गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों पर हमले का आदेश चीन के जनरल ने दिया था; डोकलाम में भी यही अफसर तनाव के लिए जिम्मेदार था

15 जून को गलवान घाटी में भारत-चीन सैनिकों की हिंसक झड़प पर अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने नया खुलासा किया। यूएस इंटेलिजेंस रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन कमांडर जनरल झाओ जोंग्की ने अपने सैनिकों को भारतीय जवानों पर हमले का आदेश दिया था। खास बात ये है कि झाओ ही 2017 में डोकलाम विवाद के वक्त भी चीनी सेना का कमांडर था।
15 जून को हुई झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि चीन के भी एक कर्नल समेत 43 सैनिक मारे गए थे।

वेस्टर्न थिएटर कमांड का जनरल है झाओ
अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट्स के मुताबिक- जनरल झाओ चीनी सेना की वेस्टर्न थिएटर कमांड को लीड करता है। वो पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए या चीनी सेना) के सबसे सीनियर कमांडर्स में से एक है। इस कमांडर का मानना है कि चीन को अमेरिका और भारत के रिश्तों की वजह से दबाव में आने की जरूरत नहीं है। वो भारत को सबक सिखाना चाहता था। हालांकि, इस बार झाओ का दांव उल्टा पड़ गया। झाओ ने 2016 में तब के आर्मी चीफ दलबीर सिंह सुहाग से भी मुलाकात की थी।

ये भी पढ़ेंचीन पर शक की वजह / इस बार चीन सिर्फ 7 दिन में पीछे हटने को राजी हो गया, पिछली बार वह 30 दिन में राजी हुआ और पलट गया, डोकलाम में उसने 73 दिन लगाए थे

भारत को चेतावनी देना चाहता था चीन
रिपोर्ट के मुताबिक- चीन की मंशा भारत को अपनी ताकत का अहसास कराने की थी। लेकिन, मामला हाथ से निकल गया और हिंसक झड़प हो गई। अब भारत में चीन के खिलाफ गुस्सा है। भविष्य में दोनों देशों के बीच बातचीत पहले जैसी आसान नहीं रहेगी। अमेरिका और भारत अब और ज्यादा करीब आएंगे। अमेरिका ने कई महीनों पहले भारत को चेताया था कि वो 5जी नेटवर्क तैयार करने में चीन की कंपनी हुबेई की मदद न ले। 15 जून की घटना के बाद भारतीय टिकटॉक जैसे ऐप हटा रहे हैं। चीनी हैंडसेट के इस्तेमाल से बच रहे हैं।

उल्टी पड़ गई चाल
एक सूत्र के मुताबिक, “चीन जो चाहता था, वैसा नहीं हुआ और दांव उल्टा पड़ गया। यह चीन की सेना की भी जीत नहीं है।” रिपोर्ट में कहा गया है- ये दावा तो नहीं किया जा सकता कि राष्ट्रपति इस मामले में किस हद तक शामिल हैं। लेकिन, इतना तय है कि उन्हें चीनी सेना को दिए आदेश की जानकारी जरूर रही होगी। प्राईवेट जियो इंटेलिजेंस फर्म हॉकआई 360 ने मई के आखिर में बताया था चीन लद्दाख में सैनिक और हथियार जमा कर रहा है।

भारत और चीन सीमा विवाद पर आप ये खबरें भी पढ़ सकते हैं

1.चीन के साथ विवाद की पूरी कहानी: 58 साल में चौथी बार एलएसी पर भारतीय जवान शहीद हुए, 70 साल में बतौर पीएम मोदी सबसे ज्यादा 5 बार चीन गए
2.गलवान के 20 शहीदों के नाम: हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 सैनिक 6 अलग-अलग रेजिमेंट के, सबसे ज्यादा 13 शहीद बिहार रेजिमेंट के

3.शहीद बताया जवान जिंदा निकला: भारतीय जवान की कल शहादत की खबर मिली थी, उसने आज खुद पत्नी को फोन कर बताया- जिंदा हूं
4.भारत-चीन झड़प की आंखों देखी: दोपहर 4 बजे से रात 12 बजे तक एक-दूसरे का पीछा कर हमला करते रहे; भारत के 17 सैनिक नदी में गिरे



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
17 जून को कश्मीर के गांदरबल से लद्दाख रवाना होते भारतीय सैनिक। एक प्राईवेट जियो इंटेलिजेंस फर्म हॉकआई 360 के मुताबिक, चीन मई के आखिर से ही लद्दाख में सैनिकों की तादाद बढ़ाने लगा था। उसने यहां काफी हथियार भी जमा किए थे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3dvJYro

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

फ्रांस में फिर एक दिन में 14 हजार से ज्यादा मामले सामने आए, ब्रिटेन में प्रतिबंधों का विरोध; दुनिया में 3.30 करोड़ केस