भारतीय राजनयिक अहलूवालिया का आईएसआई के एजेंटों ने पीछा किया, घर के बाहर भी कई एजेंट तैनात किए गए

पाकिस्तान स्थित भारतीय दूतावास के एक्टिंग हाईकमिश्नर गौरव अहलूवालिया को आईएसआई द्वारा परेशान करने का मामला सामने आया है। न्यूज एजेंसी एएनआई ने एक वीडियो जारी किया है। इसमें बताया गया है कि आईएसआई के एजेंटों ने घर जाते वक्त अहलूवालिया की कार का पीछा किया।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, अहलूवालिया के घर के बाहर भी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के कई एजेंट कार और बाइकों पर नजर आए। यह हरकत वरिष्ठ राजनयिक अहलूवालिया को परेशान करने और भड़काने के लिए की गई है।

पाक हाईकमिशन में जासूसी का मामला सामने आने पर अहलूवालिया को समन भेजा था
एक जून को भी अहलूवालिया को पाकिस्तान सरकार ने समन भेजा था। वहां के विदेश मंत्रालय ने दिल्ली स्थितपाकिस्तानी हाईकमिशन के दो अफसरों पर जासूसी का आरोप लगाए जाने पर आपत्ति जाहिर की थी। पाकिस्तान की कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा जा रहा है कि पाकिस्तान भारतीय उच्चायोग से कई अधिकारियों को वापस भारत भेजने की तैयारी कर रहा है।

दो अफसरों को जासूसी के आरोप में रंगे हाथ गिरफ्तार किया था

पिछले हप्तेदिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पाकिस्तान दूतावास के दो अफसरों को जासूसी के आरोप में रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इनमें से एक आबिद हुसैन भारतीय सेना के ट्रेनों से होने वाले मूवमेंट पर नजर रख रहा था। भारत ने इन दोनों जासूसों को 24 घंटे में देश छोड़ने का आदेश दिया था। अगले ही दिन दोनों को पाकिस्तान भेज दिया गया था।

आईएसआई के एजेंट थे दोनों
पाकिस्तान एम्बेसी के वीजा सेक्शन में तैनात इन दोनों अफसरों के नाम आबिद हुसैन और ताहिर खान थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आबिदने अपने हैंडलर्स तक सेना और हथियारों के मूवमेंट की जानकारी पहुंचाने की कोशिश की थी। दोनों ही मुख्य तौर पर आईएसआई के एजेंट थे। इनके पास से कई जाली दस्तावेज बरामद किए गए थे। इनका इस्तेमाल ये भारत में घूमने और सूचनाएं जुटाने के लिए करते थे।

भारतीय अफसरों को झांसा देने की कोशिश
आबिद जाली दस्तावेजों के सहारे अलग-अलग विभागों के अफसरों के बीच पैठ बनाने और उनसे सूचनाएं जुटाने की कोशिश करता था। उसने अपने कुछ नाम भी रखे थे। आबिद की नजर रेलवे पर ज्यादा थी। उसने अपने संपर्कों को झांसा देकर भारतीय सेना और उसके हथियारों की ट्रेनों के जरिए होने वाली मूवमेंट की जानकारी हासिल करने की कोशिश की।

फर्जी आधार कार्ड भी मिला
जासूसी करते पकड़े जाने पर उन्होंने खुद को भारतीय नागरिक साबित करने की कोशिश की थी। उनके पास फर्जी आधार कार्ड, भारतीय मुद्रा और महंगे आईफोन मिले थे। गिरफ्तारी के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था, ‘पाकिस्तान हाईकमीशन के दो अफसरों को नई दिल्ली में जासूसी करते पकड़ा गया है। भारत की जांच एजेंसियों ने यह कार्रवाई की।’



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
गुरुवार को आईएसआई ने आहलूवालिया के आधिकारिक निवास के बाहर कारों और बाईकों पर कई लोगों को भेजा।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3eSsrei

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस