8454 करोड़ रु. का ड्रग बरामद, इसे सीरिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकियों ने बनाया

इटली की पुलिस ने बुधवार को 8454 करोड़ रु. (1.12 बिलियन डॉलर)की एम्फीटेमाइंस ड्रग जब्त की है। पुलिस के मुताबिक,यह दुनिया का सबसे बड़ा ड्रग कंसाइमेंट है, जिसे पकड़ा गया है। इसे सीरिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकियों ने बनाया है।

इटली कीजांच एजेंसी गुआर्डिया डी फिनांजा के मुताबिक, पुलिस ने सालेर्नो शहर में तीन शिपिंग कंटेनर्सको पकड़ा। इसमें 8454 करोड़ रु. के 8.4 करोड़ से ज्यादा गोलियां थीं।। पुलिस ने बुधवार को बताया कि इसका कुल वजन 15 टन से ज्यादा था।

जांच एजेंसी के मुताबिक, ड्रग्स को बेहद चालाकी से छिपाया गया था।पुलिस को ड्रग्स मामले में चल रहे एक केस के जरिए इसकी जानकारी मिली थी। इसी आधार पुलिस ने यह पता लगाया कि ड्रग्स को कहां ले जाया जा रहा था।

यूरोप में ड्रग्स आई के सहयोगियों को भेजे गए थे

आईएस अपनी आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए धन जुटाने के लिए एम्फीटेमाइंस ड्रग बनाता है। वहीं, अलग-अलग जगह मौजूदअपने सहयोगियों के जरिए इसे दूसरे देशों में भेजता है। पुलिस का मानना है कि ड्रग्स पूरे यूरोप में मौजूद अन्य आपराधिकसमूहों को भेजे गए थे।

महामारी के चलते यूरोप में ड्रग्स का प्रोडक्शन बंद

पुलिस ने कहा कि कोरोनावायरस महामारी के चलते यूरोप में सिंथेटिक ड्रग्स का प्रोडक्शन और डिस्ट्रीब्यूशन बंद हो गया है। इस वजह से आपराधिक समूहों ने सीरिया का रुख किया है। अधिकारियों का कहना है कि यह संभव है कि ड्रग्स का और शिपमेंट अभी रास्ते में ही हो या इससे पहले कंसाइनमेंट न पकड़ा गया हो।

ये भी पढ़ें

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स ने कहा- लश्कर और जैश जैसे आतंकी संगठनों की फंडिंग रोकने में पाक नाकाम, ग्रे लिस्ट में ही रहेगा



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
इटली पुलिस ने कहा कि 8.4 करोड़ गोलियां बरामद की गई हैं। इनका वजह 14 टन के करीब है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3ikQQvm

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान