पुलिस के हाथों मारे गए जॉर्ज के भाई की यूएन से अपील- अश्वेतों की हिफाजत करें, अमेरिका में उनकी जिंदगी की कोई अहमियत नहीं

अमेरिका में पुलिस हिरासत में मरने वाले जॉर्ज फ्लॉयड के भाई फिलोनिस फ्लॉयड बुधवार को वीडियो लिंक के जरिए संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की चर्चा में शामिल हुए। इसमें उन्होंने कहा कि मेरे भाई की मारने-पीटने के बाद उसकी हत्या कर दी गई। जैसा कि देखा गया वह अफसर को रुकने के लिए कहता रहा, लेकिन हम अश्वेतों को वही पुराना सबक सिखाया गया। अमेरिका में अश्वेतों की जिंदगी मायने नहीं रखती। ऐसे में अफ्रीकी अमेरिकी लोगों की रक्षा की जाए।

जॉर्ज फ्लॉयड को 25 मई को हिरासत में लिया गया था। इसके बाद एक श्वेत पुलिस अफसर ने करीब 9 मिनट तक उसकी गर्दन घुटने से दबाए रखा था। बाद में उसकी मौत हो गई। इसके बाद से दुनिया भर में अश्वेतों के समर्थन मेंप्रदर्शन शुरु हो गए। यूएन ने बुधवार को नस्लभेद पर अर्जेंट चर्चा की।

फिलोनिस ने स्वतंत्र आयोग गठित करने की मांग की

फिलोनिस ने कहा, यूएन में ताकत है कि मेरे भाई फ्लॉयड को इंसाफ दिला सके। मैं आपसे मेरे भाई, मुझे और अमेरिका में रह रहे अश्वेतलोगों की मदद करने की अपील करता हूं। उन्होंने फ्लॉयड की मौत के लिए एक स्वतंत्र अंतरराष्ट्रीय आयोग गठित करने की मांग भी की।

यूएन ने कहा- प्रदर्शन पीढ़ियों के दर्द का नतीजा
यूएन मानवाधिकार परिषद की हाई कमिश्नर मिशेल बैशलेट ने कहा कि फ्लॉयड की बिना वजह पुलिस हिरासत में मौत हुई।फ्लॉयड की मौत नेदशकाें से नजरअंदाज किए गएलोगों की बातों को सामने ला दिया है। इसके बाद शुरू हुआ प्रदर्शनकई पीढ़ियों के दर्द का नतीजा है।मिशेल ने यूएन सदस्य देशों से गुलामी और सामंतवाद की प्रथा को खत्म कर सुधार लाने की अपील की।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिका में पुलिस हिरासत में मारे गए अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड के भाई फिलोनिस फ्लॉयड ने संयुक्त राष्ट्र में वीडियो लिंक के जरिए अपनी बात रखी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3fADyc6

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान