ट्रम्प ने कहा- कोरोना की समस्या हल होने तक कोई चुनावी रैली नहीं करेंगे, वोटरों से जुड़ने के लिए टेलीफोनिक रैली कर रहे 

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अपनी सभी चुनावी रैलियां रोक दी हैं। इन रैलियों की जगह वह वोटरों से टेलीफोन के जरिए जुड़ेंगे। इसको टेलीफोनिक-रैली या टेली-रैली नाम दिया गया है।कोरोना संक्रमण बढ़ने और चारों तरफ से आलोचनाएं झेलने के बाद ट्रम्प ने यह फैसला लिया है। वेलगातार महामारी के प्रोटोकॉल तोड़ते रहे हैं। लेकिन, अब लगता है कि वे बैकफुट पर हैं। हाल ही में उन्होंने मॉस्क भी लगाया था।

ट्रम्प ने कहा- हमारे पास दुनिया का सबसे बेहतर टेस्टिंग प्रोग्राम
ट्रम्प ने शुक्रवार कोविस्कॉन्सिन में अपनी पहली टैली रैली में कहा, ‘‘मैं आपके साथ रहना चाहता हूं। हम वैक्सीन बनाने और इलाज ढूंढने की दिशा में बहुत अच्छा कर रहे हैं। लेकिन, जब तक यह समस्या हल नहीं हो जाती, बड़े पैमाने पर रैली करना कठिन होगा,इसलिए मैं टेलीफोनिक रैलियां कर रहा हूं। हम इन रैलियों को भी ट्रम्प रैली कहेंगे, लेकिन हम यह टेलीफोन के जरिए करेंगे।’’ट्रम्प ने अमेरिका के कोरोनावायरस टेस्टिंग प्रोग्राम की तारीफ की। उन्होंने कहा कि यह दुनिया में सबसे बड़ा और अच्छा प्रोग्रामहै। अमेरिका में अभी तक 5 करोड़ से ज्यादा लोगों का टेस्ट किया जा चुका है।

टुलसा में हुई पहली रैली की भी बात की
ट्रम्प ने टेलीरैली में टुलसा में हुई अपनी पहली रैली का भी जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि यह रैली यादगार रही। तमाम रुकावटों के बावजूद वहां जबर्दस्‍त भीड़हुई। कोरोना संक्रमण के बीच 20 जून को ओकलाहोमा के टुलसा में रैली करने पर ट्रम्प सवालों के घेरे में आ गए थे। कोरोना के डर से उनकी रैली में बहुत कम लोग पहुंचे थे। अमेरिकी मीडिया के मुताबिक केवल 6 हजार लोग रैली में पहुंचे थे। यह भीबता गयाकि ट्रम्प की रैली में सोशल डिस्टेंसिंग के कोई नियम नहींथे।

तुलसा रैली में कई लोग संक्रमित हुए थे
ट्रम्प के इलेक्शन कैंपन के मुताबिक टुलसा रैली की तैयारी करने वाली टीम के छह मेंबर कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।वॉशिंगटन पोस्टके मुताबिक टुलसा रैली के बादअमेरिका के कई सीक्रेट सर्विस के अधिकारियों ने खुद को 14 दिन के लिए क्वारैंटाइन कर लिया था। इनमें से दो कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। अमेरिका में अभी तक संक्रमण के 38 लाख 33 हजार 271 मामले सामने आए हैं और 1 लाख 42 हजार 877 लोगों की मौत हो गई है।

कोरोनावायरस से जुड़ीं ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1.कोरोना की पहली वैक्सीन रूस में बनी:मॉस्को की यूनिवर्सिटी सारे ट्रायल पूरे करने में सबसे आगे, सितंबर तक Gam-COVID वैक्सीन बाजार में आ सकती है

2.महामारी में सबसे चर्चित दवाओं की कहानी:रेमेडेसिविर सबसे भरोसेमंद दवा, सबसे खराब हाइड्रॉक्सिक्लोरोक्वीन; 19 ड्रग्स और ट्रीटमेंट के नतीजों से जानिए- कौन कारगर और कौन फेल



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना संक्रमण के बीच 20 जून को ओकलाहोमा के टुलसा में चुनावी रैली की थी। इसको लेकर उनको आलोचना झेलनी पड़ी थी। -फाइल फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2CKbPYe

Comments

Popular posts from this blog

ट्रम्प की लोकप्रियता बढ़ रही; बिडेन 43% लोगों की पसंद तो ट्रम्प को 40% लोगों का साथ, जुलाई में यह अंतर 7% से ज्यादा था

ट्रम्प मेक अमेरिका ग्रेट अगेन के नारे के साथ इस साल चुनाव जीतना चाहते हैं, जिनपिंग चीन की इमेज सुधारने की कोशिश में हैं

इटली में लाॅकडाउन पालन कराने के लिए 8000 मेयर ने मोर्चा संभाला; सड़काें पर उतरे, फेसबुक से समझाया फिर भी नहीं माने ताे ड्राेन से अपमान