यूरोप से शिफ्ट होगी अमेरिकी सेना, माइक पोम्पियो बोले- भारत और दक्षिण-पूर्व एशिया में चीन के खतरे को देखते हुए लिया फैसला

यूरोप से अमेरिकी सेना शिफ्ट होंगी। अमेरिकी विदेश मंत्रीमाइक पोम्पियो ने यह जानकारी दी। कहा कि भारत और दक्षिण-पूर्व एशिया में चीन के खतरे को देखते हुए अमेरिका अपने सैनिकों की शिफ्टिंग कर रहा है। पोम्पियो बोले-हम यूरोप में अपने सैनिकों की संख्या घटा रहे हैं।
उन्होंने गुरुवार को ब्रसेल्स फोरम में एक सवाल के जवाब में यह बात कही। उनसे पूछा गया था कि अमेरिका ने जर्मनी में अपने सैनिकों की संख्या कमक्यों की है? पोम्पियो ने कहा कि सैनिकों को दूसरी जगहों पर दूसरी चीजों का सामना करने के लिए ले जा रहेहैं।
उन्होंने कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के एक्शन का मतलब है कि भारत के साथ वियतनाम, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस और साउथ चाइना सी में भीखतरा है। अमेरिकी सेना इन चुनौतियों का सामना करने के लिए पूरी तरह तैनात है। पोम्पियो ने बताया कि ट्रम्प प्रशासन ने दो साल पहले अमेरिकी सेना की दुनियाभर में तैनाती की समीक्षा की थी। इस दौरान यह पता चला था कि उसे खुफिया, सैन्य और साइबर विभाग का इस्तेमाल कहां करना चाहिए।

दुनिया में चीनी कंपनियों की लहर खत्म हो रही
पोम्पियो ने इससे पहले कहा कि दुनियाभर में चीन की टेक्नोलॉजी कंपनियों की लहर खत्म हो रही है। दुनिया की कई टेलीकॉम कंपनियां चीनी कंपनी हुवेई के साथ कारोबार करने से इनकार कर रही हैं । इस दौरान उन्होंने रिलायंस इंडस्ट्रीज चेयरमैन मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो की तारीफ की थी। उन्होंने कहा था कि स्पेन के टेलीफोनिका, ऑरेंज, ओ 2, जियो, बेल कनाडा, टेलस, और रोजर्स जैसी कंपनियां साफ-सुथराव्यापार कर रही हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पोम्पियो ने बताया कि ट्रम्प प्रशासन ने दो साल पहले अमेरिकी सेना की दुनियाभर में सैन्य तैनाती की समीक्षा की थी। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3dz6QX4

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान