कोरोना महामारी के बीच नई सरकार के लिए चुनाव हुए, लंबी लाइनें लगने पर वोटिंग टाइम दो घंटे बढ़ाया गया, अब तक 81% लोगों ने वोट डाला

कोरोना महामारी के बीच सिंगापुर में शुक्रवार को देश में नई सरकार के लिए आम चुनाव हुए। इस दौरान लोग मुंह पर मास्क और हाथ में ग्लव्स पहनकर मतदान करने के लिए घरों से निकले। यह चुनाव प्रधानमंत्री ली सेन लूंग का टेस्ट भी है। उम्मीद है कि सत्ता में मौजूद पार्टी की फिर वापसी होगी।

वोटिंग टाइम बढ़ाया गया
वोटिंग सुबह आठ बजे शुरू हुई। पहले रात आठ बजे तक वोटिंग होनी थी, लेकिन अब समय दो घंटे और बढ़ा दिया गया है। सुबह 65 साल और उससे ज्यादा की उम्र वाले वोट डालने पहुंचे ताकि युवा वोटरों से उनका कम संपर्क हो। इस वजह से पोलिंग स्टेशनों पर लंबी लाइनें लग गईं और टाइम बढ़ाना पड़ा। इसके लिए चुनाव विभाग ने मांफी भी मांगी।

शाम पांच बजे तक 81 प्रतिशत लोगों ने वोट डाला
चुनाव विभाग ने कहा कि शाम पांच बजे तक करीब 21 लाख 59 हजार लोगों ने वोट डाल दिया था। यह रजिस्टर्ड वोटरों का 81 प्रतिशत हैं। कोरोना के खतरे को देखते हुए पोलिंग स्टेशलों की संख्या 880 से बढ़ाकर 1100 कर दी गई है। हर एक पोलिंग स्टेशन पर करीब 2400 लोगों को वोट डालना है।

11 पार्टियां मैदान में
सत्ता में मौजूद पीपुल्स एक्शन पार्टी (पीएपी) समेत 11 पॉलिटिकल पार्टियां चुनाव में उतरी हैं।पिछले 9 दिनों से सभी पार्टियां प्रचार कर रही थीं। प्रधानमंत्री ली ने पिछले महीने तय तारीख से 10 महीने पहले ही चुनाव कराने की घोषणा की थी। ली की पीएपी पार्टी 1950 के बाद से हर चुनाव जीत चुकी है। हालांकि, 2011 में पार्टी का वोट प्रतिशत लगभग 60% तक गिर गया था।पीएपी ने इस चुनाव में किसी भी भारतीय मूल के उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया है। हालांकि, विपक्षी पार्टियों ने12 ऐसे उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है।

ली सेन लूंग 2004 से प्रधानमंत्री हैं
सिंगापुर में हर नागरिक को वोट डालना जरूरी होता है। यहां की 93 सीटों के लिए 11 पार्टियों के कुल 192 उम्मीदवार खड़े हुए हैं। ली सेन लूंग 2004 से सिंगापुर के प्रधानमंत्री है। उनकी पार्टी पीएपी ने सितंबर 2015 में हुए चुनावों में 83 सीटों पर जीत हासिल की थी। इसके बाद 'वर्कर्सपार्टी' ने छह सीटें जीती थीं। पीएम के भाई ली सेन यांग हाल ही में विपक्षी पार्टी 'प्रोग्रेस सिंगापुर पार्टी' में शामिल हुए हैं। हालांकि, वह चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। दोनों भाइयों के बीच संपत्ति के बंटवारे को लेकर झगड़ा है। ली के पिता देश के पहले प्रधानमंत्री थे। वह 31 साल तक पीएम रहे थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सिंगापुर में शुक्रवार को कोरोना के बीच आम चुनाव के लिए वोटिंग हुई। इस दौरान मास्क लगाना जरूरी था। विपक्षी पार्टियों ने प्रधानमंत्री ली सेन लूंग के चुनाव कराने के फैसले पर सवाल उठाया था।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2O8N2Q6

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान