कुर्सी बचाने के लिए नाराज नेताओं के घर पहुंचे प्रधानमंत्री ओली; इस्तीफे पर आज हो सकता है फैसला

नेपाल की सियासत के लिहाज से शनिवार अहम साबित हो सकता है। आज प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के इस्तीफे पर फैसला हो सकता है। सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) की स्टैडिंग कमेटी के 40 में से 33 नेता ओली के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ओली नाराज नेताओं में से कुछ मनाने उनके घर तक जा रहे हैं। हालांकि, मुख्य विरोधी पुष्प कमल दहल प्रचंड से उन्होंने अपने घर ही तीन घंटे मुलाकात की। एनसीपी की दूसरी विंग के नेताओं से भी प्रचंड ने बातचीत की।

कोविड-19 पर काबू पाने के मामले में ओली पहले ही निशाने पर थे। भारत और चीन के विवाद में जब उन्होंने भारत पर सरकार गिराने की साजिश रचने के आरोप लगाए तो मामला ज्यादा बिगड़ गया। अब उनसे इस्तीफा मांगा जा रहा है।

कुर्सी बचाने की हर कोशिश
एनसीपी के कुछ दूसरी यूनिट नेपाल में प्रभावशाली मानी जाती हैं। काठमांडू पोस्ट अखबार के मुताबिक, ओली ने इन यूनिट के बड़े नेताओं से मुलाकात की और सहयोग मांगा। इनमें से कुछ नेताओं के तो वे ऑफिस या घर तक पहुंच गए। पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष प्रचंड से 3 घंटे अपने घर बातचीत की।

आज स्थायी समिति की बैठक
एनसीपी की स्थायी समिति की आज बैठक होगी। इसमें ओली के भाग्य का फैसला हो सकता है। प्रचंड और ओली की तीन घंटे की मुलाकात में क्या बात हुई, यह जानकारी तो नहीं दी गई, लेकिन मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि दोनों नेताओं में विश्वास बहाली को लेकर चर्चा हुई। प्रचंड ने राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी से भी मुलाकात की।

ओली का राह मुश्किल
बुधवार को प्रचंड की अध्यक्षता में पार्टी की स्थाई समिति की बैठक में 44 में से 33 सदस्यों ने ओली के इस्तीफे की मांग की थी। इसके बाद गुरुवार को ओली के इस्तीफे पर सहमति नहीं होने पर समिति की बैठक टाल दी गई थी। अब पार्टी के टूटने का खतरा भी मंडरा रहा है। खास बात ये है कि ओली स्टैंडिंग कमेटी की 7 दिन चली मीटिंग में से सिर्फ 2 में ही शामिल हुए। वे पार्टी नेताओं के सवालों का जवाब देने से बचते रहे।

नई पार्टी बना सकते हैं
ओली के नई पार्टी बनाने की चर्चा है। बताया जा रहा है कि उन्होंने नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी-यूएमएल के नाम से पार्टी का रजिस्ट्रेशन भी कराया है। संकट के बीच काठमांडू में चीन की राजदूत होउ यानकी को राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी ने डिनर पर बुलाया किया। नेपाल में सबसे ताकतवर राजदूत के रूप में पहचान बनाने वाली यानकी राजनीतिक संकट सुलझाने में भी सक्रिय हैं। प्रधानमंत्री ओली, पूर्व प्रधानमंत्री व नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल प्रचंड से भी इस दौरान उन्होंने मुलाकात की है।

नेपाल में जारी सियासी घमासान से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं...

1. नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं ने कहा- भारत पर प्रधानमंत्री ओली के आरोप बेबुनियाद, उन्हें फौरन इस्तीफा देना चाहिए
2. इस्तीफे की मांग के बीच ओली थोड़ी देर में देश को संबोधित करेंगे, राष्ट्रपति से मुलाकात की; बजट सत्र भी स्थगित
3. इमरान ने ओली से फोन पर बातचीत का वक्त मांगा, ओली ने भारत पर सरकार गिराने की साजिश का आरोप लगाया था



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (दाएं) के साथ सीनियर लीडर और पूर्व प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड। माना जा रहा है कि अगर ओली इस्तीफा देते हैं तो प्रचंड का कुर्सी पर दावा सबसे मजबूत होगा। (फाइल)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3gqQbHa

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान