प्रदर्शनकारियों पर हमले को लेकर ट्रम्प पर मुकदमा, आरोप- उन्होंने लोगों के संवैधानिक अधिकारों का हनन किया

अमेरिकाकीकई सिविल राइट्स ग्रुप्स ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर मुकदमा दायर किया है। उनका कहना है कि वे व्हाइट हाउस के बाहर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वाले लोगों पर हमले के लिए जिम्मेदार हैं। ‘गार्जियन’ के मुताबिक, मुकदमेमें कहा गया है कि ट्रम्प और व्हाइट हाउस के अन्य अफसरों ने प्रदर्शनकारियों के संवैधानिक अधिकारों का हनन किया है।

सीएनएन के मुताबिक, सोमवार को कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने व्हाइट हाउस के पास जमा हुए प्रदर्शनकारियों पर रबर बुलेट्स, स्मोक कनस्तर से हमले किए थे। उन्होंने ऐसा इसलिए किया ताकि ट्रम्प के पास में स्थित चर्च जाने के लिए रास्ता खाली कराया जा सके। बाद में ट्रम्प को व्हाइट हाउस के पास स्थित सेंट जॉन एपिस्कोपल चर्च के बाहर एक बाइबिल हाथ में लिए हुए देखा भी गया था।

देशभर में हो रहे प्रदर्शन

यह मुकदमा अमेरिकन सिविल लिबर्टीज यूनियन ऑफ डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया (एसीएलयू) और तीन अन्य समूहों ने किया है। उन्होंने ट्रम्प पर बिना किसी उकसावे के आपराधिक हमले का आरोप लगाया है। 25 मई को अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत होने के बाद देशभर में प्रदर्शन हो रहे हैं।

‘ट्रम्प नेसंवैधानिक मूल्यों की नींव को हिला दिया’

एसीएलयू के कानूनी निदेशक स्कॉट मिशेलमैन ने कहा कि राष्ट्रपति का वैचारिक असहमति के कारण प्रदर्शनकारियों पर किए गए आपराधिक हमले ने हमारे देश के संवैधानिक मूल्यों की नींव को हिला दिया है। अटॉर्नी जनरल विलियम बर ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को हटाने के फैसले का बचाव किया। उन्होंने कहा कि ऐसा करना अफसरों और संघीय संपत्ति की सुरक्षा के लिए जरूरी था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर न्यूयॉर्क स्थित ट्रम्प इंटरनेशनल होटल के बाहर की है। यहां लोग मिनेपोलिस में पुलिस हिरासत में मारे गए अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3eXk7db

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस