भारतीय सिख के रेस्टोरेंट में तोड़फोड़, दीवारों पर नफरत फैलाने वाले नारे लिखे; भगवान की मूर्ति भी तोड़ी

न्यू मैक्सिको शहर कीसैंटा फे सिटी में भारतीय के खिलाफ हेट क्राइम का मामला सामने आया। मंगलवार को यहां कुछ लोगइंडिया पैलेस रेस्टोरेंट में घुसे। तोड़फोड़ की। भगवान की मूर्ति तोड़ दी। बाद में दीवार पर नफरत फैलाने वाले नारे लिख दिए।

रेस्टोरेंट के मालिक बलजीत सिंह के मुताबिक, किचेन और सर्विंग एरिया को काफी नुकसान पहुंचा है। बलजीत के मुताबिक, उन्हें1 लाख डॉलर (करीब 75 लाख रु.) का नुकसान हुआ। लोकल पुलिस और फेडरल इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो (एफबीआई) घटना की जांच कर रही है।

सिख संगठन नेचिंता जताई

अमेरिका में सिखों के संगठन ‘सिख अमेरिकन लीगल डिफेंस एंड एजूकेशन फंड (सालडेफ) ने घटना की निंदा की है। सालडेफ की एक्जीक्यूटिवडायरेक्टर किरण कौर गिल ने कहा- इस तरह की नफरत और हिंसा ठीक नहीं है। सभी अमेरिकियों की सुरक्षा तय करने के लिए फौरनकार्रवाई की जानी चाहिए। सैंटा फे में रहने वाले सिख लोगों के मुताबिक- यह शांत इलाका है। यहां 1960 से सिख समुदाय के लोग रह रहे हैं। इस तरह की घटना पहले कभी नहीं हुई।

29 अप्रैल को कोलोराडो में एक सिख पर हमला हुआ था

बीते दिनों सैंटा फे में अश्वेत समर्थकों ने स्पेनिश शासकों की मूर्तियां भी हटा दी थीं। इसके बाद से यहां हेट क्राइम बढ़ गया। 29 अप्रैल को कोलोराडो के लेकवुड में अमेरिकी सिख लखवंत सिंह पर एक व्यक्ति ने हमला किया था। उसने लखवंत को अपने देश लौट जाने को कहा। आरोपी का नाम एरिक ब्रीमैन बताया गया है। अब तक उसके खिलाफ हेट क्राइम का मामला दर्ज नहीं किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
न्यू मैक्सिको सिटी के इसी रेस्टोरेंट पर मंगलवार को हमला किया गया। इसके मालिक बलजीत सिंह के मुताबिक, तोड़फोड़ से उन्हें एक लाख डॉलर (करीब 75 लाख रुपए) का नुकसान हुआ।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2VaBRtS

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान