लैंसेट जर्नल ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन पर रिसर्च वापस ली; इस दवा से कोरोना मरीजों की मौत का खतरा बढ़ने का दावा किया था

मेडिकल रिसर्च जनरल लैंसेट ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (एचसीक्यू) दवा से जुड़ी विवादित स्टडी (रिसर्च पेपर) को वापस ले लिया है। इस स्टडी को एनालिसिस करने वाली फर्म सर्जिस्फीयर ने इंडिपेंडेंट इवैल्यूऐशन के लिए पूरे डेटा देने से मना कर दिया। स्टडी में दावा किया गया था कि कोरोना संक्रमित मरीजों को एचसीक्यू देने से उनकी मौत का रिस्क बढ़ सकता है।

लैंसेट ने कहा- डेटा की गारंटी नहीं ले सकते
दुनियाभर के 100 से ज्यादा रिसर्चर ने स्टडी की सच्चाई के लिए डब्ल्यूएचओ और दूसरी संस्थाओं से जांच करवाने कीमांग की थी। लैंसेट ने कहा है कि नए डेवलपमेंट के बाद हम प्राइमरी डेटा सोर्स की गारंटी नहीं ले सकते, इसलिए स्टडी वापस ले रहे हैं।

डब्ल्यूओएचओ ने एचसीक्यू का ट्रायल रोका था
लैंसेट की स्टडी के आधार पर पिछले हफ्ते विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना के मरीजों पर एचसीक्यू का ट्रायल रोक दिया था। हालांकि, कुछ दिन बाद ही फिर से ट्रायल शुरू करने की परमिशन दे दी।

लैंसेट की स्टडी में क्या था?
22 मई को पब्लिश स्टडी में कहा गया था कि कोरोना के मरीजों को एचसीक्यू देने से उनको जान का जोखिम बढ़ सकता है। इस दवा के गंभीर साइड इफेक्ट हो सकते हैं। खासतौर से दिल की धड़कन असामान्य (एबनॉर्मल) हो सकती है। कोरोना के मरीजों को इसदवा से कोई फायदा नहीं होता। सैकड़ों अस्पतालों में भर्ती 96 हजार मरीजों के रिकॉर्ड के आधार पर ये दावा किया गया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
22 मई को पब्लिश लैंसेट की स्टडी में कहा गया था कि हाइड्रॉक्लीक्लोरोक्वीन दवा से गंभीर साइड इफेक्ट हो सकते हैं। (प्रतीकात्मक तस्वीर)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3gXAcB9

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस