिकी एयरफोर्स ज्वॉइन करेंगी। नारंग की पहली पोस्टिंग जनवरी 2021 में जापान के ओकीनावा में होगी। यहां अमेरिकी एयरबेस है।

नारंग ने उपलब्धि पर खुशी जाहिर की
नारंग ने अमेरिकी एनजीओ सिख कोलिशन से कहा- मैं वेस्ट प्वॉइंट एकेडमी से ग्रेजुएशन पूरा करके काफी उत्साहित और खुश हूं। सपना पूरा होने पर सम्मानित महसूस कर रही हूं। जॉर्जिया के सिख समुदाय ने आगे बढ़ने में मदद की। मेरा आत्मविश्वास बढ़ाया। यह मेरे लिए काफी मायने रखता है। इस लक्ष्य को हासिल कर मैं दूसरे अमेरिकी सिखों को रास्ता दिखा रही हूं कि वे किसी भी क्षेत्र में कॅरियर बना सकते हैं।

कौन हैं नारंग?
नारंग जॉर्जिया के सिख परिवार में जन्मीं। उनकी शुरुआती पढ़ाई यहीं हुई। उनका परिवार दो पीढ़ियों से यहां रह रहा है। उनके दादाभारतीय सेना में थे,लिहाजा वे बचपन से ही आर्मी में कॅरियर बनाना चाहती थीं। जब वे हाईस्कूल में पढ़ती थीं तो उनका परिवार हवाई में पर्ल हॉर्बर नेशनल मेमोरियल देखने गया था। इसके बाद से ही उन्होंने वेस्ट प्वॉइंट मिलिट्री एकेडमी में अप्लाई करने की तैयारी शुरू कर दी थी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
भारतीय मूल की अमेरिकी नागरिक अनमोल नारंग के नाना भारतीय सेना में थे, लिहाजा वे बचपन से ही आर्मी में कॅरियर बनाना चाहती थीं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3dZ1h53

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

अमेरिका में चुनाव के दिन बाइडेन समर्थकों ने 75% और ट्रम्प सपोर्टर्स ने 33% ज्यादा शराब खरीदी

124 साल पुरानी परंपरा तोड़ेंगे ट्रम्प; मीडिया को आशंका- राष्ट्रपति कन्सेशन स्पीच में बाइडेन को बधाई नहीं देंगे